• Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • फिल्टर प्लांट : 1 माह में दूसरी बार सीएम करेंगे आज भूमिपूजन
--Advertisement--

फिल्टर प्लांट : 1 माह में दूसरी बार सीएम करेंगे आज भूमिपूजन

Danik Bhaskar | Jul 08, 2018, 02:55 AM IST


भास्कर न्यूज | कवर्धा

शहर में 24.11 करोड़ रुपए से नया वाटर फिल्टर प्लांट बनना है। पुणे के तापी इंटरप्राइजेस नामक एजेंसी को इसका ठेका मिला है। नगर पालिका ने अप्रैल 2018 को उसे वर्कआॅर्डर दिया था। साइट भी हैंडओवर कर चुके हैं। इसके बावजूद ठेका लेने वाली एजेंसी ने अब तक निर्माण की नींव नहीं रखी है, जिसके चलते काम 3 महीने लेट हो गया है।

इस लेटलतीफी के लिए ठेका लेने वाली एजेंसी को 3 बार नोटिस थमा चुके हैं। फिर भी वह लापरवाही से बाज नहीं आ रहा है। इधर नए फिल्टर प्लांट के लिए 1 महीने में दूसरी बार मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के हाथों भूमिपूजन होगा।

मुख्यमंत्री 30 मई को विकास यात्रा में यहां आए थे :- 30 मई को विकास यात्रा के दौरान सीएम ने सहसपुर लोहारा में 137.60 करोड़ रुपए के जिन 83 कार्यों का शिलान्यास व भूमिपूजन किया था, उसमें कवर्धा में बनना वाला नया फिल्टर प्लांट भी शुमार था। अब पीजी कॉलेज ग्राउंड में रविवार 8 जुलाई को दोबारा इसका भूमिपूजन कराया जाना है।

कवर्धा. शहर में 4 नए ओवरहेड टैंक भी बनेंगे।

स्कीम: चार आेवरहेड टंकी बनाने की, दो के लिए जमीन मुहैया कराने की दिक्कत

स्कीम के तहत 4 जगहों पर ओवरहेड टंकी का निर्माण होना है। पंचमुखी बूढ़ा महादेव मंदिर के सामने, शिक्षक कॉलोनी, घोठिया रोड व पुराने ट्रैफिक ऑफिस के पास ये टंकी बनेगी। इनमें 2 के लिए जगह तो फाइनल है, लेकिन 2 के लिए जमीन की दिक्कत है। आप भी जानिए, कहां फंस रहा पेंच..


नपा का दावा: 30 साल तक नहीं होगी समस्या

नपा अफसरों की मानें, तो नए प्लांट के जरिए शहर की लगभग 20 हजार आबादी कवर होगी। अगले 30 साल यानि 2050 तक पानी की समस्या नहीं रहेगी। खैरबना कला में जहां पहला वाटर फिल्टर प्लांट स्थापित है, वहीं नजदीक ही 6.5 एमएलडी (मिलीयन लीटर प्रतिदिन) क्षमता वाले नए प्लांट की नींव रखी जाएगी।


योजना की स्थिति पर एक नजर






सीधी बात

सुनील अग्रहरि, सीएमओ, नपा कवर्धा

कंपनी की रुचि नहीं


-टेंडर लेने वाली कंपनी काम में रुचि नहीं ले रहा है, जिसके चलते काम लेट हो रहा है।


-वर्कआर्डर जारी होने के बाद से 3 बार नोटिस थमा चुके हैं। अब काम शुरू नहीं किया, तो टेंडर निरस्त भी कर सकते हैं।


-दो साल में काम पूरा करने का लक्ष्य है। अगर ठेका कंपनी नहीं कर पाई, तो नियमानुसार कार्रवाई होगी।