• Home
  • Chhattisgarh News
  • Nagri News
  • स्वतंत्र जिले का मुद्दा विस में नहीं उठने से क्षेत्रवासी मायूस: माहेश्वरी
--Advertisement--

स्वतंत्र जिले का मुद्दा विस में नहीं उठने से क्षेत्रवासी मायूस: माहेश्वरी

भाटापारा | स्वतंत्र जिला भाटापारा के अधिकार को लेकर तीसरे दौर का धरना प्रदर्शन बुधवार को जयस्तंभ चौक में रखा गया...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:15 AM IST
भाटापारा | स्वतंत्र जिला भाटापारा के अधिकार को लेकर तीसरे दौर का धरना प्रदर्शन बुधवार को जयस्तंभ चौक में रखा गया था। धरना प्रदर्शन 11 बजे से प्रारंभ होने के बाद शाम 4 बजे सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में शहर थाना प्रभारी रामकुमार साहू को मुख्यमंत्री के नाम से ज्ञापन सौंपा गया।

इसमें मुख्यरूप से जिला निर्माण संघ के संरक्षक बल्देव भारती देवेन्द्र भृगु, सतीष अग्रवाल, राजकुमार मल, अजय अमृतांशु, श्याम सुंदर अवस्थी, संजय श्रीवास, जीडी मानिकपुरी, सुशील शर्मा इंद्रसाव, रमेश यदु, अभिषेक मोदी, राजा तिवारी, मनमोहन कुर्रे, संतोश दाउ, दिवाकर मिश्रा, हाजी इकबाल सहित बड़ी संख्या में गणमान्यजन शामिल हुए।

भाटापारा स्वतंत्र जिला अभी नहीं तो कभी नहीं: जिला निर्माण संघर्ष समिति के लगभग 4 माह होने जा रहे हैं, इस आंदोलन में मुख्य स्लोगन अभी नहीं तो कभी नहीं के तर्ज पर भाटापारा स्वतंत्र जिला की मांग के समर्थन में सभी वक्ताओं ने खुलकर अपनी बातें रखीं। सिमगा क्षेत्र से पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं जनपद सदस्य सुनील माहेश्वरी ने धरना स्थल पर कहा कि क्षेत्र की जनता को कुछ माह पूर्व स्थानीय विधायक शिवरतन शर्मा को स्वतंत्र जिला भाटापारा के मुद्दे पर ज्ञापन सौंपा गया था एवं क्षेत्रवासियों को उम्मीद थी कि उक्त मुद्दों को शीतकालीन विधानसभा सत्र उठाएंगे परंतु क्षेत्रवासियों के जनभावनाओं के विपरीत केवल मात्र विधानसभा में बेरोजगारों को लेकर पकौड़ा का मुद्दा उठाया।

जिला निर्माण संघर्ष समिति का

तीसरे दौर का प्रदर्शन सीएम के नाम

दाउ कल्याण सिंह के नगरी की उपेक्षा

वहीं भाटापारा स्वतंत्र जिले के मुद्दे को लेकर अभिषेक मोदी ने भाटापारा क्षेत्र को दानवीर दाउ कल्याण सिंह की जन्म नगरी बताया जिसके अंतर्गत भाटापारा को स्वतंत्र जिला बनाकर दानवीर का सम्मान किया जा सकता था, परंतु ऐसा नहीं किया गया। सर्वयादव समाज के प्रांताध्यक्ष रमेश यदु ने भी संबोधित किया। वहीं छग पेंशनर संघ के जिलाध्यक्ष एमआर उपाध्याय ने पेंशनर संघ की ओर से भाटापारा को उनका वाजिब हक दिए जाने का मांग की। आशाराम अनंत भी पेंशनधारी कल्याण संघ की ओर से शामिल रहे। वहीं इनके अलावा अनेक वक्ताओं ने भाटापारा स्वतंत्र जिला में क्षेत्रवासियों के सार्वजनिक विकास को सर्वोपरि बताया।