• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Korba
  • कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध के बीच इंटक ने दिया झटका, 12 को अलग से करेंगे मीटिंग
--Advertisement--

कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध के बीच इंटक ने दिया झटका, 12 को अलग से करेंगे मीटिंग

Korba News - कोल इंडिया में कमर्शियल माइनिंग के विरोध में ट्रेड यूनियनों ने जहां सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस मुद्दे...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:10 AM IST
कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध के बीच इंटक ने दिया झटका, 12 को अलग से करेंगे मीटिंग
कोल इंडिया में कमर्शियल माइनिंग के विरोध में ट्रेड यूनियनों ने जहां सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस मुद्दे पर ट्रेड यूनियन एकजुटता की बात कर रहे हैं। इस पर आगे की रणनीति तैयार करने केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के सभी संगठन के पदाधिकारियों की बैठक 4 मार्च को दिल्ली बीएमएस कार्यालय में प्रस्तावित है।

इस बीच इंटक ने अन्य 4 ट्रेड यूनियनों को झटका देते हुए अलग राह पकड़ ली है। इंटक फेडरेशन की 12 मार्च को आसनसोल मंे बैठक बुलाई है। इंटक के पदाधिकारी 4 मार्च को दिल्ली में संभावित बैठक में शामिल होंगे कि नहीं इस पर संदेह के बादल मंडराने लगे हैं। कोयला उद्योग में कमर्शियल माइनिंग को मंजूरी देने के बाद कोयला कर्मियों में गुस्सा है। एटक व सीटू सहित दूसरे श्रमिक संगठन अपने-अपने स्तर पर धरना प्रदर्शन व पुतला दहन कर नाराजगी जता रहे हैं। कोयला मजदूरों के आक्रोश को देखते हुए कोयला उद्योग में मान्यता प्राप्त श्रमिक संगठनों ने बैठक कर रणनीति तैयार करने योजना बनाई है।

ट्रेड यूनियनों की एकजुटता पर फिर उठे सवाल

कमर्शियल माइनिंग के मुद्दे पर कोल इंडिया व इसके सहायक कंपनियों में काम करने वाले कोयला मजदूरों के आक्रोश को देखते हुए संभावना जताई जा रही थी कि इस मुद्दे पर एटक,सीटू,एचएमएस, बीएमएस के अलावा इंटक यूनियन के बीच एकजुटता की संभावना है। क्योंकि श्रमिक संगठन भी मानते है कि सरकारी नीतियों खिलाफ ट्रेड यूनियनों को एकजुट होने की जरुरत है। अकेले किसी संगठन की कोशिश से कुछ नहीं होने वाला है। इसके लिए ट्रेड यूनियनों को संयुक्त तौर पर एकजुट होने की जरुरत है। हालांकि ऐसा होते नहीं दिख रहा।

मजदूर संगठनों ने कहा फैसला वापस ले सरकार :कोल सेक्टर में केंद्र की सरकारी नीतियों के खिलाफ के खिलाफ श्रमिक संगठन के पदाधिकारी लगातार विरोध प्रदर्शन व पुतला दहन कार्यक्रम कर रहे हैं। कोयला उद्योग में कमर्शियल माइनिंग का विरोध करते हुए इसका प्रस्ताव वापस लेने सरकार से मांग की है। कोल मंत्रालय को इसके लिए पत्र लिखा है। कोयला मजदूरों की मांग है कि सरकार जल्द ही अपना फैसला वापस ले ऐसा नहीं होने पर आने वाले दिनों में आंदोलन की चेतावनी भी दी गई है।

अपेक्स जेसीसी की बैठक भी 4 मार्च को होगी

कमर्शियल माइनिंग के विरोध के बीच प्रबंधन ने 4 मार्च को अपेक्स जेसीसी की बैठक कोल इंडिया मुख्यालय लोधी रोड दिल्ली में सुबह 10 बजे से बुलाई है। जिसमें कोल इंडिया चेयरमैन व अन्य अधिकारी, कोल इंडिया के सहायक कंपनियों के सीएमडी उपस्थित रहेंगे बीएमएस नेता बीके राय, एचएमएस से नाथूलाल पांडे, एटक नेता रमेंद्र कुमार, सीटू के डीडी रामानंदन सीएमओआई के वीपी सिंह को भी बैठक की सूचना दे दी गई है। श्रमिक संगठनों ने एक तरफ जहां 4 मार्च को दिल्ली में ही बैठक बुलाई है वहीं अपेक्स जेसीसी की भी बैठक भी यहीं होगी।

X
कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध के बीच इंटक ने दिया झटका, 12 को अलग से करेंगे मीटिंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..