• Hindi News
  • Chhattisgarh News
  • Korba News
  • एसईसीएल में 47 तकनीकी कर्मी डोजर आॅपरेटर बनाए गए, अब एक साल तक सभी लेंगे प्रशिक्षण
--Advertisement--

एसईसीएल में 47 तकनीकी कर्मी डोजर आॅपरेटर बनाए गए, अब एक साल तक सभी लेंगे प्रशिक्षण

एसईसीएल में तकनीकी पद पर काम करने वाले कर्मियों का चयन डोजर ऑपरेटर पद पर किया गया है। इन कर्मियों को वर्तमान पद के...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:10 AM IST
एसईसीएल में तकनीकी पद पर काम करने वाले कर्मियों का चयन डोजर ऑपरेटर पद पर किया गया है। इन कर्मियों को वर्तमान पद के अनुरूप वेतनमान पर एक वर्ष तक प्रशिक्षण अवधि पर रहना होगा। कार्य संतोषजनक होने पर पदोन्नति मिलेगी।

तकनीकी पद पर कार्यरत कर्मियों को अन्य कैडर में भेजने पर एईसीएल प्रबंधन ने रोक लगा दी थी ताकि कामकाज प्रभावित न हो, पर डोजर ऑपरेटर के मामले में ऐसा नहीं हुआ। ग्रुप डी के इस पद के लिए कर्मियों से आवेदन मंगाया गया था। इस पर विभागीय कर्मी आवेदन कर कौशल परीक्षा (एप्टीट्यूड टेस्ट) में सम्मिलित हुए। सफल होने पर कर्मियों की सूची एसईसीएल मुख्यालय में वरिष्ठ प्रबंधक कार्मिक की ओर से जारी की गई। चयनित उम्मीदवारों में जनरल मजदूर से लेकर वेल्डर, ड्रिलर, इलेक्ट्रिकल फिटर, एलडीएल ऑपरेटर, वाटर सप्लाई मजदूर, सपोर्ट मिस्त्री व बीसीएम जैसे पद पर कार्यरत कर्मी शामिल हैं।

संतोषजनक कार्य होने पर ही मिलेगी पदोन्नति, ग्रुप डी के इस पद के लिए मंगाया था आवेदन

चयनित में कोरबा एरिया से ज्यादा कामगार

चयनित उम्मीदवारों में एसईसीएल कोरबा एरिया में कार्यरत कर्मियों की संख्या सर्वाधिक है। 30 कर्मचारी कोरबा एरिया से चयनित किए गए हैं। भटगांव, सीडब्ल्यूएस गेवरा, दीपका, गेवरा, बैकुंठपुर, विश्रामपुर एवं सोहागपुर के कर्मचारी भी शामिल हैं। इन कर्मियों को एक वर्ष तक प्रशिक्षण लेना होगा। इस दौरान वर्तमान पदनाम, श्रेणी एवं केटेगरी के अनुसार ही वेतनमान व अन्य सुविधाएं दी जाएगी। प्रशिक्षण के बाद ट्रेड टेस्ट में सफल नहीं होने पर कर्मियों की प्रशिक्षण अवधि बढ़ा दी जाएगी या उनको पुराने कार्य पर भेज दिया जाएगा।

चयन के बाद अन्य खदानों में भेजे गए: ग्रुप डी डोजर ऑपरेटर पद पर चयन होने के बाद कर्मियों को अन्य खदान में स्थानांतरित किया गया है। इन कर्मियों को एक वर्ष तक ट्रेनी के रूप में नए पदस्थापना स्थल पर कार्य करना होगा। आदेश में कहा गया है कि 30 दिन के भीतर कर्मचारी अपना कार्यभार ग्रहण नहीं करते हैं, तो उनका चयन निरस्त माना जाएगा। इसके साथ ही चयनित कर्मचारी यदि चयन निरस्त करते हुए अपने मूल पद, कार्यस्थल पर पदस्थ करने के लिए आवेदन प्रस्तुत किया जाता है, तो उसे अस्वीकार दिया जाएगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..