Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» प्रति एकड़ प्रीमियम लिया 336, क्लेम दिया 2.79 रुपए

प्रति एकड़ प्रीमियम लिया 336, क्लेम दिया 2.79 रुपए

खरीफ सीजन 2017 में कबीरधाम जिले में फसल बीमा करने वाली इफको टोकियो इंश्योरेंस कंपनी और सरकार ने किसानों के साथ मौसम...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 27, 2018, 02:40 AM IST

प्रति एकड़ प्रीमियम लिया 336, क्लेम दिया 2.79 रुपए
खरीफ सीजन 2017 में कबीरधाम जिले में फसल बीमा करने वाली इफको टोकियो इंश्योरेंस कंपनी और सरकार ने किसानों के साथ मौसम से भी भद्दा मजाक किया है। क्लेम के तौर पर 2 रुपए 79 पैसे तक क्लेम जमा करवाए हैं, जबकि प्रति एकड़ किसानों से 336 प्रीमियम लिया था।

कंपनी ने 12,590 किसानों को ही 22.16 करोड़ क्लेम दिया है, जबकि 65,188 किसानों ने फसल बीमा कराया था। जिन्हें क्लेम बांटे हैं, उनमें भी 280 किसान ऐसे हैं, जिन्हें 100 रुपए से भी कम क्लेम मिला है।

7.23 करोड़ प्रीमियम: सूखे से 65,188 हजार किसान प्रभावित हुए और 95132.43 हेक्टेयर में लगी धान व सोयाबीन की फसल को नुकसान पहुंचा। इससे पहले इन किसानों ने 7.23 करोड़ रुपए प्रीमियम देकर इफको टोकियो कंपनी में बीमा कराया। सूखे के बाद हाल ही में 12,590 किसानों के खाते में 22,1689444 रुपए क्लेम डाले गए हैं। अभी 6,404 किसानों को 9.20 करोड़ रुपए क्लेम देना बाकी है।

कवर्धा. क्लेम राशि नहीं मिलने की शिकायत लेकर कलेक्टोरेट पहुंचे किसान।

ये है किसानों को ठगने का फाॅर्मूला:

ये सारा काम राजस्व विभाग करता है, जिसका फार्मूला है। थ्रेस होल्ड उपज को इस साल के वास्तविक उपज से घटा देते हैं। फिर बचत को थ्रेस होल्ड उपज से भाग देकर कुल बीमित राशि से गुणा कर देते हैं। उदाहरण के तौर पर इसे समझिए..

मान लो किसी किसान का थ्रेस होल्ड यानि औसत उपज- 1610 किलो है। अब इसे वास्तविक उपज 1609.163 से घटा देते हैं, तो 0.837 बचता है। अब इसे थ्रेस होल्ड उपज 1610 से भाग देने पर 0.5198 आता है। अब इसे कुल बीमित राशि 7476 रुपए से गुणा कर देते हैं, ताे 3.88 रुपए आता है, जो क्षतिपूर्ति राशि है।

पड़ताल: क्लेम के मिले 2.79 रुपए

केस 1. लोहारा ब्लॉक के ग्राम बासिनझोरी के किसान शिवराम पिता मयाराम ने अपने 2 एकड़ फसल का बीमा कराया था। सूखे से फसल खराब होने पर उसे न्यूनतम 2500 रुपए तक क्लेम मिलना था, लेकिन खाते में 2.79 रुपए क्लेम आए हैं। इसी गांव के ही किसान दिनेश पिता शिवलाल को 3.17 रुपए क्लेम मिला है।

केस 2. सहसपुर लोहारा ब्लॉक अंतर्गत बीरेन्द्र नगर के किसान लाऊ पिता खेदूराम के खाते में 5 रुपए क्लेम आया है। यानि एक क्विंटल धान के बराबर भी उसे रकम नहीं मिली। जबकि सबकुछ सही रहने पर 2 एकड़ रकबे का धान बेचने किसान को 25 हजार रुपए से ज्यादा का भुगतान मिलता।

केस 3. चरडोंगरी गांव के किसान चंद्रकुमार पिता अयोध्या को फसल बीमा क्लेम के तौर पर 14 रुपए खाते में डाले गए हैं। इसी गांव के एक अन्य किसान रोहित पिता सरवन को 26 रुपए क्लेम मिला है। किसानों के मुताबिक यह रकम उनके काम की नहीं है।

उपज के अनुसार क्लेम

किसानों को औसत उपज के हिसाब से क्लेम देते हैं। राजस्व विभाग ने जो सर्वे रिपोर्ट दी थी, उसके हिसाब से ही क्लेम राशि जारी हुई है। कुछ किसानों को 2-4 रुपए भी मिले हैं, लेकिन इसमें कंपनी की कहीं कोई गलती नहीं है। वैभव शुक्ला, स्टेट मैनेजर, इफको टोकियो इंश्योरेंस कंपनी

खाते में डाल रहे हैं...

जिन किसानों को लोन दिया गया है, उनके लोन से प्रीमियम काटना बैंकों का काम है। जैसे- जैसे क्लेम की रािश आ रही है, खाते में डाल रहे हैं। नारायण जंघेल, नोडल अधिकारी, जिला केंद्रीय सहकारी बैंक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×