• Home
  • Chhattisgarh News
  • Mahasamund News
  • होली के पहले मिला वेतन तो बाजार में दिखी त्योहार की रौनक, देर रात हुआ होलिका दहन
--Advertisement--

होली के पहले मिला वेतन तो बाजार में दिखी त्योहार की रौनक, देर रात हुआ होलिका दहन

होली के ठीक एक दिन पहले वेतन मिलते ही गुरुवार को बाजार में रौनक नजर आई। लोगों के खातों में पहुंची रकम को निकालने...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:00 AM IST
होली के ठीक एक दिन पहले वेतन मिलते ही गुरुवार को बाजार में रौनक नजर आई। लोगों के खातों में पहुंची रकम को निकालने होली बैंक और एटीएम में भी खासी भीड़ नजर आई। माह के शुरुआत में ही पर्व होने के कारण लोगों में चिंता थी िक आखिर त्यौहार कैसे मनाएं, लेकिन सरकारी और निजी सेक्टर में भी बुधवार शाम तक वेतन जारी कर दिए गए।

गुरुवार की रात्रि शहर के 97 स्थानों पर होलिका दहन की तैयारी की गई है। इसके साथ गांव गांव में अलग-अलग स्थानों पर होलिका दहन की तैयारी शुरु हो चुकी है। शहर में होली की रात और रंग खेलने के दौरान शांति व्यवस्था के लिए पुलिस ने शहर को छ: भागों में बांटा है। इन इलाकों में अलग-अलग पेट्रोलिंग पार्टियों के साथ थाना में भी विशेष बल और रिजर्व बल की भी तैयारी रखी गई है। होली के दो दिन पहले ही वारंटी और निगरानी शुदा बदमाशों पर कार्रवाई शुरु कर दी गई है। अब तक पुलिस ने तकरीबन डेढ़ दर्जन हुड़दंगियों को गिरफ्तार कर लिया है जिनकी होली इस बार जेल में मनेगी। अप्रिय घटना की स्थिति से निपटने के लिए इन जगहों में पेट्रोलिंग पार्टी को विशेष निर्देश दिए गए हैं। साथ ही संवेदनशील इलाकों में पुलिस द्वारा हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं और ताकि घटना या घटना की स्थिति को देखते हुए तत्काल पुलिस को सूचित किया जा सके।

बाजार में लगी होली की दुकानों में गुरुवार सुबह से ही भीड़ नजर आई।

हानिकारक रंगों के बजाय खेलें हर्बल होली

जिला अस्पताल अधीक्षक डॉ. राकेश परदल का कहना है कि केमिकल युक्त रंगों की बजाय हर्बल होली खेलें। चेहरे और आंख को रंगों से होने वाले नुकसान से बचाएं। संक्रमण होने पर तत्काल जिला अस्पताल पहुंचकर दवाएं ली जा सकती है।

एटीएम में लाइन में खड़े लोग।

इन स्थानों पर जलेगी होली

शहर में स्वामी चौक, अम्बेडकर चौक, लोहिया चौक, स्टेशन पारा, नयापारा, इमलीभाठा, कलेक्टोरेट मार्ग, गुड़रुपारा व बजरंग चौक सहित कई स्थानों पर होलिका दहन की तैयारी है। कई स्थानों पर तो बसंत पंचमी के दिन ही होलिका गाड़ दी गई थी। इनमें से कुछ स्थानों पर पर गुरुवार को दहन के दिन लकड़ी लगाई गई। दहन से पहले पूजा पाठ के बाद होलिका दहन होगा।

इन नंबरों पर किया जा सकेगा संपर्क




शहर में दोपहर से ही लगा दी गई ड्यूटी

एसडीओपी महासमुंद विनोद मिंज ने कहा कि होली के लिए जिले में पर्याप्त बल है। गुरुवार को दोपहर 3 बजे से ही सभी की ड्यूटी लगा दी गई। होली में हुड़दंगियों की धरपकड़ शुरु कर दी गई है। वहीं होली के दिन दोपहर बाद अशांति फैलाने वालों पर कार्रवाई होगी।

निर्धारित मुहूर्त में दहन रहता है फलदायी

पंकज तिवारी ने बताया कि फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा के दिन संध्याकाल में भद्रा रोष रहित समय में होलिका दहन किया जाता है। होली जलाने से पहले उसकी विधि विधान से पूजा आरती की जाती है। अग्नि और भगवान विष्णु के निमित्त आहुतियां दी जाती है। एक मार्च की सुबह 8.06 बजे तक चतुर्दशी तिथि रहेगी। इसके बाद शाम सवा सात बजे तक भद्रा रहेगा। इसलिए भद्रा समाप्त होने पर होलिका दहन होना है। इधर लल्लू महाराज बताते हैं कि पूर्णिमा तिथि के बीच गुरुवार को होलिका दहन हो रहा है, जिससे सिद्धि योग बन रहा है। इसका प्रभाव देश, राज्य और समस्त लोगों के लिए शुभप्रद व कल्याणकारी होगा। आपस में मेलजोल और सामाजिक सौहार्द बढ़ेंगे। पंडित पंकज तिवारी के मुताबिक विधिविधान से होलिका दहन करना ही फलदायी होता है। ऐसा करने वाले लोग भगवान विष्णु की कृपा के पात्र होते हैं।