--Advertisement--

पबजी-फोर्टनाइट बने लत, दो साल में 3 गुना बढ़े गेमिंग रोगी

Koria News - धर्मेन्द्र सिंह भदौरिया | बेंगलुरु बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस (निम्हांस)...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:51 AM IST
Patna News - pujya fortnite addiction 3 times increase in gaming patients in two years
धर्मेन्द्र सिंह भदौरिया | बेंगलुरु

बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस (निम्हांस) परिसर में शट क्लीनिक में तीन-चार बच्चे माता-पिता के साथ आए हैं। डॉक्टर के केबिन में विशाल बैठा है। डॉक्टर विशाल से पूछते हैं कि उसके कितने दोस्त हैं। वह पूछता है- ऑनलाइन या ऑफलाइन? ऑनलाइन 500 से ज्यादा, जबकि ऑफलाइन दो-तीन। विशाल ने बताया कि वह रोज 8 से 9 घंटे पबजी खेलता है। ज्यादातर रात में क्योंकि उसके विदेशी ‘दोस्त’ भी रात में ही खेलते हैं। विशाल की तरह पबजी (प्लेयर-अननोन्स बैटलग्राउंड्स) और फोर्टनाइट जैसे गेम्स की लत के शिकार तेजी से बढ़ रहे हैं। भास्कर द्वारा देश के स्कूलों में किए गए सर्वे में भी यह सामने आया है कि 68% बच्चे कोई न कोई गेम खेल रहे हैं। देश में 22 करोड़ से ज्यादा गेमर्स हैं।

समस्या इतनी गंभीर हो गई है कि बच्चे 4 से 14 घंटे तक मोबाइल गेम्स में बिता रहे हैं। शट (सर्विसेस फॉर हेल्दी यूज़ ऑफ टेक्नोलाॅजी) क्लीनिक के प्रो. डॉ. मनोज कुमार शर्मा कहते हैं सबसे बड़ी चुनौती तो यह होती है कि ज्यादातर केसों में बच्चे मानते ही नहीं हैं कि वे बीमार हैं। हमें वर्ष 2013 से इस बीमारी से संबंधित मरीज लगातार मिलना शुरू हुए। वर्ष 2016 में जब से इंटरनेट सस्ता हुआ है ऐसे मरीजों की संख्या में तीन गुना वृद्धि हो गई है। अभी सर्वाधिक केस पबजी के ही आ रहे हैं। 12 से 23 वर्ष के उम्र तक के युवा हमारे पास आ रहे हैं। शेष | पेज 7 पर

प्रो. डॉ. मनोज कुमार शर्मा कहते हैं कि हर सप्ताह तीन से चार नए मरीज हमारे पास आते हैं। दवाओं के अलावा ऐसे बच्चों के इलाज के लिए 8 से 25 काउंसलिंग सेशन लेने पड़ रहे हैं। क्लीनिक की सीनियर रिसर्च फेलो अश्विनी तडपत्रिकर कहती हैं कि हमारे पास ऐसे केस भी आते हैं जिसमें बच्चों की फिजिकल एक्टिविटी बंद हो जाती है। न सिर्फ सोशल लाइफ खत्म हो रही है बल्कि वे नहा भी नहीं रहे हैं, खा भी नहीं रहे हैं। रात-रात भर सोते भी नहीं हैं। दिन में सोते हैं, स्कूल नहीं जाते हैं- स्कूल जाते भी हैं तो वहां ऊंघते रहते हैं। अगर कोई दोस्त भी आता है तो उसके साथ भी पबजी खेलते हैं।

तडपत्रिकर कहती हैं कि हमारे पास सबसे ज्यादा केस न्यूक्लियर फैमिली या जिनके माता-पिता दोनों नौकरी कर रहे हैंं उनके परिवारों से आते हैं। बच्चा सिंगल चाइल्ड है तब भी ऐसे केसेस सामने आते हैं। शुरुआत में पैरेंट्स बच्चों को तकनीक सिखाते हैं और एक्सपोजर के नाम पर फिर बच्चे मोबाइल का ज्यादा प्रयोग करने लगते हैं। गेमिंग की शुरुआत में फन, मनोरंजन, जीतने के लिए और टाइम पास के लिए टीनएजर्स जुड़ते हैं। वे बताती हैं कि हम मोटीवेशनल क्लास, थैरेपी और पैरेंटल एज्युकेशन देते हैं। लाइफस्टाइल चेंज करने को प्रोत्साहित करते हैं। हम अचानक गेम्स नहीं छुड़वाते हैं। नहीं तो बच्चा चिड़चिड़ा और कभी-कभी आक्रामक भी हो जाता है। हम दिन में या शाम में एक ही वक्त सीमित समय के लिए खेलने को कहते हैं। ऐसे बच्चों को ज्यादा देर अकेले में नहीं रहने देना चाहिए, परिवार को साथ समय बिताना चाहिए। गेम्स के अलावा यह लत सोशल मीडिया- जैसे वॉट्सएप, फेसबुक पर अधिक वक्त बिताने, पोर्न साइट देखने, नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम, हॉटस्टार पर कई सीरीज प्रोग्राम देखने के कारण भी सामने आए हैं। उम्रदराज लोगों में इन कारणों के साथ ही महिलाओं में ऑन लाइन शॉपिंग करने और सोशल मीडिया पर समय बिताने और पुरुषों में गेम्बलिंग और ट्रेडिंग करने के केस भी आए हैं।

गौरतलब है कि टेक्नोलॉजी एडिक्शन का देश का पहला और सबसे बड़ा सेंटर निम्हांस में ही चलता है। यहां इस बीमारी से पीड़ित बच्चे देशभर से आते हैं। कानपुर, दिल्ली, पंजाब, पटना, ओडीशा, बेंगलुरु, कर्नाटक आदि क्षेत्रों से बच्चे आते हैं। बच्चे पबजी के अलावा डोटा-1, डोटा-2, फोर्टनाइट, काउंटर स्ट्राइक, वर्ल्ड ऑफ वॉर-क्राफ्ट जैसे खेलों की गिरफ्त में आ रहे हैं। अब यह बीमारी संपन्न परिवारों के बच्चों से लेकर छोटे शहर-गांवों के मध्यमवर्गीय परिवारों तक पहुंच गई है।

भारत में हैं 22 करोड़ गेमर्स

गेमिंग एनालिटिक्स फर्म न्यूज़ू के मुताबिक दुनियाभर में आज गेमिंग इंडस्ट्री की कमाई 138 अरब डॉलर (करीब 9700 अरब रुपए) से ज्यादा की हो चुकी है। इसमें लगभग 51 फीसदी हिस्सेदारी मोबाइल सेगमेंट की है। वहीं गेमिंग रेवेन्यू के मामले में भारत टॉप 20 देशों में आता है। 2021 तक गेमिंग मार्केट की कमाई 100 अरब डॉलर से अधिक होने की संभावना है। न्यूज़ू के मुताबिक पूरी दुनिया में 2.3 अरब गेमर्स हैं। इसमें 22 करोड़ गेमर्स भारत से हैं।

डब्ल्यूएचओ ने इसे अब बीमारी कहा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसी साल गेम खेलने की लत को मानसिक रोग की श्रेणी में शामिल किया है। इसे गेमिंग डिसऑर्डर नाम दिया गया है। शट क्लीनिक के अनुसार टेक एडिक्शन वालों में 60 फीसदी गेम्स खेलते हैंं। 20 फीसदी पोर्न साइट देखने वाले होते हैं। बाकी 20 फीसदी में सोशल मीडिया, वॉट्सएप आदि के मरीज आते हैं।

ऐसे पहचानें इसके लक्षण

प्रोफेसर शर्मा कहते हैं कि खुद का खुद पर नियंत्रण खत्म हो रहा है, गेम खेलते हैं तो खेलते ही रहते हैं। जीवन शैली में एक ही एक्टिविटी रह गई है। नुकसान की जानकारी होने के बावजूद आप खेलते रहते हैं। छह महीने से एक साल में आप ऐसा अपने बच्चे में देखते हैं तो समझें कि टेक्नोलॉजी एडिक्शन है। यह कुछ केसों में पहले भी हो सकता है।

(स्टोरी में सभी बच्चों के नाम और स्थान परिवर्तित हैं।)

इन तीन कहानियाें से समझिए मामला कितना गंभीर है

रातभर गेम खेलता था, स्कूल ने निकाल दिया

हैदराबाद
का तेजस 12वीं में पढ़ता है। गेम की लत ऐसी लगी थी कि 10वीं में नंबर कम आए। 11वीं की शुरुआत में गेम की लत बढ़ गई। अब वह रात-रातभर 8-10 घंटे तक पबजी और फोर्टनाइट खेलने लगा। पढ़ाई बेहतर ना होने के कारण स्कूल ने निकाल दिया। घर वालों ने गेम खेलने से रोका तो तोड़-फोड़ करने लगा। वजन तक बढ़ गया। करीब 25 सेशन की काउंसलिंग के बाद तेजस करीब-करीब सामान्य है। उसे प्रोफेशनल गेमर बनना है इसलिए वह अब दो-ढाई घंटे ही गेम खेलता है।

नॉलेज: ऐसे होती है गेम्स की कमाई, पबजी रोज कमा रहा 12 करोड़ रु.

पबजी के रेवेन्यू में 2.7 गुना बढ़त हुई है। इसकी प्रतिदिन कमाई औसतन 12 करोड़ रुपए तक है। पबजी अब तक 20 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है। इसके तीन करोड़ एक्टिव यूजर्स हैं। पबजी और फोर्टनाइट गेम्स इन-एप परचेज के माध्यम से पैसा कमाते हैं। यानी ये गेम के अंदर ही कुछ टूल (जैसे क्रेट्स, लूट बॉक्स आदि) खरीदने के लिए ऑफर करते हैं। उदाहरण के लिए पबजी में गेम के कैरेक्टर के लिए कॉस्मेटिक खरीदने का विकल्प है। ऐसे ही पबजी ने इलाइट रॉयेल पास लॉन्च किया, जिससे गेम अपग्रेड हो जाता है और नए चैलेंज जुड़ जाते हैं। लेकिन इसके लिए प्लेयर को पैसे चुकाने होते हंै। अन्य प्रोडक्ट्स की ब्रांडिंग से भी पबजी ने पैसे कमाए। जैसे मिशन इम्पॉसिबल फिल्म के प्रमोशन के लिए गेम ने अपनी थीम बदल दी थी।

ऐसे खेलते हैं पबजी : पबजी एक बैटल गेम है जिसमें करीब 100 खिलाड़ी एक साथ खेल सकते हैं। अंत में जो खिलाड़ी जीवित बचता है वह विजेता होता है। इसमें खिलाड़ी आपस में आॅनलाइन बात भी कर सकते हैं।

भास्कर सर्वे

68 फीसदी बच्चे खेल रहे हैं गेम

माता-पिता ने समय कम दिया तो पड़ी लत

सौरभ
और सुमन दोनों आईटी कंपनी में काम करते हैं। 4 साल पहले 5वीं क्लास में पढ़ रहे बेटे रवि को मोबाइल दिलाया। अब 15 वर्ष के हो चुके रवि को एक्सपोजर जल्द मिल गया। वह 8-9 घंटे पबजी खेलने लगा। अक्सर स्कूल की छुट्‌टी करने लगा। माता-पिता जब ऑफिस से घर आते तब भी वे इंटरनेट पर ही समय बिताते। जब पहली बार रवि क्लीनिक पर आया तो बोला कि मुझसे ज्यादा इलाज की जरूरत तो माता-पिता को है। वे ज्यादा देर तक देखते हैं। अब रवि बास्केटबॉल खेलता है।

भास्कर ने देश के बड़े स्कूलों में 991 बच्चों का एक सर्वे किया। इसमें हमने कक्षा 8 के बच्चों को ही शामिल किया था। इसमें सामने आया कि 68.2 फीसदी बच्चे मोबाइल पर कोई न गेम जरूर खेलते हैं। गेम खेलने वाले बच्चों में 52.6 फीसदी बच्चे ऐसे हैं, जो पबजी खेलते हैं।

गेम इतना खेला कि 10वीं में फेल हुआ

लखनऊ
का सौरभ 12वीं में है। पिता बिजनेसमैन हैं और मां दूसरे शहर में नौकरी करती हैं। आठवीं क्लास में ही सौरभ ने गेम खेलना शुरू किया। नौवीं तक आते-आते गेम की लत लग गई। इससे घर में झगड़े बढ़ गए। 10वीं में मैथ्स का पेपर ही छूट गया। 10वीं परीक्षा फिर से दी, जिससे उसका मनोबल गिर गया। स्कूल बदला और दोस्त बदले लेकिन वह और भी अधिक खेलने लगा। फिर पैरेंट्स उसे क्लीनिक पर लाए। रीहेब सेंटर में रखा। पैरेंट्स के साथ बैडमिंटन-चेस खेला। अब सौरभ ठीक है।

X
Patna News - pujya fortnite addiction 3 times increase in gaming patients in two years
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..