• Home
  • Chhattisgarh News
  • Nayapararajim
  • ‘जनता से पूछकर उनकी उम्मीदों के अनुरूप विकास को मूर्तरूप दिया’
--Advertisement--

‘जनता से पूछकर उनकी उम्मीदों के अनुरूप विकास को मूर्तरूप दिया’

मुख्यमंत्री डाॅ.सिंह आज अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की 33वी कड़ी के माध्यम से कहा है जनता से पूछकर जनता की...

Danik Bhaskar | May 16, 2018, 03:15 AM IST
मुख्यमंत्री डाॅ.सिंह आज अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की 33वी कड़ी के माध्यम से कहा है जनता से पूछकर जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं के अनुरूप विकास को मूर्त रूप दिया है। विकास यात्रा इसी जवाबदेही की एक मिसाल है। फिंगेश्वर विकास खंड के ग्राम पंचायत कुम्ही में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डाॅ. सिंह ने अपने मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में कहा कि ‘जनता से निकटता और जवाबदेही‘ ही मेरा सिद्धां त है। विकास यात्रा के दौरान हम अपने अत्यंत महत्वाकांक्षी निर्णयों को भी क्रियान्वित करने जा रहे हैं, जिसके तहत संचार क्रांति (स्काय) योजना के तहत 50 लाख से अधिक लोगों को निशुल्क स्मार्ट फोन का वितरण, किसानों को धान का बोनस तथा आबादी पट्टे का वितरण आदि शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत छत्तीसगढ़ के लगभग 45 लाख परिवारों को पांच लाख रुपए तक स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य के 56 लाख परिवारों को वार्षिक 50 हजार रुपए तक निशुल्क इलाज की सुविधा दी गई है।

राजिम अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व जीडी वाहिले, तहसीलदार ओपी वर्मा, गणमान्य नागरिक डाॅ राम कुमार साहू, संजीव चंद्राकर, सरपंच रेणुका साहू सहित बड़ी संख्या में ग्राम वासियों ने सुना।

स्व-सहायता समूह ने मिलकर चमत्कार कर दिया : मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहान योजना के तहत महिला स्व-सहायता समूह का गठन किया गया है। इससे उनकी छोटी-छोटी बचत और थोड़ी-थोड़ी हिम्मत ने मिलकर चमत्कार कर दिया है। महिला स्व-सहायता समूह स्थानीय निकायों से बाजार का ठेका लेकर अच्छी आमदनी करते हैं। जैविक खेती के माध्यम से ऐसा चावल पैदा कर रहे हैं, जिसकी मांग महानगरों में है। जो समूह पहले मोमबत्ती बनाते थे, अब वे एलईडी बल्ब बना रहे हैं। गांवों में गोबर के कंडे बनाकर आजीविका चलाने वाली महिलाओं ने समूह से जुड़कर आइसक्रीम बनाना सीख लिया है। पहले जो मिट्टी के घड़े बनाते थे, वे अब कोल्ड स्टोरेज स्थापित कर रहे हैं, जिसमें स्थानीय फल तथा सब्जियों को रखने की व्यवस्था कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के 20 जिलों के 44 ब्लाकों की बहनें तो बैंक सखी बन घर-घर में बैंक की सुविधा पहुंचा रही हैं।

राजिम. रमन के गोठ सुुुनते एसडीएम, तहसीलदार, सरपंच के साथ अन्य अधिकारी एवं ग्रामीणजन।