भू-जल विद पाणिग्राही बोले- रेन वाटर हार्वेस्टिंग से पानी संकट को किया जा सकता है दूर

Korba News - समय के साथ पानी का स्तर नीचे जा रहा है। मार्च और जून में पानी का स्तर इतना अधिक नीचे चला जाता है कि जल संकट की स्थिति...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:10 AM IST
Korba News - chhattisgarh news groundwater with panigrahi said rain water harvesting can be done away with water crisis
समय के साथ पानी का स्तर नीचे जा रहा है। मार्च और जून में पानी का स्तर इतना अधिक नीचे चला जाता है कि जल संकट की स्थिति निर्मित हो जाती है। कई स्थानों पर हैंडपंप, कुएं, तालाब पानी के स्त्रोत सूख जाते हैं। जनसंख्या में वृद्धि से पानी की खपत, वृक्षों की कटाई, कांक्रीटीकरण, औद्योगिकीकरण तथा पानी की बर्बादी से जल संकट का सामना करना पड़ता है। पानी की समस्या एक बड़ी समस्या है, हमें इस समस्या से निपटने अभी से ठोस तैयारी शुरू कर देनी चाहिए नहीं तो न सिर्फ हम बल्कि हमारी आने वाली पीढ़ी भी पानी के लिए तरसेगी। ढाई प्रतिशत पानी की उपलब्धता पृथ्वी में है। जिसमें से पाइंट तीन प्रतिशत पानी धरती में मानव, प्राणी तथा अन्य के लिए है। इसके लिए हमें रेन वाटर हार्वेस्टिंग लगाना होगा।यह बात भूजल विद के. पाणीग्राही ने गुरुवार को जिला प्रशासन व नगर निगम के तत्वावधान में इंदिरा स्टेडियम परिसर के ऑडिटोरियम में छानी के पानी घर म विषय पर आयोजित कार्यशाला में कही। उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के आधार पर प्रति व्यक्ति एक दिन में 135 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। जिसमें पीने व दैनिक आवश्यकताओं के लिए पानी का उपयोग होता है। उन्होंने रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम घरों, भवनों में लगाने के लिए आवश्यक तकनीकी पहलुओं को उदाहरणों के माध्यम से बताया। पाणीग्राही ने बताया कि सरफेस वाटर और छत के पानी को पाइप के माध्यम से किस प्रकार से इकट्ठा कर इसका उपयोग घरों में पीने के अतिरिक्त पौधों के लिए, दैनिक उपयोगों के लिए कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि वर्षा के पानी को पीने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए एक दो बार के बारिश के पानी को छोड़कर, छतों की सफाई कराकर तथा संरक्षित पानी को फिल्टर कर उपयोग किया जा सकता है।

पानी बचाने शपथ लेते अधिकारी-कर्मचारी व आम लोग

महापौर ने लोगों को पानी बचाने दिलाई शपथ

छानी के पानी घर म विषय पर कार्यशाला का शुभारंभ महापौर रेणु अग्रवाल ने दीप जलाकर किया। उन्होंने लोगों को शपथ दिलाई कि हम सब निष्ठापूर्वक यह शपथ लेते हैं कि हम आज से जल दुरूपयोग नहीं करेंगे, जल का दुरूपयोग न हो इसके लिए हम अपने परिवार इष्ट मित्रों व अपने पास के लोगों को जल संरक्षण के लिए प्रेरित करेंगे। हम यह भी शपथ लेते हैं कि वर्षा जल को संरक्षित करने अपने घर में वर्षा जल संरक्षण प्रणाली लगाएंगे। इस दौरान कुसुम द्विवेदी, एमआई सदस्य रामगोपाल यादव, पीएचई के ईई समीर गौर, सीएमएचओ डाॅ. बीबी बोर्डे उपस्थित थे।

पानी बचाने की दिशा में काम करना होगा: चंद्रवाल

जिला पंचायत सीईओ इंद्रजीत सिंह चंद्रवाल ने कहा कि जल संरक्षण की दिशा में कदम उठाने से पूर्व जागरूक होकर जल संकट को समझने की जरूरत है। हम लोग अभी जल संरक्षण को इसलिए महत्व नहीं देते। क्योंकि हम सोचते हैं कि पानी तो हमारे पास पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। इस तरह की धारणा को अब त्याग कर हमें पानी बचाने की दिशा में काम करना होगा। इसके लिए हम वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का इस्तेमाल अपने घरों में करें। अपर आयुक्त नगर निगम अशोक शर्मा ने भी जल के महत्व को बताते हुए इसके संरक्षण की दिशा में कदम उठाने की अपील की।

X
Korba News - chhattisgarh news groundwater with panigrahi said rain water harvesting can be done away with water crisis
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना