कवर्धा

  • Home
  • Chhattisgarh News
  • Kawardha
  • मछलियों को दाना खिलाकर सीएम बोले: कांग्रेसी सत्ता के लिए ऐसे तड़प रहे हैं जैसे जल बिन मछली
--Advertisement--

मछलियों को दाना खिलाकर सीएम बोले: कांग्रेसी सत्ता के लिए ऐसे तड़प रहे हैं जैसे जल बिन मछली

प्रदेश के पहले मात्स्यिकी कॉलेज का शुभारंभ करने व कवर्धा में विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण करने...

Danik Bhaskar

Jul 09, 2018, 02:55 AM IST
प्रदेश के पहले मात्स्यिकी कॉलेज का शुभारंभ करने व कवर्धा में विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण करने पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांग्रेस पर जमकर जुबानी प्रहार किया। मुख्यमंत्री ने कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल व सांसद अभिषेक सिंह के साथ पहले तो मात्स्यिकी कॉलेज में मछलियों को दाना खिलाया। इसके बाद शहर के आमसभा में बोले कि कांग्रेसी पिछले 15 साल से सत्ता के लिए ऐसे तड़प रहे हैं, जैसे जल बिन मछली।

मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री व सांसद तीनों दिनभर कबीरधाम जिले में रहे। पहले वे बोड़ला के पचराही पहुंचे। यहां से कवर्धा के सेवईकछार में फिशरीज कॉलेज के उद्घाटन में पहुंचे। इसके बाद उन्होंने शहर के वार्ड नंबर 3 गंगानगर में नगर पालिका द्वारा विकसित सरोवर उद्यान का नपा अध्यक्ष देवकुमारी चंद्रवंशी, मोतीराम चंद्रवंशी व अशोक साहू की मौजूदगी में लोकार्पण किया। कॉलेज मैदान में आमसभा, शिलान्यास व रोजगार मेला कार्यक्रम में शामिल हुए। कॉलेज मैदान में 70.38 करोड़ के कार्यों का शिलान्यास किया और 32.86 करोड़ के कार्यों का लोकार्पण किया। सीएम देर शाम बेमेतरा के रेस्ट हाउस में करीब एक घंटे रूके।

कवर्धा.प्रदेश के इकलौते मात्स्यिकी कॉलेज के फिशरीज टैंक में मछलियों को दाना खिलाते सीएम डॉ. रमन सिंह व अन्य।

कांग्रेस कहते हैं अइसने में बुढ़ा जाबो का रे, मैं कहता हूं हव बुढ़ा जाहू: सिंह







तीन करोड़ के विकास कार्यों का किया लोकार्पण-शिलान्यास

कान खोलकर सुन लें, जो 10 साल से काबिज उन्हें ही मिलेगा पट्टा: रमन

इससे पहले मुख्यमंत्री ने वनवासियों व ग्रामीणों को पट्टा वितरण की जानकारी देते हुए कहा कि लोग कान खोलकर सुन लें कि जो ग्रामीण 10 साल से भूमि पर काबिज होगा, पट्टा उसे ही दिया जाएगा। छह महीने या एक साल के काबिज को पट्टा नहीं मिलेगा। क्योंकि बहुत से लोग ऐसा ही करते हैं। बाहर से लोग आकर स्थानीय लोगों को बेदखल करना चाहते हैं। इन्हें बढ़ावा देने वाले लोग अब नहीं चलेंगे।

46 एकड़ में फैला से फिशरीज कॉलेज का कैंपस, देश के 30 कॉलेजों में से एक

प्रदेश का पहला फिशरीज कॉलेज लगभग 46 एकड़ के कैंपस में फैला हुआ है। कवर्धा के पास ग्राम सेवईकछार में इसे लगभग 23 करोड़ रुपए की लागत से 5 साल में बनाया गया है। इसमें एकेडमिक भवन के साथ दो हॉस्टल भी हैं। पूरे देश में इस समय लगभग 30 फिशरीज कॉलेज संचालित हैं। इसी कॉलेज का उद्घाटन करने मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री व सांसद पहुंचे। उन्होंने यहां पहुंचकर मुख्य बरामदे में बने टैंक में मछलियों को दाना खिलाया। सीएम ने कहा कि इसे कॉलेज नहीं बल्कि मछली पालन के प्रशिक्षण संस्थान के रूप में विकसित करें। मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ देश में मछलीपालन में छठवें स्थान पर है। उन्होंने कहा कि अब इस कॉलेज में 40 सीटें बढ़ाकर 100 कर दी जाएंगी और पीजी कोर्स के भी 10 सीटें संचालित किए जाएंगे।

Click to listen..