• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • खंभों के बीच दूरी अधिक, लोड बढ़ने से ढीले होकर 9 फीट की ऊंचाई पर लटक रहे तार
--Advertisement--

खंभों के बीच दूरी अधिक, लोड बढ़ने से ढीले होकर 9 फीट की ऊंचाई पर लटक रहे तार

भास्कर न्यूज|कवर्धा/ सहसपुर लोहारा ग्राम मोहगांव में हाइटेंशन तार टूटने से युवती की हुई मौत के मामले में एक तरह...

Danik Bhaskar | Jun 16, 2018, 02:45 AM IST
भास्कर न्यूज|कवर्धा/ सहसपुर लोहारा

ग्राम मोहगांव में हाइटेंशन तार टूटने से युवती की हुई मौत के मामले में एक तरह से बिजली कंपनी की लापरवाही सामने आई है। चक्काजाम कर रहे ग्रामीणों को पीड़ित परिवार को अफसरों ने शीघ्र मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया, इसके बाद भी वे नहीं माने। करीब 3 घंटे चले हंगामे के बाद पुलिस शव को पोस्टमार्टम के लिए लेकर गई।

बिडोरा पॉवर सब-स्टेशन से मोहगांव में बिजली सप्लाई के लिए 11केवी लाइन खींचे गए हैं। करीब डेढ़ दशक पहले गांव में बिजली लगी थी। तब 30 से 40 घरों में कनेक्शन था। अब 150 से ज्यादा कनेक्शन है। तारों में लोड बढ़ गया है, लेकिन वक्त के साथ पुराने हो चुके बिजली तारों को नहीं बदला जा सका है। जिस वक्त यहां लाइन खींची गई थी, तब खंभों में तारों की ऊंचाई करीब 12 फीट थी, लेकिन दो खंभों के बीच की दूरी अधिक होने और लोड बढ़ने से तार ढीले होकर 8 से 9 फीट की ऊंचाई पर लटक रहे हैं। ग्रामीण बताते हैं कि पुराने तारों को बदलने के लिए बिजली कंपनी में कई बार आवेदन दे चुके हैं।

कवर्धा/सहसपुर लोहारा.ग्राम मोहगांव में करंट से मौत के बाद किया चक्काजाम।

गैरजिम्मेदाराना रवैया: तार 15 साल पुराना था, टूटा

जिम्मेदारी: ग्रामीण बताते हैं कि यहां लगे लाइन में आए दिन फॉल्ट आते रहती है। कई बार शिकायत करने पर भी बिजली कंपनी के अधिकारी- कर्मचारी आते नहीं। हादसे के बाद भी बिडोरा पॉवर सब-स्टेशन के लाइनमैन को कॉल किया, लेकिन वह नहीं आया। एई केके झा भी वहां काफी देर बाद पहुंचे व सफाई देते रहे।

हादसा कैसे: माेहगांव में साजा जाने वाले रोड पर अस्थायी बस स्टॉप है। एक पान ठेला के नजदीक ट्रांसफार्मर लगा है, जहां से 11 हजार केवी का लाइन खींचा गया है, जो करीब 15 से 16 साल पुराना है। कई जगहों पर तारों में ज्वाइंट है। इस वजह से तार टूटा और ये दर्दनाक हादसा हुआ।

लापरवाही: गांव में एक खंभे से दूसरे खंभे की दूरी 150 मीटर यानि करीब 500 फीट है। इससे तार का बैलेंस सही नहीं हो सकता। इसलिए तार टूटकर गिर गया। ग्रामीण बताते हैं कि जब लाइन लगाए गए थे, तब तार की ऊंचाई लगभग 12 फीट थी, लेकिन अब ये 8 से 9 फीट ही है। फिर भी अफसरों ने ध्यान नहीं दिया।

भास्कर लाइव : कपड़े झुलस कर शरीर से चिपके थे

मृतका के गले में लिपटा था 11केवी का तार- संतोष चौबे: प्रत्यक्षदर्शी संतोष कुमार चौबे बताते हैं कि वह हादसे के 20 मिनट बाद घटनास्थल पर पहुंचे। देखा की अासपास भीड़ जमा हो गई। युवती का शव जमीन पर पड़ा था। मृतका के गले में 11केवी का तार लिपटा हुआ था। कपड़े जलकर शरीर से चिपके थे। चेहरा, बाल पूरी तरह से जल चुका था। शव के हाथ में मोबाइल था। हादसे के बाद बिजली बंद हो गई।

ईई बोले- हादसे के बाद बिजली वाला ही टारगेट रहता है: कवर्धा डिवीजन के ईई वीके महालय ने कहा हादसे के बाद बिजली वाला ही टारगेट रहता है। तार कैसे टूटा पता नहीं चल पाया है। जांच के लिए एई केके झा व उनके कर्मी गांव गए थे। ग्रामीणों ने गाड़ियां तोड़ना शुरू की, तो जान बचाने वे छिप गए थे। यदि घटना में लाइनमैन दोषी है, तो जांच के बाद कार्रवाई करेंगे।

भास्कर रिकॉल:साइकिल सवार की हुई थी मौत

बिजली कंपनी की लापरवाही से यह दूसरी बड़ा हादसा हुआ है। 26 मई को पोंडी चौकी क्षेत्र के रहंगी खार में जमीन से 4 फीट ऊपर लटक रहे 11 हजार की हाइटेंशन लाइन की चपेट में आने से साइकिल सवार पुरखूराम रजक की मौत हुई थी।

गुस्साई भीड़ ने सड़क पर पत्थर रखकर किया चक्काजाम: हादसे के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने पीड़ित परिवार के मुआवजे और लाइनमैन पर कार्रवाई को लेकर अड़ गए। उन्होंने बिजली कंपनी की गाड़ियों के कांच तोड़ दिए। इतना ही नहीं साजा रोड पर पत्थर और बल्ली रखकर चक्काजाम कर दिया। गांव पहुंची पुलिस को भी शव को उठाने नहीं दिया। इस पर एसडीएम, तहसीलदार और डीएसपी ने ग्रामीणों को समझाइश देने की कोशिश की।

मामले में अपराध कायम कर जांच में लिया गया है