• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Mahasamund
  • मिट्‌टीयुक्त रेत से बन रही थी सड़क, सीमेंट का कम मात्रा में उपयोग, काम रुकवाया
--Advertisement--

मिट्‌टीयुक्त रेत से बन रही थी सड़क, सीमेंट का कम मात्रा में उपयोग, काम रुकवाया

Mahasamund News - ग्राम बंबुरडीह से कुरामुरा तक 2 करोड़ की लागत से बनने वाली सड़क, पुल-पुलिया के निर्माण में लापरवाही बरती जा रही है।...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:15 AM IST
मिट्‌टीयुक्त रेत से बन रही थी सड़क, सीमेंट का कम मात्रा में उपयोग, काम रुकवाया
ग्राम बंबुरडीह से कुरामुरा तक 2 करोड़ की लागत से बनने वाली सड़क, पुल-पुलिया के निर्माण में लापरवाही बरती जा रही है। सड़क निर्माण में मिट्‌टीयुक्त रेत का प्रयोग किया जा रहा है। यही नहीं तय मानक से कम सीमेंट का उपयोग पुल-पुलिया निर्माण में किया जा रहा है। ग्रामीण लगातार मामले की शिकायत कर रहे थे, जिसके बाद रविवार को विधायक डॉ विमल चोपड़ा ने निर्माणाधीन सड़क का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान विधायक ने पाया कि तय इस्टीमेट के आधार पर निर्माण कार्य नहीं किया जा रहा है। साथ ही निर्माण कार्यों में लापरवाही बरती जा रही है। निर्माणाधीन सीसी रोड में न तो पानी डाला जा रहा है और न ही वाइब्रेटर चलाया जा रहा है। सीसी रोड निर्माण के दौरान नीचे पॉलीथिन का उपयोग किया जाना है, लेकिन ठेकेदार केवल साइड सोल्डर में ही इसका उपयोग कर रहा है। इस दौरान भारतीय जनता किसान मजदूर संघ पटेवा मंडल अध्यक्ष प्रेमलाल यादव, जोन प्रभारी तुकाराम कोसरे, भोलाराम विश्वकर्मा, मनहरण साहू, उपस्थित सहित ग्रामीण उपस्थित थे।

जहां से पानी निकासी, वहां पुलिया ही नहीं: निरीक्षण के दौरान विधायक डॉ चोपड़ा ने पाया कि जहां से पानी निकासी के लिए पुलिया बनाया जाना था, वहां पुलिया ही नहीं है। विधायक ने तुरंत ही इसकी जानकारी लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दी।

महासमुंद। बंबुरडीर-कुरामुरा निर्माणधीन मार्ग का निरीक्षण करते विधायक डॉ चोपड़ा।

लापरवाही बर्दाश्त नहीं, रोजाना डालें पानी

विधायक डॉ विमल चोपड़ा ने ग्राम भोरिंग में बनाए जा रहे एकलव्य विद्यालय के भवन का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने पाया कि सीमेंट वर्क में पानी ही नहीं डाला जा रहा है। विधायक ने यहां मौजूद सुपरवाइजर को फटकार लगाते हुए कहा कि समय पर पानी नहीं मिलने से निर्माण कार्य में मजबूती नहीं आएगी। सीमेंट के कॉलम व अन्य दीवारों को 22 दिन पानी की आवश्यकता होती है। ऐसे में रोजाना पानी डालें। विधायक ने कहा कि काफी प्रयास से मिला है एकलव्य विद्यालय, ऐसे में निर्माण कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

X
मिट्‌टीयुक्त रेत से बन रही थी सड़क, सीमेंट का कम मात्रा में उपयोग, काम रुकवाया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..