किसानों की कर्ज माफी के साथ धान के बढ़े दाम, बोनस से बाजार में उछाल

Koria News - 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास का समापन होगा और गत 16 दिसंबर से शुभ संस्कारों पर...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:05 AM IST
Baikunthpur News - chhattisgarh news increased prices of paddy bonus boom in farmers with debt waiver of farmers
15 जनवरी को मकर संक्रांति पर सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास का समापन होगा और गत 16 दिसंबर से शुभ संस्कारों पर लगी रोक हट जाएगी। इसके बाद से बाजार में भी रौनक बढ़ जाएगी। इसका इंतजार व्यापारी कर रहे हैं। नए साल 2019 का पहला मुहूर्त 17 जनवरी को है। इस दिन से विवाहित सीजन शुरू हो जाएगा और होलाष्टक तक लगभग 20 मुहूर्त विवाह के लिए श्रेष्ठ बताए जा रही हैं।

होलाष्टक के बाद पुनः एक माह के लिए मीन मलमास शुरू जाएगा और इस दौरान विवाह संस्कार नहीं होंगे। मीन मलमास अप्रैल के मध्यान्ह में खत्म होगा। इसके बाद फिर जुलाई में चातुर्मास शुरू होने तक ढेरों मुहूर्त में फेरे लिए जा सकेंगे। बीते एक माह से व्यापार में सुस्ती छाई रही हैं। अब 17 जनवरी से वैवाहिक मुहूर्त शुरू होने के साथ ही सराफा बाजार, बर्तन व्यापारी, आॅटो मोबाइल सहित वैवाहिक व्यवसाय जुड़े व्यापारियों के यहां शादी के लिए सामग्री की बुकिंग का काम शुरू हो गया हैं।पंडित श्याम सालोने शास्त्री ने बताया बीते साल 16 दिसंबर से शुरू हुआ खरमास का समापन 15 जनवरी को मकर संक्रांति पर होगा। मकर संक्रांति के बाद से सूर्य उत्तरायण की स्थिति में आ जाएगा। वर्तमान में सूर्य धनु राशि में है। मान्यता है कि सूर्य जब धनु राशि में होता है तब मलीन अवस्था में होता है। सूर्य के मलीन अवस्था में होने के कारण किसी भी तरह का शुभ संस्कार नहीं किया जाता। सूर्य जब 15 जनवरी को धनु राशि से निकलकर शनि प्रधान मकर राशि में प्रवेश करेगा। इसके बाद से शुभ संस्कार किए जा सकेंगे।

होली के आठ दिनों पूर्व 14 मार्च से होलाष्टक लग जाएगा। मान्यता है कि होलाष्टक के आठ दिनों में कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। होलाष्टक वाले दिन ही सूर्य मीन राशि में प्रवेश करेगा और इस दिन से मीन मलमास शुरू हो जाएगा, जो 14 अप्रैल तक चलेगा। इसके चलते 14 मार्च से 14 अप्रैल तक कोई भी शुभ कार्य संपन्न नहीं होगा।

नए साल 2019 जनवरी में 6, फरवरी में 10, मार्च में 5, अप्रैल में 10, मई में 14, जून में 13, जुलाई में 2, नवंबर में 8 और दिसंबर में 4 शादी के मुहूर्त हैं।

शादी के मुहूर्त

जनवरी 17, 18, 23, 25, 26, 29 फरवरी 1, 8, 9, 10, 15, 21, 23, 24, 26, 28 मार्च 2, 7, 8, 9, 13

अप्रैल 16, 17, 18, 19, 20, 22, 23, 24, 25, 26

मई 2, 6, 7, 8, 12, 14, 15, 17, 19, 21, 23, 28, 29, 30 जून 8, 9, 10, 12, 13, 14, 15, 16, 17, 18, 19, 25, 26 जुलाई 6 और 7 नवंबर 8, 9, 10, 14, 22, 23, 24, 30 दिसंबर 5, 6, 11, 12

इस साल मई में सबसे ज्यादा शादी के 14 मुहूर्त

इस साल मई माह में अच्छी ग्राहकी होने की उम्मीद हैं, क्योंकि इसी माह में सबसे अधिक 14 शादी के मुहूर्त हैं। हालांकि जनवरी में 6 और मार्च में 5 मुहूर्त हैं, जबकि फरवरी माह में 10 शादी के मुहूर्त हैं। किसानों को बढ़े हुए धान का दाम मिलने के साथ ही बोनस के 300 रुपए मिलेंगे। इससे बाजार में किसानों की खरीदने की क्षमता बढ़ी हैं। यहां यह जानना जरूरी है कि इस जिला मुख्यालय का बाजार पूरी तरह से किसानों पर निर्भर हैं। धान के बढ़ हुए दाम और बोनस मिलने के कारण जिन किसानों के यहां वैवाहिक कार्यक्रम का आयोजन होना हैं। उनकी बाजार में खरीदने की क्षमता बढ़ी हैं। इसका फायदा व्यापारियों मिलना शुरू भी हो गया हैं।

X
Baikunthpur News - chhattisgarh news increased prices of paddy bonus boom in farmers with debt waiver of farmers
COMMENT