Hindi News »Chhatisgarh »Mahasamund» ‘प्रयास’ में प्रवेश पाने 847 हुए शामिल

‘प्रयास’ में प्रवेश पाने 847 हुए शामिल

अजा, जजा और पिछड़ा वर्ग के छात्रों के लिए राज्य सरकार द्वारा संचालित प्रयास आवासीय विद्यालयों में प्रवेश पाने के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:50 AM IST

‘प्रयास’ में प्रवेश पाने 847 हुए शामिल
अजा, जजा और पिछड़ा वर्ग के छात्रों के लिए राज्य सरकार द्वारा संचालित प्रयास आवासीय विद्यालयों में प्रवेश पाने के लिए जिला मुख्यालय में दो परीक्षा केंद्रों में परीक्षा हुई। शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई परीक्षा में कुल 847 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया।

आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा आयोजित इस परीक्षा के लिए पूरे जिले भर से 912 परीक्षार्थियों का पंजीयन हुआ था जिसके लिए मुख्यालय में हाईस्कूल और गर्ल्स स्कूल सेंटर बनाए गए थे। आशीबाई गोलछा कन्या शाला परीक्षा केंद्र में 475 उपस्थित और 37 अनुपस्थित, शासकीय आदर्श बालक शाला में 372 उपस्थित व 28 अनुपस्थित रहे। सुबह साढ़े 10 से लेकर दोपहर 1 बजे तक परीक्षा संपन्न हुई।

परीक्षा केंद्र से बाहर आए कुछ विद्यार्थियों ने प्रश्नपत्र को सामान्य बताया तो कुछ ने कठिन बताया। आदिम जाति कल्याण विभाग के सहायक आयुक्त बलभद्रराम ने बताया कि उक्त परीक्षा में सभी वर्ग के परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया है जिसमें शासन द्वारा अलग-अलग सीटें निर्धारित की गई है। अनुसूचित जनजाति के लिए 50 प्रतिशत, अनुसूचित जाति के लिए 20, पिछड़ा वर्ग के लिए 20 और सामान्य के लिए 10 प्रतिशत सीट आरक्षित है।

इम्तिहान

प्रयास आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए 912 ने कराया था पंजीयन

महासमुंद। प्रयास स्कूल में एडमिशन पाने परीक्षा देकर निकलते छात्र।

सरकार वहन करेगी छात्र छात्राओं की शिक्षा का खर्च

11वीं और 12वीं कक्षा में प्रवेश के लिए आयोजित इस परीक्षा में सफलता हासिल करने वाले छात्रों को प्रदेश के 6 प्रयास आवासीय विद्यालयों में प्रवेश मिलेगा, जहां उनकी आवास, भोजन और शिक्षा का पूरा खर्च शासन द्वारा वहन किया जाएगा। यहां अध्ययनरत विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग तथा मेडिकल कोचिंग की विशेष सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mahasamund

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×