• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Kawardha
  • 39 साल की सेवा के बाद रिटायर हुए जिले के पहले छत्तीसगढ़ भाषा का प्रयोग करने वाले डिप्टी कलेक्टर
--Advertisement--

39 साल की सेवा के बाद रिटायर हुए जिले के पहले छत्तीसगढ़ भाषा का प्रयोग करने वाले डिप्टी कलेक्टर

व्यापमं द्वारा आयोजित पीएटी परीक्षा को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराकर राजस्व विभाग के डिप्टी कलेक्टर अानंद...

Dainik Bhaskar

Jun 01, 2018, 02:55 AM IST
39 साल की सेवा के बाद रिटायर हुए जिले के पहले छत्तीसगढ़ भाषा का प्रयोग करने वाले डिप्टी कलेक्टर
व्यापमं द्वारा आयोजित पीएटी परीक्षा को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराकर राजस्व विभाग के डिप्टी कलेक्टर अानंद चतुर्गोष्ठी गुरुवार को शासकीय सेवा से रिटायर हुए। वे शासकीय सेवा में करीब 39 साल 6 माह रहे हैं।

अपने सेवाकाल के अंतिम दिन पीएटी परीक्षा को लेकर काम में लगे रहे। जिला कोषालय से सुबह 8 बजे से पीएटी प्रश्न पत्र को परीक्षा केन्द्रों में भेजे जाने से लेकर दोपहर 3 बजे फिर से आेएमआर सीट को कार्यालय में जमा कराने का काम किया।

परीक्षा के साथ आॅफिस में जाकर काम को किया पूरा: पीएटी परीक्षा जिम्मेदारी डिप्टी कलेक्टर आनंद चतुर्गोष्ठी के सौंपी गई थी। उनके द्वारा सभी परीक्षा केंद्रों में जाकर औचक निरीक्षण किया गया। इस दौरान वे कलेक्टोरेट कार्यालय में राजस्व संबंधित काम को पूरा भी किया। खास बात यह है कि जिले के यह पहले अफसर है जो राज्य में 1 जून से लागू होने वाली ऑनलाइन पेंशन प्रणाली आभार साॅफ्टवेयर द्वारा इनके पेंशन अकाउंट में पेंशन भुगतान किया जाएगा।

स्थानीय बोली को बढ़ावा

रिटायरमेंट के अाखिरी दिन नोडल अधिकारी बनकर ली पीएटी एग्जाम

कवर्धा.परीक्षा संबंधित दस्तावेज पूरा करते आनंद।

आनंद ने कार्यकाल में प्रकरण में राजी हव शब्द का इस्तेमाल हुआ

आनंद चतुर्गोष्ठी द्वारा जिले में पहली बार सरकारी दस्तावेज छत्तीसगढ़ी भाषा का प्रयोग किया था। पिछले साल 4 जुलाई को पंडरिया के आर्थिक प्रकरण में इनके द्वारा राजस्व प्रकरण में छत्तीसगढ़ी भाषा का प्रयोग किया गया। प्रकरण में राजी हव शब्द का इस्तेमाल किया गया। डिप्टी कलेक्टर आनंद चतुर्गोष्ठी राजस्व विभाग के प्रमोटेड अफसर हैं। उन्होंने बताया कि वे 6 नवम्बर 1978 में आरआई पद चयन होकर 23 वर्षों सरगुजा जिले में रहें। बिलासपुर में 8 साल तक सहायक अधीक्षक भू-अभिलेख पद पर रहें। प्रमोशन देकर बालोद जिले में अधीक्षक भू-अभिलेख पद पर भेजा गया। जहां वे 6 वर्षों तक रहें। उन्हें 2 वर्ष पहले कबीरधाम जिले में डिप्टी कलेक्टर पद पर प्रमोशन देकर राज्य सरकार ने भेजा था।

X
39 साल की सेवा के बाद रिटायर हुए जिले के पहले छत्तीसगढ़ भाषा का प्रयोग करने वाले डिप्टी कलेक्टर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..