• Hindi News
  • Rajya
  • Chhattisgarh
  • Korba
  • Korba News chhattisgarh news the collapse of a coal loaded trailer in the canal in an overtake affair an accident on leaving water will stop if irrigation in 1 lakh hectares

ओवरटेक के चक्कर में नहर में गिरा कोयला लोड ट्रेलर, पानी छोड़ने पर हादसा होगा तो रुक जाएगी 1 लाख हेक्टेयर में सिंचाई

Korba News - सीएसईबी चौक से दर्री बराॅज तक फोरलेन बनाने का काम चल रहा है। इसकी वजह से भारी वाहनों का आवागमन बंद कर...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:10 AM IST
Korba News - chhattisgarh news the collapse of a coal loaded trailer in the canal in an overtake affair an accident on leaving water will stop if irrigation in 1 lakh hectares
सीएसईबी चौक से दर्री बराॅज तक फोरलेन बनाने का काम चल रहा है। इसकी वजह से भारी वाहनों का आवागमन बंद कर दर्री-जमनीपाली की ओर जाने नहर रोड से होकर गेरवाघाट पुल को भारी वाहनों के लिए खोल दिया गया है। इस रोड पर 24 घंटे के भीतर 500 से अधिक भारी वाहन गुजरते हैं।

गुरुवार की सुबह 8 बजे आगे निकलने की होड़ में ट्रेलर बायीं तट नहर मेंं गिर गया। चालक ने कूदकर अपनी जान बचाई। ट्रेलर को 10 घंटे बाद क्रेन से बाहर निकाला गया। इस दौरान 3 घंटे तक मार्ग पर आवागमन बंद रहा। नहर में अभी पानी छोड़ना बंद है। 20 दिन बाद सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जाएगा। ऐसे में अगर आगे हादसा होता है तो 1 लाख हेक्टेयर में सिंचाई प्रभावित हो सकती है।

हसदेव नदी पर गेरवाघाट पुल का निर्माण वर्ष 2013 में पूरा हो गया था। इसके लिए दर्री छोर पर साढ़े चार किलोमीटर सड़क का निर्माण करा लिया गया है। लेकिन राताखार की ओर एप्रोच रोड नहीं बना है। नहर पुल से गेरवाघाट पुल तक कच्ची रोड है। जिस पर पहले छोटे वाहन चलते थे। लेकिन सीएसईबी से दर्री बरॉज के बीच नो एंट्री लागू होने के बाद इसे भारी वाहनों के लिए इस रोड को खोल दिया गया है। नहर मार्ग की चौड़ाई एक वाहन जाने लायक है। कई बार पहले निकलने के होड़ में वाहन फंस रहे हैं। इससे जाम लग रहा है। अब दुर्घटनाएं भी शुरू हो गई है।

सिंगल रोड पर 500 वाहनों का दबाव, 10 घंटे बाद ट्रेलर को क्रेन से निकाला, सड़क चौड़ी किए बिना ही दौड़ रहे वाहन

ट्रेलर नहर में गिरने के बाद वाहनों की कतार

बारिश में कीचड़ होने पर थम जाएंगे वाहनों के पहिए

राताखार नहर रोड का न तो सड़क का निर्माण कराया गया है और न ही चौड़ीकरण। 740 मीटर नहर मार्ग पर एक तरफ 7 मीटर की खाई है तो दूसरी ओर बायीं तट नहर है। बारिश के पहले अगर सड़क का निर्माण नहीं कराया गया तो वाहनों के पहिए थम जाएंगे। कच्ची सड़क में अभी से ही जाम लगने लगा है। हादसे भी अब शुरू हो गए हैं। कीचड़ होने पर वाहन फिसलते हैं।

सिंचाई हो सकती है प्रभावित, प्रशासन को पत्र लिखेंगे: ईई

चालक ने कूदकर बचाई जान, 3 घंटे आना-जाना बंद रहा

गुरुवार की सुबह ट्रेलर क्रमांक सीजी 12 एएस 1297 आगे निकलने की होड़ में नहर में पलट गया। ट्रेलर कोयला लेकर चांपा की ओर जा रहा था। वाहन एसके कंस्ट्रक्शन रिस्दा भदरापारा के नाम पर रजिस्टर्ड है। वाहन चालक ने कूदकर अपनी जान बचाई। शाम को 4 बजे क्रेन के माध्यम से ट्रेलर को बाहर निकाला गया। इस दौरान तीन घंटे तक रोड पर आवागमन बंद रहा। इसी तरह की समस्या सर्वमंगला से कनकी मार्ग पर होती है। यहां भी आए दिन भारी वाहन नहर में गिरते हैं।


जांजगीर-चांपा व खरसिया तक होती है सिंचाई

बायीं तट नहर चांपा, सारागांव के साथ ही खरसिया तहसील होते हुए डभरा चंद्रपुर तक गई है। इस नहर से खरीफ में 1 लाख हेक्टेयर से अधिक सिंचाई होती है। मानसून पिछड़ने से इस साल भी जून के अंत में डिमांड आने पर नहरों से पानी छोड़ने की तैयारी है। अगर नहर में पानी छोड़ते समय कोई वाहन गिरा तो सिंचाई प्रभावित हो सकती है।

कटघोरा की ओर से बालको घूमकर शहर आती हैं बसें

कटघोरा की ओर से आने वाली सिटी व प्राइवेट बसें बालको की ओर से घूमकर शहर आती हैं। इसमें बिलासपुर, अंबिकापुर, पेंड्रा रोड की ओर से आने वाली बसें भी शामिल हैं। इससे यात्रियों को शहर पहुंचने में 15 से 20 मिनट का अतिरिक्त समय लग जाता है। कई बसें गेरवाघाट पुल से भी आती हैं। लेकिन इस रूट पर खतरा बना रहता है।

इस रोड से दर्री की दूरी तीन किलोमीटर तक कम हो गई

गेरवाघाट पुल की ओर से दर्री-जमनीपाली जाने पर दूरी तीन किमी कम हो गई है। सीएसईबी चौक से दर्री बरॉज तक फोरलेन का काम चलने से भारी वाहनों के लिए नो एंट्री है। निर्माणाधीन सड़क में जाने से परेशानी को देखते हुए लोग गेरवाघाट पुल की ओर से ही आना-जाना करते हैं। सीएसईबी चौक से 15 किमी तो गेरवाघाट की ओर से दूरी 12 किमी पड़ती है। इससे भारी वाहनों के साथ छोटे वाहनों का भी रोड पर दबाव है।

8 मीटर बढ़ानी पड़ेगी चौड़ाई पर अभी फंड नहीं: एसडीओ

पीडब्ल्यूडी सेतू निगम के एसडीओ एके जैन ने कहा राताखार की ओर एप्रोच रोड का मामला हाईकोर्ट में लंबित है। ठेकेदार का 2 करोड़ 13 लाख रोका है। हालांकि हाईकोर्ट ने दूसरे मद से रोड बनाने की छूट दी है। इसके लिए 4 करोड़ का प्रस्ताव दिया था। मंजूरी नहीं मिली है। नहर रोड की चौड़ाई 8 मीटर बढ़ाने का प्रस्ताव है। अभी फंड नहीं है।

कोहड़िया मार्ग को वन-वे करने से दबाव होगा कम

सीएसईबी चौक से दर्री बरॉज कोहड़िया मार्ग से अभी छोटे वाहन ही आना-जाना कर रहे हैं। निर्माण कार्य चलने से बारिश होने पर परेशानी होती है। गेरवाघाट पुल रोड पर यातायात का दबाव कम करने के लिए कोहड़िया मार्ग को वन वे किया जा सकता है। इससे दोनों ओर वाहनों के आने-जाने से परेशानी काफी हद तक दूर हो सकती है। पहली बार किसी मार्ग को बंद कर सड़क निर्माण कराया जा रहा है। एप्रोच रोड बनाया ही नहीं गया है।

Korba News - chhattisgarh news the collapse of a coal loaded trailer in the canal in an overtake affair an accident on leaving water will stop if irrigation in 1 lakh hectares
X
Korba News - chhattisgarh news the collapse of a coal loaded trailer in the canal in an overtake affair an accident on leaving water will stop if irrigation in 1 lakh hectares
Korba News - chhattisgarh news the collapse of a coal loaded trailer in the canal in an overtake affair an accident on leaving water will stop if irrigation in 1 lakh hectares
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना