--Advertisement--

पूजन-हवन के साथ मनाया गया हनुमान लला का जन्मोत्सव

हनुमान जयंती पर रामायण पाठ करते श्रद्धालु। भास्कर न्यूज | पत्थलगांव शनिवार को हनुमान जन्मोत्सव धूमधाम और...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:35 AM IST
हनुमान जयंती पर रामायण पाठ करते श्रद्धालु।

भास्कर न्यूज | पत्थलगांव

शनिवार को हनुमान जन्मोत्सव धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। यहां के दैनिक सब्जी मंडी, अम्बिकापुर रोड और प्राचीन शिव मंदिर में हनुमान जयंती मनाने के लिए इस बार भक्तों के द्वारा जोरदार तैयारियां की गई थी।

प्राचीन शिव मंदिर के पुजारी श्यामसुन्दर शर्मा ने हनुमान जयंती के अवसर पर हनुमान लला की विधिवत पूजा, अभिषेक, हवन, आरती व चालीसा पाठ का आयोजन किया था। हनुमान जन्मोत्सव का कार्यक्रम में संकट मोचन हनुमान जी की पूजा अर्चना का कार्यक्रम में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ थी। मंदिर सेवा समिति के प्रमुख सदस्य श्रवण अग्रवाल ने हनुमान जयंती का पर्व धूमधाम व परंपरागत ढंग से मनाने के लिए एक दिन पहले ही मंदिर परिसर में सभी तैयारी पूरी कर ली थी। यहां के हनुमान मंदिर को तोरण व पताकाओं से सजाया गया था।

हनुमान जन्मोत्सव का पर्व के अवसर पर शहर के अन्य मंदिरों में भी भजन संध्या तथा भंडारा का आयोजन किया गया था। सब्जी मंडी स्थित हनुमान मंदिर में ज्ञान चन्द अग्रवाल ने सवामणी का प्रसाद लगवाया। इस दौरान पूरे शहर में ही उत्साह का माहौल बना रहा।

भक्ति की शक्ति का श्रेष्ठ उदाहरण

हनुमान जयंती के एक दिन पहले शुक्रवार को किलकिलेश्वर धाम में बाबा कपिल मुनी ने रामकथा का आयोजन प्रारंभ किया था। इस रामकथा का शनिवार को समापन किया गया। डा.संतोष पटेल के नेतृत्व में रामायण मंडली ने सुशील मित्तल के निवास पर अखंड रामायण का आयोजन किया। इसमें भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। बाबा कपिल मुनी ने कहा कि भक्ति की शक्ति का श्रेष्ठ उदाहरण हनुमान जी को माना जाता है। उन्होंने कहा कि व्यक्ति अपने सामर्थ्य से नर से नारायण बन सकता है। इसका प्रतिक सुंदरकांड है। आज पूरे देश में ऐसा कोई गांव नहीं जहां हनुमान जी का मंदिर ना हो। सीता और राम के साथ हनुमान जी तो होते ही हैं। इसके अलावा भी हनुमान जी के भी मंदिर स्थापित हैं। बाबा ने कहा कि अपने कर्म से ही हनुमान जी को श्रेष्ठ स्थान प्राप्त हुआ है। हनुमान जी के इन्हीं कार्यों को याद करके उन्हें भक्ति की शक्ति का श्रेष्ठ उदाहरण माना गया है।

फूलों से हुआ बजरंग बली का श्रृंगार

हवन, जप, महाआरती के बीच मनी हनुमान जयंती

भास्कर न्यूज | तमता

शनिवार को खरखटटा में हनुमान जयंती के अवसर पर हनुमान मंदिर प्राण प्रतिष्ठा किया गया, और फूलों से सजाया गया था। पूरे गांव में हनुमान जयंती पूरे हर्षोल्लास व धूमधाम के साथ मनाई गई।

सुबह सूर्याेदय के पूर्व हनुमान मंदिरों में हवन जप व पूजन का दौर शुरू हो गया था। मंदिर में महाआरती के के बाद भंडारा में हजारों भक्तों ने प्रसाद लिया। हनुमान जयंती के पावन पर्व पर हनुमान मंदिरों पर आकर्षक विद्युत साज सज्जा की गई। हनुमान जयंती महोत्सव में मंदिर समिति के द्वारा महा प्रसाद व महाआरती के आयोजन किए गए। यहां पर मंदिर परिसर को फूलों से सजाया गया। सुबह 6 बजे भगवान हनुमानजी की जयंती आरती हुई। 10 से 4 बजे तक मंदिर परिसर के समीप में महाप्रसाद का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर गांव के सरपंच चंद्रावती, मुुुन्ना, गनपत सिदार, शिव, प्रशांत, रोहित यादव, जगजीवन सिदार, पंकज यादव, निरंजन सिदार आदि मौजूद थे।

रूद्र महायज्ञ की हुई पूर्णाहुति

श्री हनुमान मंदिर ट्रस्ट के द्वारा हनुमान जयंती पर मंदिर में श्री रूद्रमहायज्ञ की पूर्णाहुति हुई। मंदिर में सुबह 6 बजे बालाजी की प्रतिमा की महाआरती की गई। इसके बाद प्रसादी का वितरण किया गया।

मंदिर के शिखर पर कलश स्थापना की गई। वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हुई बालवीर हनुमान की प्राण प्रतिष्ठा की गई। हनुमान जयंती पर विधि विधान वैदिक मंत्रोच्चार के साथ बालवीर हनुमान की प्रतिमा प्राण प्रतिष्ठा हुआ। बैजनाथ नंदे ने हनुमानजी की प्रतिमा को तिलक लगाकर वंदना की।

कुनकुरी | सनातन धर्म समिति एवं जय हनुमान रामायण मंडली कुनकुरी के तत्वावधान में शिव मंदिर परिसर स्थित पंडाल में श्री हनुमान जन्मोत्सव के दो दिवसीय आयोजन के अन्तर्गत अखण्ड रामायण पाठ का समापन किया गया। समापन पर पूजा, हवन एवं आरती के साथ प्रसाद वितरण कर कार्यक्रम हुए। आयोजन में समस्त धार्मिक विधान आचार्य गोविंद महाराज, मदन महाराज एवं प्रवीण महाराज द्वारा कराए गए। अखण्ड रामायण पाठ में पुरुष एवं महिलाएं बारी-बारी से शामिल हुए। हनुमान जयंती में रामायण पाठ के आयोजन में मातृ शक्ति महिला मण्डल, मातृ शक्ति सेवा भारती, दुर्गा वाहिनी, कल्याण आश्रम, सरस्वती शिशु मंदिर, हरिकथा योजना समिति, बोलबम युवा समिति आदि ने भाग लिया।

हनुमान जी की पूजा करते श्रद्धालु।