नयापराराजिम

--Advertisement--

निचली बस्तियों में भरा पानी, घरों में दुबके लोग

शनिवार रात 10 बजे से शुरू हुई बारिश 20घंटे से जारी है। इसके कारण नगर सहित अंचल के आसपास खेत खलिहान और रपटे-नाले उफान पर...

Dainik Bhaskar

Jul 23, 2018, 03:20 AM IST
निचली बस्तियों में भरा पानी, घरों में दुबके लोग
शनिवार रात 10 बजे से शुरू हुई बारिश 20घंटे से जारी है। इसके कारण नगर सहित अंचल के आसपास खेत खलिहान और रपटे-नाले उफान पर हैं। बारिश के कारण निचली बस्ती में जल भराव हो गया है। लगातार हो रही बारिश से ग्रामीण क्षेत्रों में खेतों में ब्यासी का काम रुक गया है।

रविवार को अवकाश होने के कारण शहर सुना-सुना रहा। अनवरत बारिश के कारण मौसम में ठंडक रही, जिससे घरों में लोग दुबके रहे। वहीं परसदा के किसान धनऊ ध्रुव, अश्वनी वर्मा, पवन साहू आदि ने लगातार हो रही बारिश से इस साल अच्छी फसल होने की संभावना जताई है। वहीं रावड़ गांव के किसान मोहन तिवारी, महावीर यादव, मुन्ना साहू ने कहा कि अभी हो रही बारिश धान पौधों लिए अमृत के समान है। स्वसिंचिंत किसान रोपा और ब्यासी तक पहुंच गए हैं।

मीरा दातार गली में भरा पानी

भटगांव | वार्ड क्रमांक 2, मीरा दातार गली में पिछले दो दिनों से हो रही बारिश के कारण मोहल्ले में पानी भर गया है। जिससे घरों में पानी घुस रहा है और पानी भरे रहने के कारण कई तरह के कीड़े माकोड़े व मच्छरों का आतंक बढ़ गया है। कई महीनों से मोहल्ले में नाली की सफाई न होने से नाली में कचरा जाम हो गया है।

पाण्डुका. सरकडा में सुखन्तिन बाई का कच्चे मकान की दीवार ढह गई।

बेलाट नाले पर 4 फीट बहाव, जान जोखिम में न लें राहगीर इसलिए तैनात किए जवान

देवभोग। बारिश के चलते नदियां और नाले भी ऊफान पर हैं। राजस्व रिकॉर्ड के मुताबिक इन दो दिनों में 112.7 मिमी बारिश दर्ज की गई है। देवभोग-झाकरपारा मार्ग पर मौजूद बेलाट नाला के ऊपर तीन से चार फीट पानी बह रहा है। यह शनिवार दोपहर से बंद है। रविवार को बहाव तेज होता देख सुबह से ही प्रशासन ने पुलिस बल तैनात किया है। जो लोग नाला पार करने में जो सक्षम नहीं है, जवान उनकी मदद कर रहे हैं। वहीं बहाव ज्यादा होने पर मार्ग बंद कराया।

दो दिन से झड़ी जनजीवन अस्त-व्यस्त, दुबके लोग

राजिम | दो दिनों की झड़ी ने जनजीवन को प्रभावित कर दिया है। शनिवार रात से रिमझिम बारिश हो रही है, जो रविवार पूरे दिन भर बारिश होती रही। काली घटा छाई हुई है, जिससे रात में भी बारिश होने की संभावना बनी हुई है। दिनभर बारिश होने से ज्यादातर लोग आज घरों से बाहर नहीं निकले। शनिवार 28 जुलाई से सावन की शुरुआत हो रही है। खेतों में पानी लबालब भरा हुआ है। नदी का भी जलस्तर बढ़ गया है। सूखे तालाब, कुएं और नालों में भी पानी भरने लगा है। झड़ी की वजह से खेतों में रोपा-थरहा लगाने का काम बंद रहा।

सरकडा में कच्चे मकान की दीवार ढही

पाण्डुका| ग्राम सरकडा में एक गरीब महिला का कच्ची मकान का दीवार ढह गई। इससे ग्रामीण के रहने खाने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ग्राम की सुखन्तिन बाई तालाब के पास छोटा कच्चा मकान बनाकर रहती है। इसके परिवार में कुल पांच सदस्य रहें हैं, इन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले दो दिन से हो रही बारिश ने घर की दीवार ढह गई है, जिससे रहने खाने के लिये किसी दूसरे के घर का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा।

सुखन्तिन बाई ने सरपंच से मदद और मकान को बनाने के लिये कुछ राशि दिलवाने की गुहार लगाई। महिला सुखन्तिन निषाद ने बताया की घर के आसपास कोई नहीं था। नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था। उसने बताया कि दीवार की नपाई करके ले गये हैं, जिससे थोड़ी बहुत राशि मिलने का आश्वासन दिया है लेकिन कितना टाईम लगेगा।

जाेंक नदी में बाढ़ जैसे हालात बनने की आशंका

सेल। अंचल में चाैबीस घंटे लगातार झमाझम बारिश हाेने से जनजीवन अस्त व्यस्त हाे गया है। नदी, नाले उफान पर हैं। वहीं खेत खलिहान लबालब होने से किसानाें के चेहरे खिल उठे हैं। चाैबीस घंटे झमाझम बारिश हाेने से किसानाें के चेहरे में राैनक बढ़ी है। गंगासागर तालाब के पास पुलिया में खेत का पानी बहकर आ रहा गंगासागर तालाब में वहीं पर ग्रामीणाें ने जाली में मछलियां पकड़ रहे हैं। डाेंगियापारा के तालाब के पास निकासी की व्यवस्था नहीं होने से तीन-चार फीट पानी भरने से आवागमन करने में परेशानी का सामना करना पड़ा। डाेंगियापारा के नरेश जायसवाल के घर सामने में तालाब जैसे पानी भरने से आवागमन करने प्रभावित हाे रहा है। सूतियापारा के तालाब में गंदा पानी काे छोड़ने के लिए माेहल्लेवासी तैयार नहीं हैं। कटगी के जाेंक नदी में बाढ़ जैसे हालात बनने की आशंका जताई जा रही है। नदी किनारे बसे ग्रामवासियाें काे सतर्क रहना जरूरी हाे गया है। मूसलाधार बारिश हाेने की चेतावनी दी जा रहा हैं। जाेंक नदी किनारे में बसे ग्रामीण कटगी, अमाेंदी, नयापारा, डेराडीह रामपुर काेट टिपरूंग, मानाकाेनी, हसुआ, धमलपुर, बलाैदा परसापाली, गिधाैरी, घटमड़वा, महराजी, अर्जुनी सहित अनेक ग्रामाें में ग्रामवासियाें काे बाढ़ आने का भय सताने लगा है।

निचली बस्तियों में भरा पानी, घरों में दुबके लोग
X
निचली बस्तियों में भरा पानी, घरों में दुबके लोग
निचली बस्तियों में भरा पानी, घरों में दुबके लोग
Click to listen..