हसदेव एक्सप्रेस खड़ी रहती है 1 नंबर पर, 2 से गुजरती है लोकल, इसलिए यशवंतपुर-त्रिवेंद्रम का स्टॉपेज 3 पर / हसदेव एक्सप्रेस खड़ी रहती है 1 नंबर पर, 2 से गुजरती है लोकल, इसलिए यशवंतपुर-त्रिवेंद्रम का स्टॉपेज 3 पर

Korba News - रेलवे प्रबंधन जहां कोयला परिवहन में कीर्तिमान रच रहा है वहीं दूसरी ओर शहर के रेलवे स्टेशन में यात्री सुविधाओं को...

Bhaskar News Network

Nov 18, 2018, 02:46 AM IST
Korba - hasdev express stays at number 1 passes through 2 local hence yashwantpur trivandrum stops at 3
रेलवे प्रबंधन जहां कोयला परिवहन में कीर्तिमान रच रहा है वहीं दूसरी ओर शहर के रेलवे स्टेशन में यात्री सुविधाओं को नजर अंदाज कर रहा है। अब शहर से चलने वाले दो द्विसाप्ताहिक ट्रेन समेत प्रतिदिन चलने वाली लास्ट लोकल का स्टॉपेज 1 नंबर प्लेटफार्म की जगह 2-3 नंबर प्लेटफार्म में शिफ्ट कर दिया गया है। वजह 1 माह से चल रही नई हसदेव एक्सप्रेस को वापसी के समय 1 नंबर प्लेटफार्म में लाकर रातभर रोका जा रहा है। सुबह उसी प्लेटफार्म से ट्रेन रायपुर के लिए रवाना की जा रही है। ऐसे में 2 नंबर को गेवरा रोड लोकल समेत मालगाड़ी के आवाजाही के लिए खाली रखा जा रहा है। आगे 3 नंबर प्लेटफार्म में गुरुवार व रविवार की सुबह आने वाले यशवंतपुर (वेनगंगा) एक्सप्रेस व बुधवार-शनिवार की तड़के आने वाले त्रिवेंद्रम एक्सप्रेस को स्टॉपेज दिया जा रहा है। एक तो दोनों द्विसाप्ताहिक ट्रेन लंबी दूरी तय करके पहुंचती है और दूसरा उसमें सवार अधिकांश यात्री भी लंबे सफर से आते हैं। ऐसे में 3 नंबर प्लेटफार्म से चलकर एफओबी पार करके स्टेशन के बाहर पहुंचना मुश्किल भरा होता है। सुबह इन ट्रेनों में सफर करने वालों को भी 1 से 3 नंबर प्लेटफार्म तक पहुंचने में परेशानी होती है।

वहीं नियमित साफ-सफाई नहीं होने से प्लेटफार्म नंबर 3 में कोल चूरा व डस्ट रहता है। इससे भी घर से तैयार होकर निकले यात्रियों को दिक्कत होती है। यात्रियों ने इसकी शिकायत रेल प्रबंधन से करते हुए हसदेव एक्सप्रेस के 1 नंबर पर सवारी उतारने के बाद उसके रातभर ठहराव दूसरे प्लेटफार्म या फिर पिट लाइन की ओर देने की मांग की है जिससे अन्य ट्रेनों के यात्री परेशान न हो। शहर के पी. राजीव के मुताबिक हसदेव एक्सप्रेस के बजाए द्विसाप्ताहिक ट्रेनों में ज्यादातर बीमार व बुजुर्ग यात्री होते हैं जिन्हें सीढ़ी चढ़ने-उतरने में परेशानी होती है इसलिए ट्रेनों को 1 नंबर प्लेटफार्म देना चाहिए।


नियमित साफ-सफाई नहीं होने से प्लेटफार्म नंबर 3 में कोल चूरा व डस्ट रहता है

रैक गुजरने से ट्रेन की सीट पर जम जाता है डस्ट

स्टेशन परिसर से लगातार मालगाड़ी की रैक गुजरने व दूसरे छोर पर कोल साइडिंग चलने से कोल डस्ट उड़ता रहता है। जिस कारण एक तो प्लेटफार्म के फर्श, नल, वेटिंग सीट में डस्ट जम जाता है।

रोजाना 38-40 रैक कोयला होता है डिस्पैच

शहर के रेलवे स्टेशन से रोजाना मालगाड़ी में औसतन 38 से 40 रैक कोयला डिस्पैच होता है। जिसमें अधिकांश मालगाड़ी प्लेटफार्म नंबर 2 व 3 से गुजरती है। वहीं 14 ट्रैक वाले स्टेशन में अधिकांश ट्रैक पर लोड व अनलोड रैक खड़े रहते हैं।

सुरक्षागत कारणों से नहीं भेजते पिट लाइन

सीएसएम केके तिवारी ने बताया कि हसदेव एक्सप्रेस कोरबा प्लेटफार्म नंबर 1 पर पहुंचती है। यहां यार्ड की सुविधा नहीं है। पिट लाइन है लेकिन अपूर्ण है। जहां सुरक्षा के नाम पर कुछ भी नहीं है। जिसके कारण रात में इस ट्रेन को एक नंबर प्लेटफार्म पर ही रोके रखा जाता है।

बीमार-बुजुर्ग यात्रियों को ज्यादा दिक्कत

यशवंतपुर व त्रिवेंद्रम एक्सप्रेस दक्षिण भारत की ओर से आते हैं। इसलिए उक्त ट्रेनों में वहां के अस्पतालों में इलाज कराने वाले लोग आवाजाही करते हैं। इसके अलावा बुजुर्ग यात्रियों की संख्या भी अधिक रहती है। पहले उक्त ट्रेनों को 1 नंबर प्लेटफार्म पर लाया जाता था जिससे यात्री सीधे ट्रेन से निकलकर आसानी से बाहर चले जाते थे। लेकिन अब 3 नंबर से एफओबी की सीढ़ी चढ़ना-उतरना पड़ता है। जो बीमार या बुजुर्ग यात्रियों के लिए दिक्कत भरा होता है। स्टेशन के एक छोर पर जहां प्लेटफार्म है वहीं दूसरे छोर पर कोल साइडिंग बनाया गया है। जहां मानिकपुर खदान से मालवाहकों में कोयला लेकर डंप किया जाता है। जिसे मालगाड़ी में लोडिंग करके दीगर क्षेत्रों के लिए रवाना किया जाता है।

Korba - hasdev express stays at number 1 passes through 2 local hence yashwantpur trivandrum stops at 3
X
Korba - hasdev express stays at number 1 passes through 2 local hence yashwantpur trivandrum stops at 3
Korba - hasdev express stays at number 1 passes through 2 local hence yashwantpur trivandrum stops at 3
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना