--Advertisement--

दरबेकेरा एनीकट से 25 गांवों के 1956 हेक्टेयर खेत सींचे जाएंगे

दरबेराकेरा एनीकट का अवलोकन करते हुए जिला स्तर के अधिकारी। महासमुंद| बागबाहरा के अंतर्गत कांदाझरी नाले में करीब...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:15 AM IST
दरबेराकेरा एनीकट का अवलोकन करते हुए जिला स्तर के अधिकारी।

महासमुंद| बागबाहरा के अंतर्गत कांदाझरी नाले में करीब 15 वर्ष पूर्व दरबेकेरा एनीकट बनाया गया था, जिससे दो गांवों के करीब 60 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती थी। इसके व्यापक कैंचमेंट एरिया (जल ग्रहण क्षेत्र) 160 वर्ग किमी को देखते हुए तथा एनीकट में आने वाले जल के और बेहतर उपयोग के लिए करीब तीन वर्ष पूर्व व्यवपर्तन योजना स्वीकृत की गई। इससे अब 25 ग्रामों के 1956 हेक्टेयर (4831 एकड़) में किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। वर्तमान में शीर्ष कार्य का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है और इससे यहां संग्रहित होने वाले जल का उपयोग कर किसान वर्तमान रबी मौसम में सरसों, गेहूं, आलू तथा अन्य फसलें ले रहे हैं। सबसे बड़ी बात है कि क्षेत्र के किसानों ने पानी के एक-एक बूंद की बहुमूल्य कीमत को भी समझ लिया है।

जब कुछ किसानों ने ग्रीष्मकालीन धान लगाने का प्रयास किया तो शेष किसानों के समझाईश पर उन्होंने अपना विचार बदला और धान की ग्रीष्मकालीन फसल के बजाय अन्य फसल लेने का संकल्प लिया। कलेक्टर हिमशिखर गुप्ता, पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी ने शीर्ष कार्य तथा नहर निर्माण के कार्यों का अवलोकन किया।