Hindi News »Chhatisgarh »Raipur »News» CD Scandal Proof Captured In 5 Files

सीडीकांड के सबूत 5 फाइलों किए जा रहें बंद, बड़े नेता के करीबी के मिले हैं सबूत

सीडी कांड में फंसे पत्रकार विनोद वर्मा जेल में हैं। सबसे पहले उन्हीं से पूछताछ होने के संकेत हैं।

bhaskar news | Last Modified - Nov 23, 2017, 06:15 AM IST

सीडीकांड के सबूत 5 फाइलों किए जा रहें बंद, बड़े नेता के करीबी के मिले हैं सबूत

रायपुर.सीडी कांड के सबूत और दस्तावेज पांच फाइलों में इकट्ठा कर सील बंद किए जा रहे हैं। सीबीआई अफसरों के पहुंचते ही सबूतों वाली फाइल उन्हें सौंप दी जाएगी। सीबीआई जांच का नोटिफिकेशन जारी होने के बाद से पुलिस का फोकस केस से जुड़े सबूत और दस्तावेजों को इकट्ठा करने में है। एक-दो दिनों के भीतर ही अफसर पहुंच सकते हैं। सीडी कांड में फंसे पत्रकार विनोद वर्मा जेल में हैं। सबसे पहले उन्हीं से पूछताछ होने के संकेत हैं।


पुलिस को एक बड़े नेता के करीबी के खिलाफ तगड़े सबूत मिले हैं। उन्हें भी सीबीआई को सौंपे जाने वाले दस्तावेजों में शामिल कर दिया गया है। कुछ और चौंकाने वाले क्लू पुलिस के हाथ आए हैं। उन सभी को सूची बद्ध किया जा रहा है। पुलिस की स्पेशल टीम आधा दर्जन अलग-अलग एंगल से जांच कर रही थी। उन सभी एंगल की फाइल अलग बनायी जा रही है। पूरे सीडी कांड की जांच की मॉनीटरिंग आईजी प्रदीप गुप्ता खुद कर रहे हैं। एक-एक क्लू पर उनसे राय लेने के बाद ही सूचीबद्ध किया जा रहा है। सीबीआई का एक दस्ता चार दिन पहले ही रायपुर आ चुका है। पहले दस्ते में दो जवान आए हुए हैं। उन्होंने पुलिस के आला अफसरों से संपर्क कर अपने आने के बारे में सूचना दे दी है। चर्चा है कि केस रजिस्टर होने के बाद ही टीम रायपुर आएगी। संकेत हैं कि इस मामले की जांच तकनीकी रूप से एक्सपर्ट अफसर को सौंपी जाएगी, क्योंकि पूरा मामला एक तरह से आईटी एक्ट का है।

कोर्ट में पेश होंगे वर्मा, देना होगा हैंडराइटिंग का नमूना
दिल्ली से गिरफ्तार पत्रकार विनोद वर्मा का न्यायिक रिमांड 27 नवंबर को खत्म हो रही है। उन्हें सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इस दिन उनके हैंडराइटिंग का नमूना लिया जा सकता है। ऐसे संकेत हैं कि पुलिस की अर्जी पर कोर्ट नमूना लेने के लिए अनुमति दे सकती है। उसके साथ वर्मा का फिंगर प्रिंट भी लिया जाएगा। इसी दिन पुलिस को उनकी अर्जी पर जवाब भी देना होगा। वर्मा में अंतागढ़ टेप कांड को लेकर पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाया है। उनका कहना है कि टेपकांड में अहम गवाह होने के कारण उन्हें झूठे केस में फंसाया गया है। पुलिस दो बार कोर्ट से जवाब पेश करने के लिए समय मांग चुकी है। पुलिस ने दुर्ग के रिटायर डीपीओ को इस मामले की पैरवी के लिए नियुक्त किया है, जो पुलिस की ओर से जवाब देंगे। हालांकि यह चर्चा है कि पुलिस ने अब तक वर्मा की अर्जी के अनुसार जवाब देने के लिए कोई तैयारी नहीं की है।


खेल संघों और औद्योगिक घरानों से जुड़े लोगों तक पहुंची जांच
सीडी कांड की जांच जैसे-जैसे आगे बड़े रही है, कुछ चौंकाने वाले नाम सामने आ रहे है। इनमें से अधिकांश का ताल्लुक राजनीति से ही है। इसमें खेल संघ से लेकर उद्योग से जुड़े कुछ रसूखदारों की संलिप्तता सामने आ रही है। राजनीति से जुड़े लोगों में से एक दो नाम ऐसे भी हैं, जिनसे प्रदेश में सियासी माहौल गरमा सकता है। हालांकि एेसे ज्यादातर नाम कथित सीडी को प्रचारित करने में ही आए हैं। इनमें राजधानी रायपुर और भिलाई-दुर्ग के लोगों के ही नाम उछले हैं। 13 मिनट के पोर्न वीडियो में से 58 सेकेंड के हिस्से में कथित तौर पर मंत्री राजेश मूणत का चेहरा लगाने वालों में फिलहाल कोई बड़ा नाम सामने नहीं आया है। सीडी की टैंपरिंग में जिनके भी नाम आए हैं, बताते हैं कि पुलिस को उनके खिलाफ कुछ तगड़े सबूत भी मिल चुके हैं। उन्हें भी सील बंद कर दिया गया है। सबूत सीबीआई को सौंपे जाएंगे।

राज्य के कुछ अन्य जिलों में भी गईं जांच टीमें

सीडी कांड में रायपुर-बिलासपुर और दुर्ग-भिलाई के अलावा राज्य के कुछ अन्य जिलों में भी जांच की जा रही है। इसके लिए टीम भेजी गई है। फिलहाल संदेह के दायरे में आए कुछ लोगों के खिलाफ सबूत जुटाने की कोशिश की जा रही है।

पत्नी और बेटा ही पहुंचा मिलने
सीडी कांड में फंसे पत्रकार वर्मा से जेल में मिलने अब तक उनकी पत्नी और बेटा ही पहुंचे हैं। एक-दो बार वकीलों ने संपर्क किया है। वर्मा को सामान्य बैरक में आम कैदियों के साथ ही रखा गया है। उनकी ओर से हाईकोर्ट में जमानत की अर्जी भी लगा दी गई है। 12 दिसंबर को उनकी अर्जी पर सुनवाई होगी। इसके लिए पुलिस से केस डायरी भी मांगी गई है।


पुलिस टीम लौटी, अहम सबूत सील
सीडीकांड में जांच के लिए दिल्ली गई टीम लौट आई है। इस बार लौटी टीम के हाथ सीडी कांड से जुड़े अहम सबूत आए हैं, उनसे ये साफ संकेत मिल रहे हैं कि सीडी कांड पूरी तरह से राजनीतिक साजिश का एक हिस्सा है। उन सबूतों को सीलबंद कर दिया गया है। कुछ आला अफसरों को ही सबूत दिखाए गए हैं। अब सीलबंद सबूत इसी स्थिति में सीबीआई टीम को सौंपे जाएंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Raipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: sidikand ke sabut 5 faailon kie jaa rahen band, bdee netaa ke karibi ke mile hain sabut
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×