• Home
  • Chhattisgarh News
  • Koriya News
  • जिले में बाल विवाह रोकने उठाए जा रहे कदम, अब तक रोके जा चुके सात विवाह
--Advertisement--

जिले में बाल विवाह रोकने उठाए जा रहे कदम, अब तक रोके जा चुके सात विवाह

भास्कर संवाददाता|बैकुण्ठपुर जिले में बाल विवाह को रोकने व बाल विवाह न करने की समझाइश देने की कार्रवाई करते हुए...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:10 AM IST
भास्कर संवाददाता|बैकुण्ठपुर

जिले में बाल विवाह को रोकने व बाल विवाह न करने की समझाइश देने की कार्रवाई करते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत जिला बाल संरक्षण इकाई के जिला बाल संरक्षण अधिकारी आशीष गुप्ता के नेतृत्व में अब तक कोरिया जिले में 7 बाल विवाह को रोके जाने में सफलता प्राप्त की है। संपूर्ण जिले में ग्राम स्तर पर स्थानीय सरपंच सचिव एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

फरवरी में अब तक 7 बाल विवाह रोके गए हैं। खडगवां से सोनहत, बैकुंठपुर, मनेन्द्रगढ़ से 3 बाल विवाह रोके जा चुके हैं। जिला बाल संरक्षण अधिकारी गुप्ता ने बताया कि पूरे जिले में बाल संरक्षण इकाई टीम के साथ महिला बाल विकास विभागए विशेष किशोर पुलिस यूनिट, चाईल्ड लाईन, स्थानीय सरपंच व सचिव का सहयोग प्राप्त हो रहा है। कुछ विशिष्ट जातियों में बाल विवाह के प्रकरण पूर्व वर्षो में देखे जाते रहे हैं। इन्हे रोकने के लिए कलेक्टर नरेन्द्र दुग्गा के निर्देश पर विभाग के कर्मचारी पूरी तरह सक्रिय हैं। बाल विवाह रोकने के लिए सर्वप्रथम जिले में जातियों को चिन्हित किया जा रहा है। चिन्हित करने हेतु पटवारी, कोटवार, शिक्षकों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व ग्राम स्तरीय शासकीय अमले को दायित्व सौंपा जाएगा। प्रत्येक ग्राम पंचायत में बाल संरक्षण समिति का गठन किया जा चुका है। जिसके प्रथम बैठक प्रस्ताव में ग्राम पंचायत को बाल विवाह मुक्त ग्राम पंचायत बनाने का प्रस्ताव दिया गया है। साथ ही बाल विवाह पंजी संधारित करने के भी निर्देश दिए गए हैं। पंजी संधारण से ग्राम पंचायतों में होने वाले समस्त विवाहों का रिकार्ड रहेगा।