--Advertisement--

38 बरस बाद मिले 20 सहपाठी, कहा-सेल्फी तो बनती है...

छात्र जीवन और उस समय के दोस्ताना माहौल को भूलना कितना नामुमकिन है और दोबारा मिलने पर उन पलों को फिर जी लेने में एक...

Dainik Bhaskar

Aug 01, 2018, 03:25 AM IST
38 बरस बाद मिले 20 सहपाठी, कहा-सेल्फी तो बनती है...
छात्र जीवन और उस समय के दोस्ताना माहौल को भूलना कितना नामुमकिन है और दोबारा मिलने पर उन पलों को फिर जी लेने में एक बात है। रविवार और सोमवार को 38 बरस पूर्व के ये बीसों विद्यार्थी फिर स्कूल के आंगन में एकत्र हुए।

बस्तर, मध्यप्रदेश, दिल्ली, दुबई और मेलबोर्न से पहुंचे सोमवार को इन विद्यार्थियों ने इसे यादगार बनाने स्कूल परिसर में पौधरोपण किया। त्रिवेणी संगम में स्थित शिवालय में दर्शन के बाद जतमई घटारानी पिकनिक टूर पर भी गए।

उल्लेखनीय है कि घटारानी में जब सभी मित्र नहा रहे थे। कुछ दोस्त मोबाइल वीडियो में इन पलों को सहेज रहे थे। उसी समय वह हादसा हुआ, जब सेल्फी लेता एक युवा 50 फीट ऊंची पहाड़ी से नीचे आ गिरा और वह दृश्य भी कैमरे में कैद हो गया। इसके वायरल होने पर न्यूज चैनल और समाचार पत्रों में सुर्खियां बना। सभी ने इस मुलाकात के हर पलों को भरपूर जिया और मजा लिया।

ताजा की यादें

हरिहर हाईस्कूल में पढ़े बस्तर, मध्यप्रदेश, दिल्ली, दुबई और मेलबोर्न के दोस्तों का लौटा बचपन, शिवालय में दर्शन कर घटारानी में पिकनिक मनाई

दोस्तों ने मिलतेे-जुलते रहने का संकल्प लिया

कैलाश शुक्ला और रायपुर के नारायण दास लालवानी, उत्तम गोलछा ने पढ़ाई के दौरान बिताए पलों को अविस्मरणीय बताया। कुछ इस तरह की अनुभूति सोहन सिंग, छलिया साहनी, सुंदर पंजवानी, प्रदीप सोनी, संतोष माखीजा, राजेंद्र बंगानी, प्रदीप भंसाली, नेमचंद गोलछा, रविशंकर साहू की भी रही। सभी ने यह संकल्प लिया कि हम दादा-नाना बनकर जिम्मेदारियों से ऊपर उठ चुके हैं। अब सहपाठियों से मिलते-जुलते उम्र के इस पड़ाव को पार करेंगे।

आस्ट्रेलिया व भोपाल के दोस्तों ने बनाया ग्रुप

आस्ट्रेलिया की नागरिकता हासिल कर चुके मेडिकल अफसर डाॅ. जयंत करंभे, भोपाल के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर दीपक शर्मा, दिल्ली के रियल स्टेट कारोबारी बन चुके संजय जैन, नगर के ब्रम्हदत्त शर्मा आदि ने पिछले साल मिलने पर और सलामत रहे दोस्ताना हमारा नाम से बनाए ग्रुप को प्राय: रोज ही एक-दूसरे को याद कर लेने का माध्यम बताया।

नवापारा राजिम. कुलेश्वर महादेव मंदिर के सामने सेल्फी लेते हुए दोस्त।

X
38 बरस बाद मिले 20 सहपाठी, कहा-सेल्फी तो बनती है...
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..