Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» रेल लाइन: 50 गांव की 878 एकड़ भूमि का होगा अधिग्रहण, तय नहीं की मुआवजा राशि

रेल लाइन: 50 गांव की 878 एकड़ भूमि का होगा अधिग्रहण, तय नहीं की मुआवजा राशि

डोंगरगढ़ से कवर्धा होते हुए कटघोरा तक प्रस्तावित रेलवे लाइन के रूट को लेकर पंडरिया क्षेत्र में ढाई महीने से आंदोलन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 10, 2018, 02:50 AM IST

रेल लाइन: 50 गांव की 878 एकड़ भूमि का होगा अधिग्रहण, तय नहीं की मुआवजा राशि
डोंगरगढ़ से कवर्धा होते हुए कटघोरा तक प्रस्तावित रेलवे लाइन के रूट को लेकर पंडरिया क्षेत्र में ढाई महीने से आंदोलन जारी है। इसी बीच सरकार ने सर्वे कराकर उन किसानों की लिस्ट तैयार ली है, जिनकी जमीनें अधिग्रहण किया जाना है। सर्वे के मुताबिक रेलवे लाइन के लिए 50 गांव की 878 एकड़ भूमि का अधिग्रहण होगा। इससे कवर्धा, पंडरिया और लोहारा क्षेत्र के 1914 किसान प्रभावित होंगे।

भू-अर्जन के लिए जुलाई महीने के अंतिम सप्ताह में ही नोटिफिकेशन (अधिसूचना) जारी की जाएगी। अगर सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो अगस्त महीने में ही इसका भूमिपूजन भी कर देंगे। खास बात ये है सरकार ने अभी तक भू-अर्जन के लिए मुआवजा राशि तय नहीं किया है। हालांकि अफसरों की मानें तो किसानों को उनकी जमीनों का वर्तमान शासकीय रेट से दोगुना राशि में मुआवजा दिया जाएगा। वहीं मुआवजा नेशनल हाईवे से कम दिए जाने की संभावनाएं जताई जा रही है। ऐसे में शासन- प्रशासन को विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

फैक्ट फाइल

कवर्धा.रेल लाइन के लिए सर्वे कर भू-अर्जन करने जमीनों का चिह्नांकन, रूट को लेकर क्रमिक भूख हड़ताल जारी।

तहसील क्षेत्र के इतने गांवों में करेंगे भू-अर्जन

59.61

किमी रेल लाइन बिछेगी कबीरधाम जिले में

पंडरिया तहसील: ग्राम घीकुटिया, दामापुर, खैरा तुलसी, गोबर्रा, कोदवा कला, सैहामालगी, अकबर कापा, बिपतपुर, भाठरुसे, मोतेशहर, सोमनापुर और कवलपुर।

न्यूनतम 5 डिसमिल से 7 एकड़ तक करेंगे भू-अर्जन

रेल लाइन के लिए कवर्धा तहसील के 23 गांव, सहसपुर लोहारा के 15 और पंडरिया तहसील के 12 गांव में भू-अर्जन किया जाएगा। स्थानीय प्रशासन ने सभी गांवों की सूची बनाकर फाइल मंत्रालय भेज दी है। किसानों से न्यूनतम 5 डिसमिल से अधिकतम 7 एकड़ तक की भूमि का अधिग्रहण किया।

कवर्धा तहसील: ग्राम पथर्रा, मक्के, आंछी, बैजलपुर, सेमो, बारदी, बरदुली, दुल्लापुर, चरगोंडरी, कोठार, घुघरी खुर्द, मगरदा, धमकी, घुघरी कला, दुल्लापुर, तिवारी नवागांव, लिमो, भेदली, बम्हनी, मड़मड़ा, छांटा-झा और लासाटोला।

50

गांवों से होकर गुजरेगी रेल लाइन

1914

किसानों के जमीनें होगी अधिग्रहित

लोहारा तहसील: ग्राम कुम्हार दनिया, बुधवारा, बिरनपुर, दनिया खुर्द, आमगांव, नवघटा, दलशा टोला, खैरबना, सिंगारपुर, सुखतरा, बिज खैरागी, बबई, रक्से, रमपुरा, और धनगांव।

878

एकड़ भूमि का होगा अधिग्रहण रेल लाइन के लिए

मांगें नहीं मानी गई तो हम करेंगे चक्काजाम

इधर प्रस्तावित रेल लाइन के मौजूदा रूट को लेकर पंडरिया क्षेत्र में ढाई महीने से विरोध किया जा रहा है। रेलवे संघर्ष समिति के सदस्य मांगों को लेकर जन- समर्थन जुटा रहे हैं। अब तो क्रमिक भूख हड़ताल भी चल रही है। पिछले 13 दिन से पंडरिया में समिति के सदस्य भूख हड़ताल कर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं। इस बीच जोगी कांग्रेस और अधिवक्ता संघ भी इस आंदोलन के समर्थन में है। समिति के सदस्यों का कहना है कि रेल लाइन के लिए पूर्व में हुए सर्वे के मुताबिक काम होना चाहिए। एेसा नहीं होने पर नगर में बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

सीधी बात

पीएस ध्रुव, अपर कलेक्टर, कबीरधाम

मुआवजा कितना होगा इसे लेकर गाइडलाइन नहीं है

प्रस्तावित रेलवे लाइन के रूट को लेकर पंडरिया में दो महीने से आंदोलन जारी है, इसका समाधान कैसे निकालेंगे?

- विरोध कर रहे लोगों से इस संबंध में 2- 3 बार चर्चा हो चुकी है। समझाइश का दौरा जारी है।

भू-अर्जन की तैयारी है, लेकिन मुआवजा राशि तय नहीं क्यों?

- ये राज्य स्तर का मामला है। सभी गांवों की सूची बनाकर फाइल मंत्रालय भेज दी है। ये शासन से ही तय होगा कि कितना मुआवजा देना है। फिलहाल हमारे पास कोई गाइडलाइन नहीं आई है।

इस स्थिति में संबंधित लोग कम मुआवजे को लेकर विरोध करेंगे, तो उससे निपटने की कोई प्लानिंग है?

- अभी आदेश ही नहीं आया है, तो कुछ कह नहीं सकते।

सर्वे के अनुसार काम नहीं हुआ तो करेंगे आंदोलन

प्रस्तावित रेल लाइन रूट से क्षेत्रवासियों को लाभ नहीं है, इसलिए इसका विरोध कर रहे हैं। यदि पूर्व में हुए सर्वे के अनुसार काम नहीं हुआ, तो रेलवे संघर्ष समिति और क्षेत्रवासी चक्काजाम करेंगे। अाशीष जैन, मेंबर, रेलवे संघर्ष समिति

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×