--Advertisement--

शहरों से लगे स्कूलों के शिक्षाकर्मियों की बर्खास्तगी तय, गांवों से लाकर भरेंगे पद

बर्खास्तगी के बाद खाली हुए पदों को उन शिक्षाकर्मियों से भरा जाएगी, जो दूर-दराज के स्कूलों में हैं और ट्रांसफर चाह रहे है

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 05:52 AM IST

रायपुर. हड़ताली शिक्षाकर्मियों पर सख्ती बढ़ाते हुए सरकार ने तय किया है कि शहरों के करीबी स्कूलों में बर्खास्तगी के बाद खाली हुए पदों को उन शिक्षाकर्मियों से भरा जाएगी, जो दूर-दराज के स्कूलों में हैं और ट्रांसफर चाह रहे हैं। इस फैसले ने शिक्षाकर्मियों में खलबली मचा दी है। इसकी शुरुआत रायपुर जिले से की जा रही है। यहां जिला पंचायत ने राजधानी से लगे स्कूलों के लिए दूर-दराज में पढ़ा रहे शिक्षाकर्मियों को 62 पद ऑफर किए हैं। बर्खास्तगी के बाद खाली इन पदों पर गांवों से यहां आने के इच्छुक शिक्षाकर्मियों की पोस्टिंग तुरंत कर दी जाएगी।

शिक्षाकर्मियों की हड़ताल से प्रदेश में जैसे-जैसे स्कूली सिस्टम ठप हो रहा है शासन का रवैया और सख्त हो रहा है। हड़ताली शिक्षाकर्मियों बर्खास्तगी शुरू होने के बावजूद अड़े हुए हैं। इस वजह से शासन ने उन शिक्षाकर्मियों को सहूलियत देने का फैसला किया है, जो फिलहाल स्कूलों में लौट चुके हैं और पढ़ाई करवा रहे हैं। गांवों से शहरों की ओर ट्रांसफर के इस फार्मूले से शिक्षाकर्मियों में खलबली इसलिए मच गई है क्योंकि सैकड़ों शिक्षाकर्मी अपनी पोस्टिंग शहरों के आसपास करवाना चाह रहे हैं। रायपुर जिला पंचायत के सीईओ ने इसके आवेदन भी मंगवा लिए हैं। दूरदराज में पढ़ा रहे शिक्षाकर्मी रायपुर तथा शहरों के आसपास ट्रांसफर के लिए 30 नवंबर को दोपहर 3 बजे तक जनपद पंचायत, विकासखंड अधिकारी कार्यालय में आवेदन जमा कर सकते हैं। जिले में जिन 62 पदों की सूची जारी हुई है, इसमें सर्वाधिक 27 आरंग के आसपास के हैं।

अब तक उठाए गए कदम
- 52 शिक्षाकर्मियों को किया बर्खास्त
- बड़ी संख्या में किया गया स्थानांतरण
- जिनका हाल में तबादला हुआ, निरस्त
- हड़तालियों के पदों पर नई पोस्टिंग

अब क्रमिक भूख हड़ताल
बुधवार से शिक्षाकर्मियों ने राज्य के 46 विकासखंड मुख्यालयों में क्रमिक भूख हड़ताल शुरू कर दी। 2 दिसंबर को शिक्षाकर्मी परिवार के साथ संविलियन रैली निकालकर प्रदर्शन करेंगे। शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा के प्रांतीय संचालक वीरेंद्र दुबे, चंद्रदेव राय और संजय शर्मा का कहना है कि प्रदेशभर के शिक्षाकर्मी राजधानी में परिवार के साथ सड़क पर उतरकर अपनी मांगों को रखेंगे।


इन स्कूलों के लिए मंगवाए आवेदन:

जिन स्कूलों के लिए आवेदन मांगे गए हैं, उनमें गुमा, माना बस्ती, बोरियाकला, छेरीखेड़ी, मांढर बस्ती, सेजबहार, सांकरा, तुलसी बाराडेरा, सिलतरा, धनेली, सिलियारी, पारागांव, रसनी, रीवा, लखौली, भिलाई, मोखला, निसदा, छटेरा, गोईंदा, गुजरा, भानसोज, फरफौद, गुल्लू, निमोरा, परसुलीडीह, रवेली, तोरला, नवागांव, खोरपा, कुरू, केंद्री, सिवनी, छछानपैरी, उपरवारा, तरपोंगी, टंडवा, बंगोली, मढ़ी, खैरखूंट, अड़सेना, तुलसी, अल्दा, गनियारी, कनकी और खोना शामिल हैं।

भूपेश ने अपने जिला और जनपद पंचायत अध्यक्षों से कहा-बर्खास्तगी का आदेश जारी न करें

कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने बर्खास्त किए गए शिक्षाकर्मियों की बर्खास्तगी का अनुमोदन जिला और जनपद पंचायतों में रोकने को कहा है। उन्होंने सभी सरपंचों, जिला पंचायत अध्यक्षों और सदस्यों व महापौरों से कहा कि उनके अनुमोदन के बिना बर्खास्तगी नहीं हो सकती, इसलिए वे अनुमोदन नहीं करें।

दो शिक्षाकर्मियों की मौत, एक को पैरालिसिस अटैक
भिलाई/कवर्धा. गुंडरदेही और पंडरिया में अलग-अलग सड़क हादसे में बुधवार को दो शिक्षाकर्मियों की मौत हो गई। रिसाली निवासी शिक्षाकर्मी मनीष माधवन (42) दोपहर शिक्षकों की हड़ताल में शामिल होने के लिए बालोद जा रहे थे। तभी कुथरैल के पास अज्ञात वाहन ने ठोकर मार दिया। शेष|पेज 9


चंदूलाल चंद्राकर अस्पताल में डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वे गुंडरदेही स्थित बरबसपुर हाई स्कूल में अंग्रेजी के व्याख्याता थे। वहीं दूसरे मामले में पंडरिया में बुधवार शाम 7 बजे हड़ताल से घर लौट रहे देवेन्द्र कुमार की नवागांव के हटहा के पास मेटाडोर की टक्कर में मौके पर ही मौत हो गई। देवेंद्र मिडिल स्कूल कुण्डा में शिक्षाकर्मी के पद पर पदस्थ था। वहीं भानुप्रतापपुर में धरना स्थल पर मिडिल स्कूल भानबेड़ा के शिक्षक पंचायत वर्ग दो आशाराम चंद्रवंशी (38) को पैरालिसिस अटैक आ गया। उन्हें तत्काल रायपुर रेफर कर दिया गया।

सरकारी स्कूलों में छमाही परीक्षा लेंगे प्राइवेट स्कूलों के शिक्षक
दुर्ग। जिले के सरकारी स्कूलों में 1 दिसंबर से छमाही परीक्षा होगी। 1 दिसंबर से प्राइमरी और मिडिल स्कूलों की परीक्षा होगी जबकि 3 दिसंबर से हाई और हायर सेकेंडरी स्कूलों में छमाही परीक्षा आयोजित की जाएगी। शिक्षाकर्मियों की हड़ताल के कारण प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों की मदद लेकर परीक्षा का आयोजन किया जाएगा। डीईओ आशुतोष चावरे ने बताया कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार छमाही परीक्षा होगी। शिक्षाकर्मियों की हड़ताल के कारण परीक्षा के दौरान निजी स्कूलों के शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाएगी। इसके लिए निजी स्कूलों के प्रबंधन से चर्चा की गई है। परीक्षा के लिए निजी स्कूलों के करीब तीन सौ शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाएगी। सभी स्कूलों में परीक्षा के लिए प्रश्नपत्रों का वितरण किया जा चुका है।

सामान्य प्रशासन की बैठक में 2 बर्खास्त शिक्षाकर्मियों का अनुमोदन, 31 नई भर्तियों को मंजूरी
दुर्ग/भिलाई। जिला पंचायत स्थाई सामान्य प्रशासन की बुधवार को गुपचुप बैठक हो गई। बैठक में जिन 15 लोगों को एक दिन पहले उनके मूल पदस्थापना लौटाए जाने का आदेश जारी किया गया। उनके अनुमोदन के लिए समिति में प्रस्ताव रखा गया। इस पर चर्चा के बाद उन्हें 3 दिन का और समय दे दिया गया। अब उनके पास 2 दिसंबर तक का समय है। 2 दिसंबर तक काम पर नहीं लौटने पर उन्हें वापस किया जाएगा। इधर 2 अन्य शिक्षाकर्मियों को बर्खास्तगी का अनुमोदन कर दिया गया। वहीं 31 व्याख्याता पंचायतों की भर्तियां के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। इधर लगातार शासन-प्रशासन के दबाव के चलते 268 शिक्षाकर्मियों के काम पर लौटने की खबर है। हालांकि इसे लेकर जिला पंचायत के तरफ से अधिकृत पुष्टि नहीं की गई है। इधर शिक्षाकर्मियों ने इस बात का खंडन किया है। इधर जिला पंचायत के तरफ से 105 शिक्षाकर्मियों की सूची तैयारी की गई है, जिन पर कार्रवाई की तैयारी है। इसमें 57 काम पर लौट चुके हैं। शेष पर कार्रवाई की तैयारी है। इसमें 2 बर्खास्त किए जा चुके हैं। वहीं 15 को अल्टीमेटम जारी किया जा चुका है।

रायपुर में 2 और बर्खास्त

सीएम ने दी फिर चेतावनी, काम पर नहीं लौटे तो बर्खास्त
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बुधवार को हड़ताली शिक्षाकर्मियों को फिर दो टूक चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि जिन्हें काम पर लौटना है वे लौट आएं नहीं तो बर्खास्त कर दिए जाएंगे। उनका संविलियन किसी भी हालत में नहीं किया जाएगा। उन्होंने जो आफर पहले दिया था वो आज भी है। कोरबा और रायपुर में मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत में शिक्षाकर्मियों की हड़ताल पर अपना रुख फिर स्पष्ट किया है। धरसींवा जनपद के सीईओ ने दो सहायक शिक्षकों आयुष पिल्ले डूंडा और मदन लाल देवांगन रैता को हड़ताल में शामिल होने के कारण बर्खास्त कर दिया है।