Hindi News »Chhatisgarh »Mahasamund» आंबा का एक गुट हड़ताल पर, दूसरा काम पर

आंबा का एक गुट हड़ताल पर, दूसरा काम पर

महासमुंद| जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका संघ के हड़ताल में जाने से दूसरे गुट छत्तीसगढ़ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 03:10 AM IST

महासमुंद| जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका संघ के हड़ताल में जाने से दूसरे गुट छत्तीसगढ़ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका संघ से जुड़ी और केंद्र खोल रही सदस्यों को भी वेतन नहीं मिल रहा है। बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिलने के चलते उन्हें गहने गिरवी रखकर परिवार का खर्च चलाने मजबूर होना पड़ रहा है। दूसरे गुट की सदस्यों ने बताया कि परिवार में शादी के समय आर्थिक संकट की स्थिति है। इसके कारण वे मानसिक रूप से परेशान हैं। इस गुट की अध्यक्ष द्रोपदी साहू, उपाध्यक्ष पूर्णिमा ने बताया कि जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता संघ हड़ताल पर है लेकिन हम लोग अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए हर दिन आंगनबाड़ी केंद्र खोलकर बच्चों को अध्ययन के कराने के साथ पोषण अाहार का वितरण कर रहे है, इसके बाद भी हमें मानदेय नहीं दिया जा रहा है।

जल्द ही जारी किया जाएगा वेतन: महिला बाल विकास अधिकारी एमडी नायक का कहना है कि जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं के हड़ताल में जाने से व्यवस्था प्रभावित हुई है। बरोंडाबाजार सेक्टर के सभी कार्यकर्ताओं का जल्द ही वेतन जारी कर दिया जाएगा।

बच्चों को दिया जा रहा पोषण अाहार: बरोंडा बाजार सेक्टर में कार्यकर्ता व सहायिका प्रतिदिन आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचकर बच्चों को पोषण अाहार देने के साथ-साथ बच्चों को अध्ययन अध्यापन का कार्य भी करा रहे है।

घरों में वैवाहिक कार्यक्रम, चिंता बढ़ी

अक्षय तृतीया के दिन से कई घरों में शादी के कार्यक्रम शुरू हो रहे हैं। ऐसे में वेतन व मानदेय नहीं मिलने, रेडी टू ईट का भुगतान नहीं होने के कारण कर्मचारियों, कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं सहित समूहों के सदस्यों की परेशानी बढ़ गई है। उन्हें यह चिंता सता रही है कि शादी सीजन में उनके पास पैसे नहीं रहेंगे, तो वे कैसे इसमें शामिल होंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mahasamund

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×