• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • नक्सलियों के सफाये के लिए बाॅर्डर लेस ऑपरेशन चलाएंगे
--Advertisement--

नक्सलियों के सफाये के लिए बाॅर्डर लेस ऑपरेशन चलाएंगे

तरेगांव के धूमाछापर जंगल में हुई मुठभेड़ के बाद अब पुलिस ने नक्सलियों के खिलाफ बॉर्डरलेस ऑपरेशन की रणनीति बना ली...

Danik Bhaskar | Jun 03, 2018, 02:50 AM IST
तरेगांव के धूमाछापर जंगल में हुई मुठभेड़ के बाद अब पुलिस ने नक्सलियों के खिलाफ बॉर्डरलेस ऑपरेशन की रणनीति बना ली है। ऐसे में आने वाले बारिश के सीजन में नक्सलियों के कथित ट्राइजंक्शन को घेरने के लिए छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र व मध्यप्रदेश पुलिस एक साथ मुहिम चलाएगी।

नक्सलियों ने इस ट्राइजंक्शन के 8 जिलों को अपना नया वॉर एरिया बनाने के लिए चुना है। इसमें कबीरधाम जिला भी शामिल है।

राजनांदगांव से लेकर कबीरधाम और मुंगेली जिले के हिस्से से मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र के जिले लगते हैं, जो नक्सल प्रभावित माने जाते हैं। पुलिस इन्हीं जिलों में बड़ा ऑपरेशन शुरू करने जा रही है। इसे लेकर तीनों राज्यों के पुलिस अधीक्षकों व आईजी स्तर के अफसरों की बैठक पहले ही हो चुकी है। यह भी संभावना है कि इस योजना को जल्द अंतिम रूप दे दिया जाए।

इसलिए चलाएंगे बॉर्डरलेस मुहिम: स्तर के सपोर्टिंग इस नए कथित वॉर एरिया में तीन राज्यों के 8 जिले शामिल हैं। तीन राज्यों की सीमा होने का फायदा उठाते हुए नक्सली किसी भी वारदात को अंजाम देने के बाद दूसरे राज्य की सीमा में चले जाते हैं। इससे वे सुरक्षित हो जाते हैं। ऐसे में तीनों ही राज्य की ज्वाइंट टीम एक साथ योजनाबद्ध तरीके से नक्सलियों को घेरेगी।

कवर्धा. धूमाछापर के जंगल से पुलिस को सर्चिंग के दौरान मिले सामान।

अब तक नहीं हो पाई नक्सली की पहचान

तरेगांव के धूमाछापर मुठभेड़ में मारे गए नक्सली की अब तक पहचान नहीं हो सकी है। पुलिस के पास मौजूद दस्तावेज व नक्सलियों के फाइल फोटो के आधार पर मारे गए नक्सली के चेहरे का मिलान किया जा रहा है। लेकिन अब तक उसकी शिनाख्त नहीं हो सकी है। पुलिस ने प्लाटून नंबर 3 व प्लाटून नंबर 55 के सदस्यों की तस्वीरों से मारे गए नक्सली का मिलान किया है। इसके साथ ही उसकी तस्वीर राजनांदगांव व बस्तर के एंटी नक्सल टीम को भी भेजी गई है। पुलिस ने इश्तहार भी जारी किया है। इधर पुलिस को उम्मीद है कि बार्डर लेस ऑपरेशन ज्यादा सफल हो सकते हैं। पुलिस एक साथ गढ़चिरौली, गोंदिया, बालाघाट, डिंडौरी, मंडला, राजनांदगांव, कवर्धा व मुंगेली की ओर से नक्सलियों को घेरेगी।

ये सामान मिले थे धूमाछापर के जंगल से

पुलिस को मुठभेड़ वाली जगह से 315 बोर इंडियन आर्डिनेंस मेक रायफल तो मिले ही थे। साथ ही 41 जिंदा कारतूस, तंबाकू और गुटखा के पाउच, टार्च, चोट लगने पर लगाए जाने वाला मलहम, कुछ नकद रकम, नेलकटर, शुगरफ्री की डिब्बी, कुछ मात्रा में रस्सी, पानी के डिब्बे के साथ कुछ रसद भी मिले हैं। इन सामानों की जांच की जा रही है।

जाॅइंट ऑपरेशन करेंगे