• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • डेढ़ हजार स्पीड पोस्ट और मनीआॅर्डर पत्र हुए पेंडिंग
--Advertisement--

डेढ़ हजार स्पीड पोस्ट और मनीआॅर्डर पत्र हुए पेंडिंग

मुख्य पोस्ट ऑफिस समेत जिलेभर के 73 डाकखानों में कार्यरत 104 डाक सेवक 22 मई से बेमुद्दत हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल से डाक...

Danik Bhaskar | May 31, 2018, 02:40 AM IST
मुख्य पोस्ट ऑफिस समेत जिलेभर के 73 डाकखानों में कार्यरत 104 डाक सेवक 22 मई से बेमुद्दत हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल से डाक सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हो गई है। ऑफिस में डेढ़ हजार से ज्यादा स्पीड पोस्ट, मनीआर्डर पत्र, पार्सल और रजिस्ट्रियां पड़ी है, जो अपने बंटने का इंतजार कर रही है।

इधर जिन लोगों को ये स्पीड पोस्ट व मनीआर्डर मिलना है, वे जानकारी लेने डाकघर पहुंच रहे हैं। लेकिन स्टॉफ की कमी का हवाला देकर उपलब्ध कर्मचारी काम करने से बच रहे हैं। शहर में डाक सेवा के विकल्प के रूप में कोरियर सेवा है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में ये सुविधा न होने से डाक सेवकों की हड़ताल का खासा असर पड़ रहा है। जीडीएस कमेटी के सुझाव को लागू करने, ग्रामीण डाक सेवकों को 8 घंटे कार्य व विभागीयकरण पेंशन लागू करने और केंद्रीय कैट व मद्रास बैंच के आदेशानुसार जीडीएस को पेंशन लागू करने संबंधी मांग शामिल है।

संभागीय सचिव बोले- जीडीएस कमेटी पर सहमत पर कांटछांट मंजूर नहीं: अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवक संघ के संभागीय सचिव दिनेश शर्मा बताते हें कि ग्रामीण डाक सेवकों की समस्याओं के निराकरण के लिए केंद्र सरकार ने जीडीएस कमेटी बनाई है। इसकी अनुशंसा से डाक कर्मी सहमत है, लेकिन अब अनुशंसाओं में कांटछांट की जा रही है, जो मंजूर नहीं है। उनका कहना है कि लंबे समय से 7वां वेतनमान की मांग की जा रही है।

कवर्धा.मुख्य डाकघर में पड़े स्पीड पोस्ट व मनीआर्डर पत्र।

बेरोजगारों को दिक्कत

रेलवे, पुलिस, बैंक समेत विभिन्न शासकीय विभागों में भर्ती प्रक्रिया चल रही है। प्रक्रिया के तहत आवेदकों को परीक्षा प्रवेश पत्र और नियुक्ति पत्र डाकघर के माध्यम से भेजा जाता है। यदि हड़ताल लंबी खिंच गई, तो बेरोजगारों की परेशानी बढ़ सकती है। समय पर प्रवेश पत्र नहीं मिलने से भर्ती प्रक्रिया से वंचित हो सकते हैं।