--Advertisement--

106 डीडीओ से 1-1 रुपए का हिसाब लेगी सीएजी टीम

केन्द्र सरकार अपने महालेखाकार कार्यालय(सीएजी) द्वारा राज्य के सभी जिलों के डीडीओ यानि आहरण और संवितरण अधिकारी से...

Danik Bhaskar | Jun 15, 2018, 02:40 AM IST
केन्द्र सरकार अपने महालेखाकार कार्यालय(सीएजी) द्वारा राज्य के सभी जिलों के डीडीओ यानि आहरण और संवितरण अधिकारी से 2013-14 से लेकर अब तक के शासकीय राशि की हिसाब लेने वाली हैं। इसे लेकर जिले में सीएजी की टीम कवर्धा पहुंची है।

टीम द्वारा जिले के 106 डीडीओ से पिछले 5 साल के अकाउंट का हिसाब लेने के लिए पत्र लिखा हैं। इसे लेकर टीम द्वारा गुरुवार को जिला पंचायत के सभाकक्ष में जानकारी दी गई। लेकिन केन्द्र सरकार के इस अादेश के बाद जिले के 106 डीडीओ में हड़कंप मच गया हैं। दरअसल जिले के डीडीओ के ज्यादातर हिसाब पूरा नहीं है। हिसाब नहीं मिलने पर शासन द्वारा कार्रवाई की जा सकती है।

100 से अधिक एकाउंटेंट को दी गई ट्रेनिंग, 20 तारीख तक हिसाब देने किया गया आदेश: जिला पंचायत के सभाकक्ष में महालेखाकार कार्यालय(सीएजी) के वरिष्ठ लेखा अधिकारी देबानंद पटनायक, सहायक लेखा परीक्षा महेश मेश्राम समेत अन्य अफसरों द्वारा ट्रेनिंग दी गई।

ट्रेनिंग में पिछले 5 वर्षों के हिसाब 37 पेजों के प्रपत्र में देने को कहा गया हैं। इस प्रपत्र को 20 जून तक टीम के पास जमा किया जाना हैं। इसके बाद केन्द्र से पहुंची टीम द्वारा जांच किया जाएगा। रिर्पोट को 11 जुलाई तक सीएजी कार्यालय रायपुर में प्रस्तुत किया जाएगा। वहीं ये टीम कबीरधाम जिले में 1 माह के लिए रुकेगी। इसके अलावा जानकारियां भी दी गई। गुरुवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण में डिप्टी कलेक्टर एसएस सोम, देवेन्द्र चौबे,अदिति वासनिक समेत सभी विभाग के अकाउंटेंट मौजूद थे।

बताएं कहां खर्च किया

डीडीओ के ज्यादातर हिसाब पूरा नहीं है, हिसाब नहीं मिलने पर शासन द्वारा कार्रवाई की जा सकती है, दिया प्रशिक्षण

कवर्धा.जिला पंचायत के सभाकक्ष में अकाउंटेंटको ट्रेनिंग दी गई।

बारीकी से जांच के बाद हो सकता है बड़ा खुलासा

केन्द्र सरकार द्वारा राज्य के सभी विभागों के अकाउंट की जांच कराई जा रहीं हैं। जांच के बाद कोई बड़ा खुलासा हो सकता हैं। पूर्व में तत्कालीन कलेक्टर नीरज कुमार बनसोड द्वारा जिला अस्पताल के अकाउंट की जांच कराई गई थी। इसमें करीब 2 करोड़ रुपए के हिसाब की गड़बड़ी पाई गई थी। इस मामले में अभी भी जांच चल रही है। वर्तमान में केन्द्र की टीम द्वारा 106 डीडीओ को प्रपत्र दिया गया है, जिसे भरकर टीम के पास वापस जमा करना हैं। वहीं केन्द्र से पहुंची टीम के प्रमुख अफसर देबानंद पटनायक ने सभी डीडीओ अकाउंट की जांच को लेकर कुछ कहने से इंकार किया हैं।