• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • मुठभेड़ के 21 दिन बाद मारे गए नक्सली की हुई शिनाख्त
--Advertisement--

मुठभेड़ के 21 दिन बाद मारे गए नक्सली की हुई शिनाख्त

तरेगांव जंगल थाना क्षेत्र के धूमाछापर जंगल में 31 मई को हुए पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए नक्सली की शिनाख्त मंगू...

Danik Bhaskar | Jun 23, 2018, 02:40 AM IST
तरेगांव जंगल थाना क्षेत्र के धूमाछापर जंगल में 31 मई को हुए पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए नक्सली की शिनाख्त मंगू उफ सुनील के रूप में की गई है। मृत नक्सली विस्तार प्लाटून नंबर- 3 का सक्रिय सदस्य था। उसके ऊपर 3 लाख रुपए का इनाम भी था।

मारे गए नक्सली के शिनाख्त की पुष्टि एसपी डॉ. लाल उमेंद सिंह ने की है। एसपी ने बताया कि मृत नक्सली पूर्व में एरिया मकेटी में काम कर चुका था। इस दौरान बस्तर के कई नक्सल वारदातों में भी शामिल रह चुका था। 31 मई को धूमाछापर में पुलिस के साथ मुठभेड़ में वह मारा गया। तब से उसके शिनाख्त की कोशिश की जा रही थी। मुठभेड़ के 21 दिन बाद उसकी पहचान हो पाई। इसके साथ काम कर चुके गिरफ्तारशुदा नक्सलियों को उसकी फोटो दिखाई। इस पर मंगू उर्फ सुनील के तौर पर उसकी शिनाख्त हुई है।

इधर पुलिस और नक्सली मुठभेड़ की जांच शुरू: इधर धूमाछापर के जंगल में हुई पुलिस सर्चिंग पार्टी व नक्सलियों के बीच मुठभेड़ की दण्डाधिकारी जांच शुरू हो गई है। एसपी से मिले प्रतिवेदन के अनुसार कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने जांच के लिए बोड़ला एसडीएम अभिषेक अग्रवाल को जांच अधिकारी नियुक्त किया है। जांच के लिए 6 बिंदु निर्धारित हैं, जिस पर जांच अधिकारी प्रतिवेदन पेश करेंगे।

जांच में मुठभेड़ का संपूर्ण घटनाक्रम क्या है, पुलिस आैर नक्सलियों के मध्य फायरिंग किन परिस्थितियों में कितनी और कैसे हुई समेत 4 अन्य बिंदु शामिल हैं।