--Advertisement--

राज्य में पहली बार पेंशन प्रणाली हुई ऑनलाइन

भास्कर न्यूज | कवर्धा/बेमेतरा राज्य के कोष लेखा व पेंशन विभाग ने मई में राज्यभर में रिटायरमेंट होने वाले 687...

Danik Bhaskar | May 31, 2018, 02:40 AM IST
भास्कर न्यूज | कवर्धा/बेमेतरा

राज्य के कोष लेखा व पेंशन विभाग ने मई में राज्यभर में रिटायरमेंट होने वाले 687 कर्मचारियों के लिए विशेष पहल किया है। इसमें कबीरधाम जिले के 17 कर्मचारी शामिल हैं। विभाग ने एनआईसी यानि राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के माध्यम से आभार नामक साफ्टवेयर तैयार किया है। इसमें इस माह रिटायरमेंट होने वाले कर्मचारियों को पेंशन की प्रक्रिया को अपडेट किया है।

इसके जरिए सीधे तौर पर कर्मचारियों को रिटायरमेंट होने के बाद पेंशन के लिए कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। कर्मचारियों को रिटायरमेंट के तुरंत बाद उनकी पेंशन राशि खाते में आना शुरु हो जाएगी। यह पहल करने वाला छत्तीसगढ़ देश का दूसरा राज्य होगा। इसके पहले इसी माह में राजस्थान में यह प्रोजेक्ट लॉन्च हुआ है।

राजस्थान ने 2 साल में तैयार किया प्राेजेक्ट, हमने 6 माह में ही तैयार कर ली: छत्तीसगढ़ कोष लेखा एवं पेंशन विभाग के संचालक आईएएस शिखा राजपूत तिवारी ने बताया कि इस आभार साफ्टवेयर को 6 माह के भीतर तैयार किया गया है। उन्होंने बताया कि देश में राजस्थान ने इसी माह इस तरह के प्रोजेक्ट को लांच किया है। राजस्थान को अपने इस प्रोजेक्ट के लिए 2 साल का समय लगा, तब जाकर सफलता हासिल हुई। अब कोष एवं लेखा विभाग इसी माह इस सॉफ्टवेयर को लांच करने जा रही है।

हाईटेक बने हम

देश का दूसरा राज्य बना छत्तीसगढ़, आभार नामक साॅफ्टवेयर से ऑनलाइन होगी नई पेंशन प्रणाली

जिले के सभी डीडीओ दी जा चुकी है ट्रेनिंग

कबीरधाम जिले के कोषालय अधिकारी देवेन्द्र चौबे ने बताया कि 16 मई को जिले के 103 डीडीओ को इस साॅफ्टवेयर संबंधित ट्रेनिंग जिला पंचायत के सभाकक्ष में दी गई है। इस ट्रेनिंग के बाद जिले में मई माह में रिटायरमेंट होने वाले 17 कर्मचारियों के पेंशन खाते में सुविधा मिलेगी। वहीं दूसरे चरण जिले में पहले से रिटायर हो चुके करीब 16 सौ पेंशनधारियों के पेंशन अकाउंट को इस सॉफ्टवेयर से अपडेट किया जाएगा।

इस महीने रिटायर होने वालों की स्थिति पर एक नजर

जिला कर्मचारियों की संख्या

दुर्ग 56

बेमेतरा 10

कबीरधाम 17

राजनांदगांव 58

बालोद 25

(आंकड़े विभाग के वेबसाइट के आधार पर दिए गए हैं।)

अपडेट करेंगे डाटा


यह है आभार साॅफ्टवेयर

ट्रेनिंग लेकर पहुंचे जिले के कोषालय अधिकारी देवेन्द्र चौबे ने बताया कि वर्तमान में अभी तक पेंशन के सभी प्रकरण मैनुअली किया जाता रहा है। रिटायरमेंट हुए कर्मचारी की फाइल 4 जगहों से होकर गुजरा करती थी। इसमें संबंधित कर्मचारी का कार्यालय, पेंशन कार्यालय, कोषालय व बैंक में फाइल जाती थी। इससे प्रक्रिया में अधिक समय लगता था। अब इन प्रकिया को पूर्ण रुप से ऑनलाइन किया गया है। इससे कर्मचारी की फाइल ऑनलाइन इन कार्यालय में पहुंच जाएगी जिससे सहूलियत होगी।