--Advertisement--

पत्नी की हत्या कर शव छिपाने वाले पति को आजीवन कारावास की सजा

भास्कर संवाददाता|मनेंद्रगढ़ प|ी की हत्या कर साक्ष्य छिपाने के जुर्म में आरोपी पति को एडीजे पीएस मरकाम की अदालत...

Dainik Bhaskar

Aug 01, 2018, 03:21 AM IST
भास्कर संवाददाता|मनेंद्रगढ़

प|ी की हत्या कर साक्ष्य छिपाने के जुर्म में आरोपी पति को एडीजे पीएस मरकाम की अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

18 दिसंबर 2013 को पुलिस को सूचना मिली कि आमाखेरवा मुक्तिधाम के पीछे हंसिया नदी के किनारे गड्ढे में दबे एक अज्ञात महिला के शव को जानवर खा रहे हैं। सूचना पर पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर शव की शिनाख्त कराई गई। शव की पहचान रांपाखेड़ा निवासी बाबूलाल उर्फ गुड्डू लकड़ा की प|ी जयमुनी उर्फ गुड्डी 32 वर्ष के रूप में की गई। विवेचना पर संदेही आरोपी बाबूलाल उर्फ गुड्डू से कड़ाई से पूछताछ करने पर उसने प|ी की हत्या करना स्वीकार कर लिया। आरोपी ने बताया कि पतरापाली निवासी मृतका जयमुनी को जुलाई 2013 में अपनी दूसरी प|ी बनाकर रांपाखेड़ा में रखा हुआ था। घटना 7 दिसंबर 2013 की शाम 7 बजे शराब पीने व चरित्र शंका को लेकर उसने प|ी के साथ मारपीट की। इसके बाद पड़ोसियों ने शांत करा दिया। रात 12 बजे पुन: विवाद होने पर प|ी जयमुनी नाराज होकर घर छोड़कर जाने लगी तो उसने नीलगिरी की लकड़ी से उसके सिर पर वार कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई। रात 3 बजे आरोपी ने शव को हंसिया नदी के किनारे गड्ढा खोदकर गाड़ दिया गया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ हत्या प्रकरण दर्ज कर लिया था। आरोपी को 4 जनवरी 2014 को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। दोष सिद्ध पाए जाने पर न्यायाधीश ने आरोपी 25 वर्षीय बाबूलाल उर्फ गुड्डू लकड़ा पिता जोगीराम निवासी केराकछार थाना पत्थलगांव जिला जशपुर वर्तमान निवासी प्रकाश बाड़ा वार्ड 1 रांपाखेड़ा निवासी को आजीवन कारावास एवं 1 हजार रुपए अर्थदंड तथा धारा 201 के तहत तीन वर्ष सश्रम कारावास एवं 1 हजार रुपए अर्थदंड से दंडित किया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..