Hindi News »Chhatisgarh »Mahasamund» अलर्ट के बाद भी दोपहर में ही तय कर दी कक्षाओं की समय सारिणी

अलर्ट के बाद भी दोपहर में ही तय कर दी कक्षाओं की समय सारिणी

महासमुंद। भीषण गर्मी के बीच परीक्षा देते छात्र और पूर्व में जारी किया गया हीट अलर्ट महासमुंद|भीषण गर्मी के आसार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:40 AM IST

अलर्ट के बाद भी दोपहर में ही तय कर दी कक्षाओं की समय सारिणी
महासमुंद। भीषण गर्मी के बीच परीक्षा देते छात्र और पूर्व में जारी किया गया हीट अलर्ट

महासमुंद|भीषण गर्मी के आसार देखते हुए मौसम विभाग ने पहले ही मार्च के महीने के लिए हीट अलर्ट जारी किया था, लेकिन भारी गर्मी और लू के थपेड़ों के बीच बच्चे परीक्षा दे रहे हैं। प्राथमिक और मिडिल कक्षाओं की परीक्षा की समय-सारणी तय करने के दौरान इस हीट अलर्ट को नजर अंदाज कर दिया गया, जिसके कारण बच्चों को भीषण गर्मी में भी परीक्षा देनी पड़ रही है।

प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक कक्षाओं की परीक्षा का दौर जारी है। प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता परीक्षा का आयोजन निजी और सरकारी स्कूलों में हो रहा है। वर्तमान में परीक्षा के सीजन में पड़ने वाली भीषण गर्मी से बच्चों का हाल बेहाल है। तथाकथित बोर्ड परीक्षा कहे जाने वाले कक्षा 5वीं और 8वीं का समय तो सुबह रखा गया है लेकिन पहली से चौथी तक की परीक्षा दे रहे बच्चें गर्मी में तरबतर हो रहे हैं।

तीन बार बदली गई समय सारणी: विभाग ने लगातार तीन बार समय सारिणी में परिवर्तन किया। पहली बार की सारणी में तो कक्षा आठवीं के एक पर्चे का जिक्र ही नहीं था। फिर छुट्टी के दिन परीक्षा घोषित कर दी, बाद में कांट छांट के बाद तीसरी बार सही समय सारिणी घोषित हुई। लेकिन अब गर्मी बढ़ने के साथ बच्चों को होने वाली परेशानी के बाद भी विभाग द्वारा समय सारणी में संशोधन न किया जाना चर्चा का विषय बना हुआ है।

बच्चों व पालकों के अलावा दूरस्थ इलाकों के शिक्षक भी परेशान

मामले को लेकर कुछ पालकों का कहना है कि एसी कमरों में बैठकर यह सब निर्धारण करने वाले अफसरों को विभाग को स्कूलों में सुविधाओं की स्थिति का आंकलन कर लेना चाहिए। दूरस्थ ग्रामीण इलाकों में तो पंखे तक के लिए छात्र तरस रहे हैं। भरी दोपहरी पड़ने वाली गर्मी से केवल नौनिहाल ही नहीं बल्कि शिक्षकों का भी बुरा हाल है। मामले को लेकर जनप्रतिनिधि भी आवाज उठाने तैयार नहीं ं। जिला शिक्षा अधिकारी बीएल कुर्रे का कहना है कि सेंटर स्कूलों को ही बनाया गया है जो नजदीक ही हैं। परीक्षा के दौरान कोई फेरबदल संभव नही किया जा सकता है, आगामी सत्र से जैसा निर्देश मिलेगा उसका पालन किया जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mahasamund

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×