Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» गारंटी: 30 दिन में काम पूरा करने की हकीकत: 8920 अर्जियां हैं पेंडिंग

गारंटी: 30 दिन में काम पूरा करने की हकीकत: 8920 अर्जियां हैं पेंडिंग

कबीरधाम जिले में 5 लोक सेवा केंद्र खोले गए हैं। इन केंद्रों की गारंटी ऐसी है कि यहां 8920 अर्जियां पेंडिंग है। 582...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 14, 2018, 02:50 AM IST

गारंटी: 30 दिन में काम पूरा करने की हकीकत: 8920 अर्जियां हैं पेंडिंग
कबीरधाम जिले में 5 लोक सेवा केंद्र खोले गए हैं। इन केंद्रों की गारंटी ऐसी है कि यहां 8920 अर्जियां पेंडिंग है। 582 अर्जियां ऐसी है, जो 30 दिन की समयावधि खत्म होने के बावजूद निराकृत नहीं हो पाई है।

समय में काम पूरा नहीं होने पर 100 से 1 हजार तक जुर्माने का प्रावधान भी है, लेकिन किसी भी अफसर- कर्मचारी पर कार्रवाई नहीं हुई। दरअसल, लेटलतीफी पर दस्तावेजों में कमी बताकर अर्जियां लौटा दी जाती हैं। केंद्रों के जरिए 3,45011 अर्जियां मिल चुकी हैं। इनमें 32,093 वापस और 3750 अर्जियां निरस्त की जा चुकी है।

निराकरण में 11 नंबर पर: आवेदनों के निराकरण में जिला राज्य में 11वां है। निराकरण में लेटलतीफी पर जिम्मेदारों पर 100 रुपए रोज के हिसाब से जुर्माना तय है। आवेदक को इसकी जानकारी नहीं है।

कवर्धा.लोक सेवा केंद्र में आवेदन करने पहुंचे लोग।

यूं समझें, इस तरह परेशान हो रहे लोग:

केस 1. पंडरिया के राजेश कुमार ने 23 मई को अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन किया था। 30 दिन की समयावधि खत्म हो चुकी है। फाइल तहसील ऑफिस में अटकी हुई है। आवेदन का स्टेटस जानने के लिए राजेश लोक सेवा केंद्र के चक्कर काट रहा है।

केस 2. कवर्धा नपा क्षेत्रकेहोरीलाल धुर्वे ने 14 मई को संपत्ति नामांतरण के लिए अर्जी लगाई थी। उसकी अर्जी तहसील ऑफिस भेज दी गई, लेकिन अभी तक उसका निराकरण नहीं हो पाया है। जबकि 15 दिन में नामांतरण की गारंटी दी गई थी। दस्तावेज भी पूरे हैं।

ऑफिसवार पेंडिंग आवेदनों की स्थिति

ऑफिस कुल आवेदन पेंडिंग समय सीमा

के बाद पेंडिंग

जपं बोड़ला 1267 333 267

नपा कवर्धा 10187 181 87

नपं पंडरिया 1699 178 75

तहसील पंडरिया 102782 2276 68

जपं पंडरिया 995 64 42

केस 3.पंडरिया के बिशेसर यादव ने वृद्धावस्था पेंशन का लाभ पाने के लिए 28 जनवरी को लोक सेवा केंद्र में आवेदन किया था। आवेदन जनपद पंचायत को ट्रांसफर कर दी गई, लेकिन अभी तक उसका निराकरण नहीं हुआ है।

जपं बोड़ला सबसे सुस्त

जनपद पंचायत बोड़ला में लोगों से 1267 अर्जियां मिली है, जिनमें से 333 यानि एक चौथाई पेंडिंग हैं। 267 आवेदन ऐसे हैं, जो समय सीमा बीतने के बाद भी निराकृत नहीं हो पाए हैं।

हम कार्रवाई करेंगे

आवेदनों की पेंडेंसी देखना पड़ेगी। यदि कर्मचारियों की उदासीनता से आवेदन पेंडिंग हैं, तो उन पर कार्रवाई जरूर की जाएगी। पीएस ध्रुव, अपर कलेक्टर, कबीरधाम

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×