--Advertisement--

डॉल्फिन घोटाला: निकले ट्रंक भर कागज जहां रखे थे दो करोड़ के बाउंस चेक

चालान के साथ फिलहाल डेढ़ सौ लोगों के आवेदन और वह 80 चेक भी जमा किए हैं जो बाउंस हो गए थे।

Dainik Bhaskar

Nov 23, 2017, 06:22 AM IST
Dolphin scam

रायपुर. डॉल्फिन स्कूलों की श्रृंखला शुरू करके करीब 55 करोड़ रुपए के घोटाले में पुलिस ने बुधवार को तकरीबन 2 हजार पन्नों का जो चालान पेश किया है, उसके साथ एक अलमारी और एक बड़ा ट्रंक भरकर कागजात भी कोर्ट को सौंप दिए गए हैं। ये दस्तावेज फरारी के बाद पुलिस ने राजेश शर्मा के घर, दफ्तर और स्कूलों से जब्त किए थे। चालान के साथ फिलहाल डेढ़ सौ लोगों के आवेदन और वह 80 चेक भी जमा किए हैं जो बाउंस हो गए थे। चेक और आवेदनों में कुल देनदारी करीब 2 करोड़ रुपए की निकली है। इन दस्तावेजों में शर्मा और उसके स्कूल से जुड़ी 13 करोड़ रुपए की प्रापर्टी के दस्तावेज भी हैं, जो सील कर लिए गए हैं।


चालान पेश होने के बाद अब अदालत प्रदेश के इस बड़े गोलमाल में सुनवाई शुरू करेगी। डाल्फिन स्कूल घोटाले की जांच पूरी करने के बाद ही इस मामले में विशेष अनुसंधान सेल (एसआईसी) ने चालान पेश किया है। कोर्ट के सूत्रों ने बताया कि इस मामले में 2011 में सबसे पहले सरस्वती नगर थाने में एफआईआर की गई थी। इसके बाद कई एफआईआर हुईं, इसलिए जांच एसआईसी को सौंप दी गई। छह साल की जांच के बाद पुलिस ने 29 अगस्त को राजेश शर्मा और कुछ मामलों में सह आरोपी बनाई गई उनकी पत्नी उमा शर्मा को हैदराबाद में गिरफ्तार किया था। इससे पहले, पुलिस ने भारी मात्रा में दस्तावेज, कंप्यूटर तथा अन्य सामान जब्त किया। पुलिस पिछले दस दिन से चालान को अंतिम रूप दे रही थी। सरस्वती नगर थाने के केस में पुलिस ने 1500 पेज और गोबरा नवापारा के मामले में 500 पेज का चालान बनाया है।


10 लाख की मिली एफडी
पुलिस ने राजेश शर्मा और उमा शर्मा की 13 करोड़ की प्रॉपर्टी कुर्क की है। इसकी नीलामी से मिली रकम धोखाधड़ी के शिकार लोगों को लौटाई जाएगी। जांच के दौरान उमा शर्मा के नाम से 10 लाख की एफडी मिली है। उनके नाम पर भाटापारा और नवापारा में साढ़े 4 करोड़ का स्कूल भवन है और कचना में एक फ्लैट है। इसके अलावा धमतरी, महासमुंद, बेमेतरा, सारंगढ में जमीन मिली है। महासमुंद में 5 और मुंगेली में 2 मैजिक गाड़ी जब्त की गई। 90 लाख की प्रिंटिंग मशीन भी सीज है। सभी का अनुमानित मूल्य 13 करोड़ रुपए आंका गया है।

सारे चेक डॉल्फिन स्कूल के
डॉल्फिन घोटाले में अब तक डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों ने शर्मा पर देनदारी का आरोप लगाते हुए अर्जी दी है। इनमें 80 से ज्यादा लोगों ने बाउंस चेक जमा करवाए हैं, जो डॉल्फिन स्कूल के नाम से जारी हुए थे। पुलिस ने सभी चेक कोर्ट में जमा कर दिए हैं। इसी आधार पर पीडितों को उनके पैसे लौटाए जाएंगे। अफसरों ने कहा कि जिन्हें पैसे वापस चाहिए, कोर्ट में अर्जी लगा सकते हैं लेकिन उन्हें लेनदारी का सबूत भी पेश करना होगा।


27 से ज्यादा एफआईआर
डॉल्फिन स्कूल घोटाले में रायपुर के अलावा प्रदेश के अन्य जिलों में 27 से ज्यादा केस दर्ज है। अब तक आरोपी की चार मामले में गिरफ्तारी हो चुकी है। महासमुंद पुलिस ने कुछ साल पहले वहां के पांच मामले में केस को खात्मा के लिए भेज दिया था। गिरफ्तारी के बाद ये केस फिर ओपन होंगे। इसके लिए कोर्ट से अनुमति लेनी होगी। आरोपी के खिलाफ धमतरी, भाठापारा, सारंगढ़ समेत कई जगहों पर केस हैं, जिनमें गिरफ्तारी बाकी है।

चालान देखकर शर्मा ने रोते हुए कहा

राजेश शर्मा ने कोर्ट में पेश दो हजार पन्ने के चालान की एक कॉपी अपने साथ जे ले जाने की इच्छा जाहिर की है। उसने कहा कि पूरा चालान पढ़ना चाहता है। कोर्ट से बाहर निकलकर वह रोने लगा। उसने पुलिस से पूछा कि वह जेल से जिंदा बाहर निकाल पाएगा कि नहीं? वहां मौजूद लोगों ने उसे समझाया। शर्मा की बेटी अब भी सखी सेंटर में है। उसे लेने के लिए अब तक कोई सामने नहीं आया है। रिश्तेदार भी बेटी की कस्टडी लेने से बच रहे हैं।

X
Dolphin scam
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..