--Advertisement--

नियमित शिक्षकों काे जल्दी चाहिए प्रमोशन

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शिक्षाकर्मियों के संविलियन का ऐलान कर रेगुलर शिक्षकों/व्याख्याताओं को संशय में डाल...

Danik Bhaskar | Jun 16, 2018, 02:45 AM IST
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शिक्षाकर्मियों के संविलियन का ऐलान कर रेगुलर शिक्षकों/व्याख्याताओं को संशय में डाल दिया है। उनका तर्क है कि इससे उनकी वरिष्ठता खतरे में पड़ गई है। इसलिए वे प्राचार्य के रिक्त पदों पर प्रमोशन की मांग कर रहे हैं। छग व्याख्याता संघ की मीटिंग में पहुंचे संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी को इस बात से अवगत भी कराए हैं।

संघ ने मांग की है कि व्याख्याता से प्राचार्य पद की पदोन्नति सूची एक निश्चित समय के भीतर जारी कर भरे गए पदों के बाद शेष पदों की प्रतीक्षा सूची अविलंब जारी की जाए। क्योंकि अगर उनके प्रमोशन से पहले शिक्षाकर्मियों का संविलियन हुआ तो उनकी वरिष्ठता खतरे में आ जाएगी आैर वे उनसे आगे निकल जाएंगे। ऐसी स्थिति में शिक्षा जगत में सीनियर और जूनियर शिक्षकों के बीच विवाद खड़ा हो जाएगा। हालांकि संसदीय सचिव चंद्रवंशी ने व्याख्याता संघ को आश्वस्त किया है कि संविलियन से वरिष्ठ व नियमित शिक्षकों की वरिष्ठता प्रभावित नहीं होगी। वे खुद मुख्यमंत्री से इस संबंध में चर्चा करेंगे।

संघ ने की ये प्रमुख मांग: पदोन्नति के अलावा परिवार के सदस्यों को 2 लाख रुपए तक कैशलेस हेल्थ कार्ड, मेडिकल व वाहन भत्ता देना।

कवर्धा. संघ की मीटिंग में शामिल वरिष्ठ शिक्षक।

संघ कार्यकारिणी का हुआ गठन, विजय बने सचिव

मीटिंग में छग व्याख्याता संघ के प्रांताध्यक्ष राकेश शर्मा और जिलाध्यक्ष वेदराम पात्रे की मौजूदगी में जिला व ब्लॉक कार्यकारिणी का भी गठन हुआ। विजय लाल को जिला सचिव और फगुआ राम पुनाचा को सह सचिव नियुक्त किया गया। इसी तरह प्रेमसिंह टेकाम को पंडरिया ब्लॉक अध्यक्ष, नरेन्द्र कुमार चंद्रा को बोड़ला, श्रीराम निहोरा को लोहारा और कन्हैयालाल गुप्ता को कवर्धा ब्लॉक अध्यक्ष नियुक्त किया है। संघ ने सेवानिवृत्त व्याख्याता व पंडरिया बीईओ रहे एसएल पात्रे को शॉल व श्रीफल देकर सम्मानित किया। इस अवसर संघ के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।