Hindi News »Chhatisgarh »Koria» एटीएम बदलकर ठगी करने वाले चार आराेपी हुए गिरफ्तार, ढाई लाख का सामान भी जब्त

एटीएम बदलकर ठगी करने वाले चार आराेपी हुए गिरफ्तार, ढाई लाख का सामान भी जब्त

एटीएम कार्ड बदलकर ठगी करने वाले चार आरोपियों को चिरमिरी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस ने 78...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:10 AM IST

एटीएम बदलकर ठगी करने वाले चार आराेपी हुए गिरफ्तार, ढाई लाख का सामान भी जब्त
एटीएम कार्ड बदलकर ठगी करने वाले चार आरोपियों को चिरमिरी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से पुलिस ने 78 हजार 700 रुपए नकद, 14 अलग-अलग व्यक्तियों के एटीएम कार्ड, चार मोबाइल और दो बाइक जब्त की है। आरोपियों के पास से नकदी सहित कुल ढाई लाख रुपए का सामान बरामद किया गया। घटना का खुलासा बुधवार को थाने में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस मंे पुलिस ने किया।

एएसपी कोरिया निवेदिता पाल ने बताया कि बीते सोमवार को घुटरी दफाई हल्दीबाड़ी निवासी श्रवण ताम्रकार ने चिरमिरी थाने में शिकायत की थी कि उसके खाते से 76 हजार रुपए पार कर दिए। पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली की चार संदिग्ध युवक बाहर से आकर हल्दीबाड़ी के एक होटल में ठहरे थे। सूचना पर चारों को थाने लाकर पूछताछ करने पर उन्होंने श्रवण ताम्रकार के एटीएम कार्ड को बदलकर उसके खाते से पैसा निकालना स्वीकार किया। साथ ही थाना बैकुंठपुर आईडीबीआई के एटीएम से प्रार्थी शेख खलील के एटीएम कार्ड को बदलकर 76 हजार रुपए की ठगी की बात स्वीकार की।

इनके कुछ साथी मध्यप्रदेश के रीवा के जेल में हैं बंद, बड़े गिरोह का कारनामा

पुलिस की िगरफ्त में आरोपित और वारदात के दौरान जब्त सामान।

मदद के बहाने बदला एटीएम

प्रार्थी श्रवण ताम्रकार ने बताया कि वह एसबीआई हल्दीबाड़ी में वे नए एटीएम कार्ड को चालू कराने के लिए गए थे। बैंक के अधिकारियों ने उन्हें बताया कि ग्राहक स्वयं एटीएम का पिन बनाते हैं। आप एटीएम में जाकर बना लिजिए। जब वह बैंक से बाहर आए तो पहले से मौजूद चार युवकों ने उससे एटीएम कार्ड लेकर पिन बनाने की बात कही। तब उसने अपना एटीएम उन्हें दे दिया। कुछ देर में अज्ञात युवकों ने उसे पिन बनाकर एटीएम उसे वापस कर दिया। ठगी से अनजान श्रवण घर आकर सो रहे थे। इसी दौरान उसके मोबाइल में बैंक से पैसे निकालने का मैसेज आया। तब उसने अपना मोबाइल चेक किया तो पता चला कि उसके खाते से 21 हजार निकल गए। बैंक जाने के बाद पता चला की रुपए एटीएम के द्वारा निकाले गए है, जिसके बाद उन्होंने अपना एटीएम चेक किया तब पता चला कि एटीएम कार्ड बदल लिया गया है। पुलिस के अनुसार चारों आरोपी उत्तर प्रदेश के इलाहबाद के रहने वाले हंै।

होटल में रूम लेकर ठहरे थे आरोपी

पुलिस ने बताया क नगर पुलिस अधीक्षक चिरमिरी के नेतृत्व में टीम बनाकर अज्ञात आरोपियों की तलाश शुरू गई तो पता चला कि चिरमिरी के हल्दीबाड़ी स्थित एक होटल में इलाहाबाद के चार युवक रामजनम यादव, नवीन सिंह, पुष्पराज सिंह, विकास शुक्ला, ठहरे हुए हैं, उनकी गतिविधियां संदिग्ध हैं। जब चारों युवकों को थाने लाकर पूछताछ की गई तो उन्होंने श्रवण ताम्रकार के एटीएम कार्ड बदलकर पैसा निकालना स्वीकार किया। आरोपी एक साथ एटीएम में दो से तीन की संख्या में घुसकर पहले पीछे खड़े होकर ग्राहक के पासवर्ड पर नजर रखते थे और फिर दो-तीन बार पैसा न निकलने पर ग्राहक से एटीएम मांगकर चंद पलों में दूसरा एटीएम उसके हाथ में दे देते थे और बाद में उसके एटीएम से खुद रुपए निकाल लेते थे। मनेंद्रगढ़ में 26 फरवरी को तीन लोगों से इसी तरह से 10-10 हजार कुल 30 हजार ठगी करना तथा 25 फरवरी को चचई जिला शहडोल मप्र से 20 हजार रुपए की ठगी की थी।

ठगी से ऐसे रहें सावधान

एटीएम का गोपनीय नंबर पूछकर ऑनलाइन ठगी कोई नई बात नहीं रह गई है। बावजूद इसके शातिर ठग कई तरीकों से झांसे में लेकर पढ़े-लिखे लोगों से गोपनीय जानकारी लेकर खाते से रकम उड़ा रहे हैं। ऐसे में ऑनलाइन ठगी के साथ-साथ एटीएम इस्तेमाल करते वक्त भी सावधानी बरतने की जरूरत है। जिले में हर महिने इस तरत के मामले सामने आते रहते हैं। ऐसे मामले में पुलिस सीधे एफआईआर दर्ज करने के बजाए शिकायत लेकर जांच में जुटती है। जांच में आनलाइन ठगों के फर्जी नंबर से कॉल करने की जानकारी सामने आती है। जिसके बाद आगे की कार्रवाई रूक जाती है। जिनके बैंक खाते से ऑनलाइन ठगी के जरिए रकम उड़ा दी जाती है, उनकी पुलिस भी कोई मदद नहीं कर पाती। आरोपी मप्र के अनूपपुर, शहडोल, रीवा, पन्ना, छतरपुर, जिलों के साथ उप्र के इलाहाबाद, जौनपुर, वाराणसी, रेनूकुट, जिलों में कई लोगों के साथ ठगी की वारदात को स्वीकार किया है।

पुलिस को 78 हजार 700 रुपए मिले नकद

प्रेस कांफ्रेंस कर पुलिस ने घटना का खुलासा बुधवार काे किया, आरोपी के साथी मप्र के जेल में है बंद

बैंक उपभोक्ता ये सावधानी बरतें

बैंक कभी भी फोन करके एटीएम पिन, ओटीपी आिद नहीं मांगती। बैंक एकाउंट, एटीएम कार्ड, ईमेल आईडी की पासवर्ड किसी को न बताएंं। डिटेल न देने पर एकाउंट बंद किए जाने या मोबाइल नंबर बंद करने की रिक्वेस्ट आए तो ध्यान न दें। साइबर कैफे से ऑनलाइन ट्रांजिक्शन से बचें। स्वाइप मशीन का उपयोग करते समय ध्यान रखे कि सीसीटीवरी कैमरे की सीधी निगरानी न हो। एटीएम इस्तेमाल करते वक्त सावधान रहें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Koriya News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: एटीएम बदलकर ठगी करने वाले चार आराेपी हुए गिरफ्तार, ढाई लाख का सामान भी जब्त
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Koria

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×