--Advertisement--

खंभे ताने, 3 साल पहले आधा घंटा ही रही बिजली

ब्लॉक मुख्यालय पंडरिया से करीब 42 किलोमीटर दूर बैगा बाहुल गांव अजरूटोला की बसाहट है। करीब 400 आबादी वाले गांव में...

Danik Bhaskar | Jun 06, 2018, 02:40 AM IST
ब्लॉक मुख्यालय पंडरिया से करीब 42 किलोमीटर दूर बैगा बाहुल गांव अजरूटोला की बसाहट है। करीब 400 आबादी वाले गांव में लाइन खींचकर खंभे तो तान दिए गए हैं, लेकिन यहां 3 साल पहले सिर्फ आधे घंटे के लिए बिजली आई थी। उसके बाद से यहां रहने वाले परिवारों को बिजली की सुुविधा नहीं मिली।

ये सब हुआ है, बिजली कंपनी के अजब कारनाने की वजह से। वर्ष 2015 को इस गांव में विद्युतीकरण कार्य किया गया। 10 से अधिक पोल लगाए गए। पॉवर सब-स्टेशन कुई से लाइन खींची गई, तो ग्रामीणों को उनके घरों में बिजली की रोशनी आने की उम्मीद जगी थी, लेकिन यह खुशी कुछ पल के लिए थी। क्योंकि 3 साल पहले सिर्फ आधे घंटे के लिए बिजली आई, उसके बाद सप्लाई बंद हो गई, जो आज तक नहीं आई। ग्रामीण हरेलाल सिंह और मोहन बताते हैं इसी अंधेरे में सोमवार रात को यहां एक बैगा परिवार में वैवाहिक कार्यक्रम निपटा।

करीब 400 आबादी वाले इस गांव में चिमनी जलाकर दूर करते हैं अंधेरा: बैगा बाहुल अजरूटोला गांव में की आबादी करीब 400 है। बिजली नहीं होने से इस गांव के लोग रात में चिमनी जलाकर घरों का अंधेरा दूर करते हैं। वर्षों से ग्रामीण घरों के आसपास खंभे को देख रहे हैं, लेकिन बिजली कब आएगी, इसका पता नहीं है। स्थानीय जनप्रतिनिधियों को समस्या बताने पर सिर्फ आश्वासन ही मिलता है।

दो महीने से खंभे गिरे, लाइन टूटी पर सुधारे नहीं: पॉवर सब- स्टेशन नेऊर से 11केवी लाइन ग्राम कांदावानी से पंडरीपानी तक गया है। ये लाइन कई जगहों पर टूट गई है। खंभे जमीन पर धराशायी है। पिछले दो महीने से यही स्थिति है, लेकिन अब तक इसे सुधारा नहीं जा सका है। लाइन टूटने से इलाके के बाहपानी, भल्लीनदादर, बांगर, राहीदाढ़, साईटोला में बिजली बंद है।