Hindi News »Chhatisgarh »Korba» 30 दिन बाद भी आरटीई का वेब पोर्टल जनरेट नहीं, इससे नहीं शुरू हो सकी प्रवेश प्रक्रिया

30 दिन बाद भी आरटीई का वेब पोर्टल जनरेट नहीं, इससे नहीं शुरू हो सकी प्रवेश प्रक्रिया

इस सत्र में निजी स्कूलों में आरटीई के तहत दाखिला लेने वाले बच्चों का एडमिशन ऑनलाइन होना है। प्रवेश की प्रक्रिया...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:10 AM IST

इस सत्र में निजी स्कूलों में आरटीई के तहत दाखिला लेने वाले बच्चों का एडमिशन ऑनलाइन होना है। प्रवेश की प्रक्रिया अभिभावकों को च्वाइस सेंटर अथवा स्वयं के पास उपलब्ध संसाधनों से ऑनलाइन करनी है।

इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग से वेब पोर्टल जनरेट अब तक नहीं हो सका है। पहले 1 फिर 15 अप्रैल से जनरेट होने की बात कही जा रही थी लेकिन अब इस दिशा में विभाग की ओर से कोई तिथि नहीं दी जा रही है। जबकि 30 दिन बीत चुके हैं। जिले के सभी निजी स्कूलों में नर्सरी से पहली कक्षा तक शिक्षा के अधिकारी के तहत बीपीएल परिवार के बच्चों को शिक्षा के लिए नि:शुल्क प्रवेश दिया जाना है।

151 स्कूलों का पंजीयन, शासन से ही अपडेट नहीं

आरटीई के जिला प्रभारी एमएल ब्राह्मणी ने बताया कि अब तक वेब पोर्टल जनरेट नहीं हो सका है। हर दिन कार्य दिवस पर कम्प्यूटर में जांच की जाती है। लेकिन राज्य शासन से ही अपडेट नहीं हो रहा है। अब तक 151 निजी स्कूलों ने एडमिशन देने पंजीयन कराया है। शेष स्कूलों को डीईओ ने नोटिस जारी किया है।

14834 बच्चों को मिल रहा लाभ: आरटीई लागू होने के बाद वर्तमान में जिले के निजी स्कूलों में 14 हजार 834 बच्चे पहली से 8वीं कक्षा में पढ़ रहे हैं। जिनका पूरा खर्च शासन वहन कर रहा है। शिक्षा के अधिकार के तहत इस बार एडमिशन के बाद यह आंकड़ा बढ़ जाएगा। प्रवेश मंे विलंब होने के कारण कई अभिभावक निराश हैं।

बड़े निजी स्कूलों के पक्ष में चल रहा माहौल

आरटीई में दाखिला देने के पक्ष में बड़े निजी स्कूलों के प्रबंधन नहीं होते हैं। 30 दिन में वेब पोर्टल जनरेट नहीं होने से उन्हें नुकसान नहीं होना है। क्योंकि वे सीटों को लंबे समय तक रिक्त रखना नहीं चाहेंगे। ऐसा नहीं करने पर बच्चों की पढ़ाई पूरी नहीं करा सकेंगे। इसके ठीक विपरीत छोटे-छोटे निजी स्कूलों की राय होती है। क्योंकि पहले से उनकी सीट नहीं भरती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Korba

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×