• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Mahasamund
  • विक्षिप्त से अस्पताल स्टाफ परेशान, आपातकालीन कक्ष में आधी रात तोड़फोड़, 1.5 लाख का नुकसान
--Advertisement--

विक्षिप्त से अस्पताल स्टाफ परेशान, आपातकालीन कक्ष में आधी रात तोड़फोड़, 1.5 लाख का नुकसान

Mahasamund News - मानसिक रोगी की हरकत से बुधवार-गुरुवार की रात अस्पताल प्रबंधन सहित सुरक्षा कर्मी और मरीज भी परेशान रहे। यहां भर्ती...

Dainik Bhaskar

Mar 02, 2018, 03:00 AM IST
विक्षिप्त से अस्पताल स्टाफ परेशान, आपातकालीन कक्ष में आधी रात तोड़फोड़, 1.5 लाख का नुकसान
मानसिक रोगी की हरकत से बुधवार-गुरुवार की रात अस्पताल प्रबंधन सहित सुरक्षा कर्मी और मरीज भी परेशान रहे। यहां भर्ती उक्त रोगी ने आपातकालीन कक्ष में जमकर तोड़फोड़ की और हंगामा मचाया। स्थिति को गंभीर होता देख मरीजों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट किया गया। हरकत को देखते हुए यहां मौजूद सुरक्षा कर्मियों ने तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी और घंटे भर बाद पहुंची पुलिस ने विक्षिप्त मरीज को पकड़कर राजधानी भेज दिया।

बुधवार रात 12 बजे शहर के विक्षिप्त व्यक्ति को परिजनों ने घर में हल्ला मचाने के बाद उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया चिकित्सकों ने उन्हें दवाई और इंजेक्शन भी दिया। इंजेक्शन लगने के बाद मानसिक रोगी सामान्य हो गया और दवाईयों के असर के बाद वह सो गया। उसे आपातकालीन कक्ष से लगे मेल वार्ड में रखा गया। करीब घंटे भर बाद वह अस्पताल में नाइट ड्यूटी में तैनात कर्मचारियों को धमकाने लगा। देखते ही देखते मानसिक रोगी ने अस्पताल में तोड़-फोड़ भी मचानी शुरू कर दी। करीब पौन घंटे तक उक्त व्यक्ति ने आपातकालीन कक्ष में जम कर तोडफ़ोड़ की यहां पर मरीजों के लिए रखी गई आवश्यक दवाइयां, आलमारियां, स्ट्रेचर के अलावा एल्यूमीनियम और कांच के पार्टीशन में भी तोड़फोड़ करता रहा। मरीज की इस हरकत की सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी गई। करीब डेढ़ बजे पीसीआर की पुलिस टीम अस्पताल पहुंची तो पुलिस जवानों ने पकड़ कर काबू पाया। अस्पताल को सवा लाख से डेढ़ लाख रुपए का नुकसान होने का अंदेशा है। अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. आरके परदल ने पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

अस्पताल के आपातकालीन कक्ष में तोड़-फोड़ की वजह से पूरे कांच के टुकड़े बिखरे पड़े थे जिसके चलते आपातकालीन कक्ष में उपचार करना संभव नहीं था।

महासमुंद. अस्पताल में विक्षिप्त द्वारा की गई तोड़फोड़ से हुआ नुकसान।

घटना को देखते रहे ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मी

घटना के बाद अस्पताल की सुरक्षा को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। हालांकि अस्पताल की सुरक्षा के लिए यहां नगर सैनिक के अलावा पुलिस जवानों की ड्यूटी लगाई गई है बावजूद सुरक्षा के लिए तैनात सुरक्षाकर्मी उन पर काबू नहीं कर पाए जिससे अस्पताल में इतनी बड़ी घटना हुई है। बताया जाता है कि घटना के दौरान अस्पताल में तैनात जवान मरीज का उत्पात दूर खड़े होकर देखते रहे।

X
विक्षिप्त से अस्पताल स्टाफ परेशान, आपातकालीन कक्ष में आधी रात तोड़फोड़, 1.5 लाख का नुकसान
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..