--Advertisement--

स्कूल में शौचालय नहीं, खुले में जा रहे 88 विद्यार्थी

मस्तूरी क्षेत्र के ग्राम खोरसी स्थित शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल में अभी तक शौचालय नहीं बन सका है। इससे...

Danik Bhaskar | Feb 26, 2018, 04:20 AM IST
मस्तूरी क्षेत्र के ग्राम खोरसी स्थित शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल में अभी तक शौचालय नहीं बन सका है। इससे छात्र-छात्राओं को टॉयलेट के लिए पीछे के तालाब में जाना पड़ता है। इससे उनके बीमार होने का खतरा है।

ग्राम खोरसी के शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल आठवीं तक संचालित है। यहां 88 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं। इसके बावजूद यहां अभी तक शौचालय का निर्माण नहीं कराया गया है। इससे छात्रों को टॉयलेट के लिए खुले में जाना पड़ता है। यहां सबसे ज्यादा परेशानी छात्राओं को होती है। छात्राओं को स्कूल परिसर में शौचालय नहीं हाेने के कारण या तो खुले में खेतों की ओर जाना पड़ता है या िफर पास के किसी घर में। इसके बाद भी जिम्मेदारों व जनप्रतिधियों ने इस ओर अभी तक ध्यान नहीं दिया है। इसका खामियाजा छात्र-छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है। दूसरी ओर केंद्र और राज्य की सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत हर घर में शौचालय बनवाने का लक्ष्य तय किया है। जबकि वह अपने सिस्टम में ही अभी ऐसे सार्वजनिक स्थलों पर व सरकारी स्कूलों में ही शौचालय नहीं बनवा पा रही हैं।

ग्राम खोरसी के शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल का मामला, संक्रमण फैलने की अाशंका

ग्राम खोरसी स्थित शासकीय पूर्व माध्यमिक स्कूल।

पीछे के तालाब में जाना पड़ता है शौच के लिए

स्कूल में बाउंड्रीवाल नहीं हादसे की रहती है आशंका

खोरसी स्कूल के पीछे की ओर तालाब है। स्कूल में पढ़ने वाले छोटे-छोटे बच्चे स्कूल लगने से पहले, दोपहर और छुट्‌टी के समय तालाब के किनारे खेलने पहुंच जाते हैं। इससे हादसे की आशंका बनी रहती है। जबकि बरसात के समय तालाब लबालब पानी से भरा रहता है। इतना ही नहीं स्कूल में बिजली की भी व्यवस्था नहीं है। यहां छठवीं कक्षा में छात्रों की बैठने के लिए भी व्यवस्था नहीं है। छात्र-छात्राएं जमीन पर बैठकर पढ़ाई करते हैं।

शौचालय बनवाने मटेरियल गिराने की बात, सच्चाई नहीं

मस्तूरी जनपद सीईओ ने कहा कि शौचालय सरपंच द्वारा बनवाया जा रहा है। इसके लिए वह मटेरियल भी गिरा चुके हैं, जबकि हकीकत यही है कि उक्त जगह पर अभी तक मटेरियल गिरा ही नहीं है।

20 दिन में शौचालय बनाने की बात सरपंच ने कही है

बीईओ सुधीर सराफ और सीईओ माेनिका वर्मा ने बताया कि इस संबंध में सरपंच से जानकारी ली गई है। उन्होंने 20 दिन में नया शौचालय बन जाने की बात कही है।