Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» कॉम्प्लेक्स में जाले व गोबर, टपक रही छत पीने लायक नहीं है वाटर कूलर का पानी

कॉम्प्लेक्स में जाले व गोबर, टपक रही छत पीने लायक नहीं है वाटर कूलर का पानी

सफाई सर्वेक्षण में 129 निकायों को पछाड़ कर 26वीं रैंक पाने वाली नगर पालिका के इकलौते बस स्टैंड की हालत बेहद खराब है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 14, 2018, 02:50 AM IST

कॉम्प्लेक्स में जाले व गोबर, टपक रही छत पीने लायक नहीं है वाटर कूलर का पानी
सफाई सर्वेक्षण में 129 निकायों को पछाड़ कर 26वीं रैंक पाने वाली नगर पालिका के इकलौते बस स्टैंड की हालत बेहद खराब है। देखकर ही लगता है कि अफसरों ने इसकी सफाई भगवान भरोसे छोड़ रखी है। तभी तो बस स्टैंड प्रतीक्षालय में चारों तरफ जाले नजर आ रहे। छत टपक रही। फर्श पर गोबर फैला हुआ है। और तो और यात्रियों के लिए लगाए गए वाटर कूलर में ठंडा पानी तो है लेकिन वहां की गंदगी देखकर इसे पीने का मन बिल्कुल भी नहीं करेगा।

शुक्रवार दोपहर तकरीबन पौने चार बजे यात्री प्रतीक्षालय के भीतर एक महिला सो रही है। बंद काउंटर की खिड़की के प्लेटफार्म पर भी एक सज्जन विश्राम कर रहे। भीतर एक सांड की चहलकदमी सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रही। आसपास गोबर पड़ा हुआ है। फर्श को देखकर लग रहा कि महीनों से सफाई नहीं हुई।

प्रतीक्षालय के मेन गेट के ठीक सामने है पंचर| शीतल पेय गृह। इसे देखकर नल खोलने का भी मन न करे। बेसिन में इतनी गंदगी के पानी पीने की इच्छा न हो। इसके बावजूद यहां आने वाले यात्री इसी पानी को पी रहे हैं। कांप्लेक्स के बायीं तरफ फूल वाले की दुकान के पीछे छत टपक रही है। बताया गया कि नालियां जाम होने से छत में पानी भर जाता है और इसी तरह बहता रहता है। पालिका में कंप्लेन की गई लेकिन सुनने वाला कोई नहीं है।

खैरागढ़. यात्री प्रतीक्षालय के भीतर एक महिला सो रही, गेट में गाय खड़ी है।

रोजाना करीब 115 बसों से साढ़े 3 हजार यात्रियों का आना-जाना

इस बस स्टैंड से दुर्ग राजनांदगांव डोंगरगढ कवर्धा धमधा आदि के लिए रोजाना तकरीबन 115 बसों की आवाजाही होती है। इनमें औसतन साढ़े तीन हजार यात्री सफर करते हैं। इसी तरह बस स्टैंड के चारों तरफ लगभग 35 से 40 दुकानें हैं जहां व्यापारियों के अलावा खरीदारों का भी आना-जाना लगा रहता है।

नहीं मिल रही चैनल गेट के ताले की चाबी, पसरी रहती है गंदगी

बताया गया कि कांप्लेक्स की छत पर चढ़ने के लिए चैनल गेट का ताला खोलना जरूरी है लेकिन नवरात्रि के समय से उसकी चाबी नहीं मिल रही। इसकी वजह से छत की सफाई नहीं हो पाई है और पानी भर रहा। यहीं का पानी पूरे कांप्लेक्स में फैल रहा है जिसे फर्श गंदा हो रहा है।

ऐसे हालात रहे तो स्वच्छता की रैंकिंग पर सवाल उठेगा ही

दस साल पहले अस्तित्व में आए बस स्टैंड कांप्लेक्स की सफाई में बरती जा रही लापरवाही से स्वच्छता रैंकिंग पर सवाल तो उठेगा ही। जोगी कांग्रेस के प्रदेश महासचिव शिरीष मिश्रा का कहना है कि बस स्टैंड की सफाई और व्यवस्था को लेकर शिकायत के बावजूद नपा प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है।

पार्किंग को लेकर भी आ रही हंै ढेरों शिकायतें

बताया गया कि बस स्टैंड में किसी भी बस का ठहराव 10 मिनट से अधिक नहीं है। इस बीच आसपास की दुकानों के सामने खड़े होने वाहनों से यात्रियों को भी खासी परेशानी हो रही है। इस तरफ न तो पालिका प्रशासन ने ध्यान दिया और न ही पुलिस के अफसरों ने इस दिशा में कोई खास प्रयास किए।

लगातार लापरवाही होती रही तो कैसे संभलेगा हाईटेक बस स्टैंड

मौजूदा बस स्टैंड कांप्लेक्स की देखरेख तो पालिका से हो नहीं रही ऐसे में शासन से हाईटेक बस स्टैंड के लिए पांच करोड़ रुपए की डिमांड की जा रही है। लोगों का कहना है कि जो है उसे पहले संभालना चाहिए। वरना हाईटेक बस स्टैंड बनने के बावजूद यहां आने वाले यात्री सुविधा से महरूम रहेंगे।

जल्द हो जाएगी सफाई

मुझे कल ही फोन आया था। बस स्टैंड के चैनल गेट की चाबी का पता नहीं चल रहा है। इसकी वजह से छत की सफाई नहीं हो पा रही है। मैं कल सबरे ही इस पर ध्यान देता हूं। जल्द ही कांप्लेक्स की सफाई करवाता हूं। कमल नारायण जंघेल, स्वच्छता निरीक्षक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×