Hindi News »Chhatisgarh »Koria» खाद-बीज की सब्सिडी अब सीधे किसानों के खाते में जमा होगी, रुकेगा फर्जीवाड़ा

खाद-बीज की सब्सिडी अब सीधे किसानों के खाते में जमा होगी, रुकेगा फर्जीवाड़ा

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की समितियों के माध्यम से कृषि कार्य के लिए खाद लेने वाले किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:50 AM IST

खाद-बीज की सब्सिडी अब सीधे किसानों के खाते में जमा होगी, रुकेगा फर्जीवाड़ा
जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की समितियों के माध्यम से कृषि कार्य के लिए खाद लेने वाले किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे सब्सिडी की राशि जमा होगी। नाबार्ड ने बैंक के अंतर्गत आने वाली जिले की सभी समितियों में पीओएस मशीन लगा दी है। अब जिले के पंजीकृत 14 हजार से अधिक किसानों के खाते में सीधे खाद में मिलने वाली सब्सिडी जाएगी। इस व्यवस्था को फर्जीवाड़े पर रोक लगाने लागू किया गया है। यह नई व्यवस्था आने वाले खरीफ सीजन से लागू हो जाएगी।

घरेलू रसोई गैस कनेक्शनधारी उपभोक्ताओं को मिलने वाली सब्सिडी की तर्ज पर किसानों को खाद में सब्सिडी की सुविधा मिलेगी। सब्सिडी का लाभ जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के खाताधारक किसानों को ही दी जाएगी। इन किसानों को केंद्र सरकार की योजना की तहत राज्य शासन द्वारा खरीफ फसल के दौरान कृषि कार्य के लिए खाद व बीज कर्ज पर दिया जाता है। खाद व बीज के अलावा नकद राशि भी दी जाती है। पूर्व में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अंतर्गत संचालित समितियों के माध्यम से किसानों को खाद व बीज की आपूर्ति की जाती थी। समिति द्वारा किसानों को रियायती दर पर खाद दी जाती थी।

जिले के 14 हजार किसानों के खातों में आएगी सब्सिडी।

14 हजार किसानों को मिलेगा योजना का लाभ

सब्सिडी की राशि केंद्र सरकार द्वारा सीधे खाद निर्माता कंपनियों के खाते में जमा करा दी जाती थी। अब ऐसा नहीं होगा। केंद्र सरकार के इस नियम के बाद जिले के करीब 14 हजार किसानों को सब्सिडी योजना का लाभ मिलेगा हालांकि इसके लिए किसानों को पहले राशि अपनी अोर से राशि खर्च कर खाद खरीदना पड़ेगी इासके बाद उसे सब्सिडी के लिए इंतजार करना पड़ेगा। इसके बाद उसके खाते में राशि आएगी।

जिले की 20 समितियों में लगाई हैं पीओएस मशीन

कोरिया जिला सहकारी बैंक शाखा प्रबंधक धर्मेंद्र शर्मा ने बताया कि जिला सह. केंद्रीय बैंक के अंतर्गत संचालित समितियों के माध्यम से खाद लेने वाले किसानों को सब्सिडी की राशि अब सीधे उनके बैंक अकाउंट में जमा कराने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए सभी समितियों में पीओएस मशीन उपलब्ध करा दी गई है। आने वाले खरीफ के सीजन में के दौरान किसानों के लिए नई व्यवस्था लागू हो जाएगी।

सब्सिडी के लिए किसानों को आधार नंबर सोसाएटी में अपडेट कराना होगा

पीओएस मशीन में लगाना होगा फिंगर प्रिंट

सब्सिडी लेने वाले किसानों को समितियों में लगी पीओएस मशीन में अपना फिंगर प्रिंट लगाना होगा। ऐसा करते ही ऑनलाइन जानकारी मिल जाएगी। इसके लिए बैंक अकाउंट से आधार नंबर लिंक कराना जरूरी है। जिन किसानों का आधार नंबर बैंक अकाउंट से लिंक नहीं है उन्हें सब्सिडी नहीं मिलेगी। पीओएस मशीन में फिंगर प्रिंट के साथ ही ये तय हो जाएगा कि किसान ने ही खाद ली है।

योजना के लिए जिले की समितियों में लगाई जा रही है पीओएस मशीन

किसानों के नाम पर होने वाला कंपनियों का फर्जीवाड़ा रुकेगा

पहल ये कंपनी के एकाउंट में पहुंचती थी सब्सिडी

समितियों के माध्यम से खाद लेने वाले किसानों को सब्सिडी की सुविधा पहले भी दी जाती थी। इसके तहत किसानों को रियायती दर पर खाद उपलब्ध कराने के बाद सब्सिडी की राशि आपूर्ति करने वाली कंपनी को दी जाती थी। इसमें बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा होता था। किसान जरूरत के मुताबिक खाद खरीदते थे। उनके हिस्से की खाद या तो समिति के माध्यम से बेच कर सब्सिडी हड़प लेते थे या फिर सीधे खाद निर्माता कंपनी के खाते में राशि जमा हो जाती थी। इसमें कई बार हेराफेरी हो जाती थी।

डीएपी खाद में मिलेगी सबसे ज्यादा सब्सिडी

केंद्र सरकार ने खाद के किस्मों और कीमत के आधार पर सब्सिडी देने का निर्णय लिया है। खरीफ फसल के दौरान कृषि कार्य के लिए वर्तमान में डीएपी खाद की कीमत सबसे ज्यादा है। लिहाजा सब्सिडी की राशि भी इसमें सबसे ज्यादा मिलेगी। सुपर फास्फेट में सब्सिडी की राशि सबसे कम मिलेगी। अभी किसानों को डीएपी के लिए मोटी खकम खर्च करना पड़ती है। सब्सिडी से उन्हें परेशान नहीं होना पड़ेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Koria

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×