Hindi News »Chhatisgarh »Kawardha» रिपोर्ट कार्ड विधानसभा की वेबसाइट पर जारी हुई माननीयों की सक्रियता

रिपोर्ट कार्ड विधानसभा की वेबसाइट पर जारी हुई माननीयों की सक्रियता

भास्कर न्यूज | कवर्धा/बेमेतरा विधानसभा का सत्र पूरा होने के बाद 5 साल में विधायकों की यहां मौजूदगी व सवालों का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 11, 2018, 04:00 AM IST

भास्कर न्यूज | कवर्धा/बेमेतरा

विधानसभा का सत्र पूरा होने के बाद 5 साल में विधायकों की यहां मौजूदगी व सवालों का रिपोर्टकार्ड सामने आ चुका है। इसमें कवर्धा और बेमेतरा जिले के 5 विधायकों में से कवर्धा विधायक अशोक साहू बाकी 4 विधायकों के मुकाबले सबसे आगे रहे हैं। उन्होंने सबसे ज्यादा सवाल भी पूछे हैं व सबसे ज्यादा बैठकों में उनकी मौजूदगी भी रही है। दूसरे नंबर पर बेमेतरा विधायक अवधेश चंदेल रहे। जबकि मंत्री व संसदीय सचिवों के सरकार का अंग होने के कारण सवालों की संख्या कम रही और इन्हें उपस्थिति पत्रक में हस्ताक्षर में भी छूट मिली।

छत्तीसगढ़ विधानसभा की अधिकृत वेबसाइट ने मानसून सत्र पूरा होने के बाद कवर्धा और बेमेतरा जिलों के सभी पांच विधायकों समेत सभी माननीयों के विधानसभा में उपस्थिति व पूछे गए प्रश्नों के रिपोर्टकार्ड को सार्वजनिक कर दिया है। विधायक चुने जाने के बाद माननीयों ने विधानसभा सत्र में कितने दिन अपनी उपस्थिति दर्शाई और कितने सवाल पूछे यह सब कुछ सार्वजनिक किया गया है।

विधानसभा के पांच साल में 14 सत्र लगे, 138 दिन बैठकें चली, सबसे ज्यादा उपस्थिति में कवर्धा विधायक अशोक साहू दूसरे नंबर पर रहे

कवर्धा और बेमेतरा की पांच सीटों पर चुने गए सभी विधायक हैं भाजपा के

इनका काम सवाल पूछना नहीं, जवाब देना है

कवर्धा-बेमेतरा की 5 सीट कवर्धा, बेमेतरा, पंडरिया, नवागढ़ और साजा में सभी भाजपा के विधायक हैं। इनमें से एक सरकार के मंत्री और दो संसदीय सचिव हैं। मंत्री व संसदीय सचिवों के सवालों की संख्या कम है, क्योंकि इनका काम सवाल पूछना नहीं, जवाब देना है। वहीं विस अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सीएम, प्रतिपक्ष, मंत्री व संसदीय सचिव उपस्थिति पत्रक पर साइन नहीं करते हैं।

सबसे ज्यादा सवाल देवजी पटेल ने पूछे

विधानसभा में 14 सत्र हुए, जिनमें बजट सत्र, मानसून सत्र और शीतकालीन सत्र शामिल हैं। 5 सालों में सबसे ज्यादा 596 सवाल विधायक देवजी भाई पटेल ने पूछे हैं। 16 विधायकों ने 500 से ज्यादा सवाल पूछे, 12 ने 400 से 500 के बीच सवाल पूछे व 10 विधायकों ने 300 से 400 के बीच सवाल पूछे। बाकियों ने इनसे कम ही सवाल पूछे।

तीन विधायकों की सबसे ज्यादा दिन रही उपस्थिति

पिछले 5 साल में कुल 138 दिन विधानसभा में बैठकें हुईं। इनमें सबसे ज्यादा उपस्थिति के मामले में सरोजनी बंजारे, मोहन मरकाम व श्रवण मरकाम आगे रहे। ये विस की बैठकों में 137 दिन उपस्थित रहे। उनके बाद कवासी लखमा, डॉ. सनम जांगड़े व कवर्धा विधायक अशोक साहू 136 दिन उपस्थित रहकर दूसरे स्थान पर रहे।

इतने सवाल पूछे हमारे माननीयों ने

दयालदास बघेल : 12 प्रश्न (दिसंबर सत्र 2014 के बाद सवाल नहीं पूछे)

मोतीराम चंद्रवंशी : 49 प्रश्न (मार्च-अप्रैल 2015 के बाद सवाल नहीं पूछे)

लाभचंद बाफना : 65 सवाल पूछा (शुरुआती चार सत्रों में ही सवाल पूछे)

अशोक साहू : 352 सवाल (सबसे ज्यादा फरवरी-मार्च 2017 के सत्र में 65 सवाल पूछे)

अवधेश सिंह चंदेल : 296 सवाल (सबसे ज्यादा फरवरी-मार्च 2017 के सत्र में 44 सवाल पूछा)

इतने दिन की बैठकों में हुए शामिल

अशोक साहू : 136 दिन

अवधेश सिंह चंदेल : 127 दिन

दयालदास बघेल : 47 दिन (22 मई 2015 से मंत्री बनने के बाद उपस्थिति हस्ताक्षर से छूट मिला)

मोतीराम चंद्रवंशी : 47 दिन (22 मई 2015 से सचिव बनने के बाद उपस्थिति हस्ताक्षर से छूट मिला)

लाभचंद बाफना : 46 दिन (22 मई 2015 से संसदीय सचिव बनने के बाद उपस्थिति हस्ताक्षर से छूट मिली)

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kawardha

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×