एक ओर जहां युवा डॉक

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:51 AM IST

Korba News - निजी ट्रामा सेंटर में तैनात डाॅ. जैन जिला अस्पताल में देते हैं मुफ्त सेवाएं छह महीने में रैफर की स्थिति वाले ढाई...

Korba News - chhattisgarh news while the young doc
निजी ट्रामा सेंटर में तैनात डाॅ. जैन जिला अस्पताल में देते हैं मुफ्त सेवाएं छह महीने में रैफर की स्थिति वाले ढाई सौ मरीजों का कर चुके हैं इलाज


एक ओर जहां युवा डॉक्टर बनने के बाद जॉब के लिए बड़े या निजी हॉस्पिटल को प्राथमिकता देते हैं। वहीं डॉ. प्रिंस जैन हैं जो जिला अस्पताल में गरीब मरीजों के सहयोग के लिए ऑन कॉल मुफ्त सेवा देते हैं। उन्होंने भोपाल के मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2015 से 2018 तक एमबीबीएस, एमडी की पढ़ाई पूरी की। जिसके बाद उन्होंने जिला अस्पताल परिसर में स्थित बालाजी ट्रामा सेंटर ज्वाइन किया। लेकिन बाजू के जिला अस्पताल में बिना एमडी के गरीब मरीजों को हो रही परेशानी को देखते हुए उन्होंने वहां मुफ्त ऑन कॉल सेवा देनी शुरू की। इसके लिए वे ट्रामा सेंटर में काम करते हुए भी समय निकालते हैं। दिन हो या रात वे सेवा देने को सदैव तत्पर रहते हैं। उन्होंने 6 माह से जिला अस्पताल में ऑन कॉल सेवा देते हुए करीब ढाई सौ मरीजों का इलाज किया है। लेकिन ट्रामा सेंटर में जॉब करते हुए ऑन कॉल पर कम समय दे पाने के कारण वे आगे वे जिला अस्पताल में पूर्णकालीन सेवा देना चाहते हैं। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के साथ ही जिला प्रशासन को आवेदन दिया है। इसके लिए उन्होंने ट्रामा सेंटर का जॉब छोड़ दी है।


अब जिला अस्पताल में पूर्णकालीन सेवा देने के लिए प्रशासन को नियुक्ति के लिए किया है आवेदन, सीएमएचओ ने भी पदस्थापना के लिए जताई है सहमति

संभाग के पहले क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट हैं डॉ. जैन

डॉ. प्रिंस जैन ने क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट (विशेषज्ञ) हैं। उनके मुताबिक संभाग में उनके अलावा कोई भी क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट नहीं है। प्राइवेट हॉस्पिटल में जॉब करते हुए भी सरकारी अस्पताल में गरीबों के लिए मुफ्त ऑन कॉल सेवा शुरू की।

रोजाना 2 केस अटैंड करते रैफर नहीं होते मरीज

जिला अस्पताल प्रबंधन के अनुसार पहले एमडी नहीं होने से गंभीर केस को हायर सेंटर के लिए रैफर करना पड़ता था। लेकिन अब डॉ. प्रिंस जैन के ऑन कॉल ड्यूटी देने से रैफर केस कम हो गए हैं। अस्पताल से कॉल जाते ही वे समय निकालकर मरीज का इलाज करने पहुंच जाते हैं।

बच्ची दुर्गा का इलाज करते डॉक्टर।

नेफ्रोटिक सिंड्रोम से ग्रसित बच्ची के चेहरे पर मुस्कान

वनांचल क्षेत्र में रहने वाले एक गरीब परिवार की बच्ची दुर्गा नेफ्रोटिक सिंड्रोम नामक बीमारी से ग्रसित थी। जिले में उसके इलाज की कोई व्यवस्था नहीं थी। ऐसे में डॉ. जैन ने बच्ची का इलाज करके दवाइयां उपलब्ध कराईं। इलाज के लिए स्वयं आर्थिक मदद भी की। अब बच्ची पहले से स्वस्थ है।



ऑन कॉल सेवा दे रहे हैं डॉ.जैन, आवेदन पर विचार

सीएमएचओ डॉ. पीएस सिसोदिया ने बताया कि डॉ. प्रिंस जैन ट्रामा सेंटर में पदस्थ रहते हुए भी जिला अस्पताल में एमडी के पद पर ऑन कॉल मुफ्त सेवा दे रहे हैं। उन्होंने जिला अस्पताल में पूर्णकालीन सेवा देने के लिए आवेदन दिया है इस पर विचार किया जा रहा है।

X
Korba News - chhattisgarh news while the young doc
COMMENT