• Home
  • Chhattisgarh News
  • Korba News
  • युवा कांग्रेस में बदलाव, नितिन की वापसी, आकाश भी बने रहेंगे
--Advertisement--

युवा कांग्रेस में बदलाव, नितिन की वापसी, आकाश भी बने रहेंगे

जिला युवा कांग्रेस में फिर से बदलाव किया गया है। अनाचार के एक मामले में फंसने के बाद जिलाध्यक्ष पद से निलंबित...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 02:45 AM IST
जिला युवा कांग्रेस में फिर से बदलाव किया गया है। अनाचार के एक मामले में फंसने के बाद जिलाध्यक्ष पद से निलंबित नितिन चौरसिया को बरी होने के बाद बहाल कर दिया गया है। दूसरी ओर जिला युवा कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष आकाश शर्मा को यथावत रखा गया है। दोनों को दो-दो विधानसभा का प्रभार दिया गया है। आकाश पाली-तानाखार व कटघोरा तो नितिन को रामपुर व कोरबा की जिम्मेदारी दी गई है।

युवा कांग्रेस में पदों को लेकर लंबे समय से घमासान चल रहा था। चुनाव के समय भी एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला। इसी वजह से जिलाध्यक्ष का पद चुनाव जीतने के बाद भी फिरोज अहमद को नहीं मिल पाया। प्रदेश युवा कांग्रेस ने जिला उपाध्यक्ष नितिन चौरसिया को जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी थी।

इसी बीच नितिन के खिलाफ एक छात्रा ने अनाचार की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। मामला सामने आने के बाद नितिन को निलंबित कर आकाश शर्मा को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। लेकिन बाद में कोर्ट ने नितिन को बरी कर दिया। इसके बाद से ही नितिन की वापसी के लिए लाबिंग चल रही थी। मामला दिल्ली तक चला गया था। इसी सप्ताह जांच कमेटी भी कोरबा आई थी। युवा कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष व जिला प्रभारी सजमन बाघ ने गुरुवार को नितिन के बहाली के संबंध में पत्र जारी कर दिया।

इसमें कहा गया है कि भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व छत्तीसगढ़ प्रभारी संतोष गोलकुंडा व हेमंत आंेगले की अनुशंसा पर प्रदेश अध्यक्ष उमेश पटेल के निर्देश के बाद नितिन चौरसिया की बहाली की जा रही है। मामला सामने आने के बाद नितिन को निलंबित कर आकाश शर्मा को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। साथ ही आकाश शर्मा जिला कार्यकारी अध्यक्ष पद पर कार्य करते रहेंगे। दोनों को दो-दो विधानसभा क्षेत्र दिया गया है।

नितिन को माना जाता है श्याम समर्थक

नितिन चौरसिया को पूर्व युवा कांग्रेस लोकसभा कमेटी अध्यक्ष श्यामनारायण सोनी का समर्थक माना जाता है। इसी वजह से नितिन की दोबारा वापसी हुई है। सोनी महंत समर्थक माने जाते हैं। लेकिन शहर की राजनीति से दूर रहकर ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक सक्रिय रहते हैं। सोनी की निकटता प्रदेश के साथ राष्ट्रीय नेताओं से भी है।