• Home
  • Chhattisgarh News
  • Korba News
  • पूर्व पार्षद की नाबालिग बेटी ने तनाव में फांसी लगाकर कर ली आत्महत्या
--Advertisement--

पूर्व पार्षद की नाबालिग बेटी ने तनाव में फांसी लगाकर कर ली आत्महत्या

नगर निगम के बांकीमोंगरा वार्ड के पूर्व पार्षद धमेंद्र गजभिए की 14 वर्षीय बेटी कनिष्का उर्फ गुनगुन डीपीएस में कक्षा...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:35 AM IST
नगर निगम के बांकीमोंगरा वार्ड के पूर्व पार्षद धमेंद्र गजभिए की 14 वर्षीय बेटी कनिष्का उर्फ गुनगुन डीपीएस में कक्षा 8वीं की छात्रा थी। स्कूल में पढ़ाई को लेकर वह तनाव में थी। इधर शनिवार को परिवार के लोग हनुमान जयंती पर हो रहे कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। अनुष्का घर पर अकेली थी। इस बीच दोपहर में उसने दरवाजे को अंदर से बंद करके कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। शाम को जब परिजन पहुंचे तो दरवाजा अंदर से बंद होने पर अनुष्का को आवाज लगाई। कोई आवाज नहीं आने पर खिड़की से अंदर देखा गया तो वहां फांसी के फंदे पर अनुष्का को देखा। परिजन दरवाजा तोड़कर अंदर पहुंचे। जीवित होने की उम्मीद से फंदे से उतारकर अनुष्का को बांकीमोंगरा अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने परीक्षण उपरांत उसे मृत घोषित कर दिया। मामले की सूचना पर बांकीमोंगरा पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया। प्रारंभिक तौर पर घटनास्थल का निरीक्षण करने पर कोई सुसाइड नोट नहीं मिला जिससे छात्रा के आत्महत्या का स्पष्ट कारण नहीं पता चला है।

तनाव से दूर रहें, पेरेंट्स बच्चों पर ध्यान

एडिशनल एसपी कीर्तन राठौर के मुताबिक स्कूल-कालेज में पढ़ने वाले बच्चे तनाव से दूर रहें। किसी बात को लेकर तनाव में है तो पेरेंट्स से उसे शेयर करें। पेरेंट्स को भी बच्चों की ओर ध्यान देना चाहिए। उनसे लगातार बातचीत करना और तनाव में दिखने पर उचित सलाह देना चाहिए। बच्चों पर ज्यादा दबाव नहीं डालना चाहिए।

गर्मी में बढ़े आत्महत्या के मामले

प्रतिवर्ष गर्मी के सीजन में आत्महत्या के मामले ज्यादा होते हैं। इसके पीछे जानकर जो वजह बताते हुए उसके मुताबिक एक तो परीक्षा या रिजल्ट आने का समय होने से छात्रों में मानसिक तनाव रहता है। दूसरा वैवाहिक सीजन होने से प्रेम-प्रसंग करने वाले किशोरवय लड़के-लड़की व युवा आत्महत्या का रास्ता चुनते हैं।