• Home
  • Chhattisgarh News
  • Mahasamund News
  • आबकारी विभाग की महिला उपनिरीक्षक को पांच युवकों ने दी परिणाम भुगतने की धमकी
--Advertisement--

आबकारी विभाग की महिला उपनिरीक्षक को पांच युवकों ने दी परिणाम भुगतने की धमकी

ग्राम घुंचापाली के एक खंडहरनुमा मकान से बरामद शराब के मामले में महासमुंद शहर से गिरफ्तार किए गए युवक का मामला अब...

Danik Bhaskar | Jul 14, 2018, 03:00 AM IST
ग्राम घुंचापाली के एक खंडहरनुमा मकान से बरामद शराब के मामले में महासमुंद शहर से गिरफ्तार किए गए युवक का मामला अब तूल पकड़ते जा रहा है। जहां चंद्राकर समाज ने गिरफ्तार युवक को बेगुनाह बताते हुए आबकारी विभाग की उपनिरीक्षक सविता मेश्राम के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए 15 जुलाई को रैली निकालकर धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी है।

वहीं आबकारी निरीक्षक सविता मेश्राम ने शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने व धमकी देने वाले चंद्राकर समाज के एक युवक सहित चार-पांच युवकाें के खिलाफ सिटी कोतवाली में शिकायत की है।

12 जुलाई को आबकारी अमले ने ग्राम घुंचापाली के खंडरनुमा मकान से 12 जुलाई को एमपी की पांच पेटी शराब बरामद की थी। इस मामले में महासमुंद के इमलीभाठा में रहने वाले यशवंत चंद्राकर को गिरफ्तार किया गया है। चंद्राकर समाज का कहना है कि जिस युवक की गिरफ्तारी की गई है वह पिछले दस सालों से महासमुंद में रह रहा है और उसका इस मामले में कोई लेना देना नहीं है। वहीं दूसरी ओर आबकारी उपनिरीक्षक सविता मेश्राम ने सिटी कोतवाली में शिकायत कर शासकीय काम में बाधा पहुंचाने व धमकी देने वालों पर एफआईआर करने आवेदन दिया है।

कार्रवाई की मांग को लेकर 15 को चंद्राकर समाज रैली निकाल करेगा प्रदर्शन

चंद्राकर समाज के प्रदेश महामंत्री विनोद सेवन चंद्राकर ने बताया कि आबकारी विभाग की उपनिरीक्षक सविता मेश्राम ने चंद्राकर समाज के एक बेगुनाह युवक यशवंत चंद्राकर के खिलाफ जबरदस्ती मामला बनाकर उसे जेल भिजवा दिया है। उन्होंने बताया कि शहर के इमलीभाठा में पिछले दस सालों से रहने वाले यशवंत चंद्राकर को उसके गृहग्राम घुंचापाली के एक खंडहरनुमा मकान में शराब मिलने के कारण गिरफ्तार किया गया है। जबकि बरामद शराब से उसका कोई लेना देना है। बावजूद इसके आबकारी विभाग की उपनिरीक्षक सविता मेश्राम ने मनमानी करते हुए बेगुनाह का भविष्य खराब करते हुए उसे जेल भिजवा दिया। इस घटना से चंद्राकर समाज में आक्रोश है। उन्होंने बताया कि दोषी उपनिरीक्षक के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने की स्थिति में 15 जुलाई को धरना प्रदर्शन कर रैली निकाली जाएगी।