--Advertisement--

अध्यक्ष और सत्ता पक्ष के पार्षदों में खींचतान

नगर पालिका में सत्ता पक्ष के पार्षदों और अध्यक्ष में खींचतान चल रही है। तीन दिन पहले सत्ता पक्ष के 3 पार्षदों ने नपा...

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 02:45 AM IST
नगर पालिका में सत्ता पक्ष के पार्षदों और अध्यक्ष में खींचतान चल रही है। तीन दिन पहले सत्ता पक्ष के 3 पार्षदों ने नपा सीएमओ और अध्यक्ष पर फर्जी प्रस्ताव तैयार कर राशि गबन करने का आरोप लगाया था। मामले में अब सत्ता पक्ष के 11 अन्य पार्षद उनके बचाव में खड़े हो गए हैं। उनका कहना है कि वार्ड- 7 के पार्षद तिलक झारिया, वार्ड- 16 के पार्षद विजय पाली और वार्ड- 20 के पार्षद पवन जायसवाल के आरोप झूठे हैं।

इन तीनों ने झूठी शिकायत कर नगर पालिका और भाजपा की छवि धूमिल करने का प्रयास किया है। इतना ही नहीं, तीनों ने झूठी शिकायत में अपने साथ वार्ड-26 की पार्षद लिखेश्वरी साहू के नाम भी इस्तेमाल किया। बताया जाता है कि जिन 3 पार्षदों ने अध्यक्ष पर फर्जी प्रस्ताव तैयार करने का आरोप लगाया है, वे 12 मार्च 2018 को हुई प्रेसीडेंट इन काउंसिल (पीआईसी) की बैठक में शामिल थे। बैठक में निकाय हित संबंधी कोई विषय अगर छूट जाता है तो उपस्थित सभी पीआईसी मेंबर की सहमति से चर्चा कर उन विषयों को एजेंडा में जोड़ने का प्रावधान है। कुल मिलाकर पार्षदों में मतभेद बना हुआ है। इससे विकास कार्य बाधित हो रहे हैं।