Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» संविलियन की घोषणा से जिले के 5200 शिक्षाकर्मियों में उत्साह

संविलियन की घोषणा से जिले के 5200 शिक्षाकर्मियों में उत्साह

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार को अंबिकापुर विकास यात्रा के मंच से प्रदेश में शिक्षाकर्मियों के संविलियन की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 11, 2018, 02:40 AM IST

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार को अंबिकापुर विकास यात्रा के मंच से प्रदेश में शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि जल्द की कैबिनेट की बैठक में इसका आदेश लाया जाएगा। आदेश से जिले के 5200 शिक्षाकर्मियों में हर्ष है और अब वे कैबिनेट में अंतिम मुहर लगने का इंतजार कर रह हैं।

संघ के प्रदेश प्रवक्ता गजरात सिंह राजपूत का कहना है कि बिना वर्ष बंधन किए वेतन विसंगति दूर करते हुए सभी शिक्षाकर्मियों को संविलियन का लाभ दिया जाना चाहिए। राज्य में करीब 1.80 शिक्षाकर्मी संविलियन के लिए लगातार आंदोलन कर रहे थे। मध्यप्रदेश के शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा के बाद छत्तीसगढ़ में भी इसके लिए प्रयास किया जा रहा था। करीब 20 साल से प्रयास के बाद अब उसका सार्थक नतीजे मिलने वाला है।

रेगुलर शिक्षकों के समान मिलेगा वेतन: शिक्षा विभाग में संविलियन से शिक्षाकर्मियों को रेगुलर कर्मचारियों के समान वेतन मिल सकेगा। उनकी स्थानांतरण नीति स्पष्ट हो जाएगी। अनुकंपा नियुक्ति मिल सकेगी। वेतन के लिए बजट में प्रावधान हो सकेगा, जिससे हर महीने नियमित समय पर उन्हें सैलरी मिल सकेगी। सुविधा भी होगी।

फिलहाल जिले में ये है स्थिति

अभी शिक्षाकर्मी पंचायतीराज के अधीन कर्मचारी के रूप में कार्यरत हैं। पंचायत विभाग की ही पूरी सुविधाएं नहीं मिल रही है। जैसे अनुकंपा नियुक्ति का लाभ नहीं मिल रहा है। स्थानांतरण नीति ठीक नहीं है। केंद्र से अनुदान मिलने पर ही शिक्षाकर्मियों के को वेतन देने आवंटन जारी होता है। पदाेन्नति-क्रमोन्नति के प्रकरण अटके हुए हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×